पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हिसार:काठमंडी मामले में नगर निगम काे देने होंगे मलकीयत के सबूत, 19 काे हाेगी सुनवाई

हिसार8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

काठमंडी में अतिक्रमण मामले काे लेकर व्यापारियाें काे राहत के बाद काेर्ट ने नगर निगम पक्ष से मलकीयत के सबूत मांगे हैं। व्यापारियाें के पक्ष के वकील ने 13 अक्टूबर काे हुई सुनवाई के दाैरान काेर्ट के समक्ष कहा कि जिस जगह से नगर निगम अतिक्रमण हटवाने की बात कर रहा है वह जमीन प्राइवेट है यानी मलकीयत नगर निगम के पास नहीं है।

हालांकि इस मामले पर नगर निगम के पक्ष काे काेर्ट के समक्ष पेश कर रहे एडवाेकेट ने कहा कि ऐसा नहीं है। जमीन शामलाती रही है जिस पर नगर निगम ने ही सड़क इत्यादि का निर्माण किया है। सबूत के ताैर पर नगर निगम एस्टीमेट और मेजरमेंट बुक भी उपलब्ध करा सकता है। इसके अलावा नगर निगम इसका नक्शा भी दे सकता है जाे करीब 48 साल पुराना है। मंगलवार काे हुई सुनवाई के दाैरान दाेनाें पक्षाें की बहस हुई। व्यापारियाें की तरफ से आराेप लगाए कि उन्हें निगम स्टाफ द्वारा जानबूझकर परेशान किया जा रहा है।

काेर्ट ने दाेनाें पक्षाें की सुनवाई के बाद इस मामले में अागामी 19 अक्टूबर की तारीख रख दी है। इस दिन नगर निगम काे सबूत पेश करने हाेंगे। बता दें कि नगर निगम ने काठमंडी के व्यापारियाें काे अतिक्रमण मामले पर नाेटिस थमाए थे। नाेटिस के माध्यम से व्यापारियाें काे चेताया गया था कि वे अपना स्थायी अतिक्रमण हटा लें वरना नगर निगम पीला पंजा चलाएगा। निगम ने इसी प्रक्रिया के दाैरान व्यापारियाें काे अपनी अपनी दुकान की रजिस्ट्री की काॅपी भी नगर निगम में जमा कराने बारे व्यापारियाें काे कहा था मगर इनमें से करीब 15 ही लाेगाें ने रजिस्ट्रियां जमा कराई थी।

खबरें और भी हैं...