पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भास्कर पड़ताल:लापरवाही की चेन शहर बेचैन, कोरोना संक्रमण बढ़ने की तीन बड़ी वजह...

हिसारएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • 1. कोविड निर्देशों की परवाह नहीं की और सही मॉनिटरिंग भी नहीं हुई
  • 2. रोगियों की सही कॉन्टेक्ट हिस्ट्री का पता ही नहीं चला
  • 3. अब भी पब्लिक प्लेसिस पर लापरवाही आम बात

(भूपेश मथुरिया) अनलाॅक में लाेगाें की लापरवाही जितनी बढ़ी उससे कहीं अधिक रफ्तार से काेराेना संक्रमण फैला। महामारी से बचाव के तीन मूलमंत्राें काे नजरअंदाज करने से काेराेना की चेन लंबी हाेती गई। इससे न सिर्फ एक व्यक्ति, एक परिवार बल्कि शहर के कई परिवाराें सहित दूसरे जिलाें व राज्याें तक में रहने वाले लाेग भी संक्रमित हाेकर जुड़ते गए। इससे काेराेना के भयावह आंकड़े भी सामने आए। 
बीते 12 दिनाें के भीतर राेगियाें का आंकड़ा 300 से बढ़कर 627 पहुंच चुका है। जुलाई माह के ही 18 दिनाें में करीब साढ़े 300 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। 8 राेगियाें की मृत्यु हुई है जबकि एक राेगी की तीन रिपाेर्ट निगेटिव आने पर डीसी कालाेनी के वृद्ध ने दम ताेड़ दिया था। एेसे में अागामी दिनाें में हालात अाैर बेकाबू हाेंगे। स्वास्थ्य विभाग का अनुमान है कि आगामी प्रत्येक 10 दिन बाद राेगियाें की संख्या दाेगुना हाेती जाएगी।

यूं जुड़ती चली गईं संक्रमण की कड़ियां, 31 और केस मिले

  •  15 जून काे पीएलए मार्केट स्थित मेकअप मंत्रा में दिल्ली 
  • से ब्राइडल मेकअप के लिए युवती आई थी। बिना काेविड टेस्ट करवाए उसका मेकअप किया था। युवती की डबवाली में शादी हुई थी। 
  •  21 जून काे सच ज्वेलर्स संचालक अपनी पत्नी व बेटी के साथ मेकअप मंत्रा में आया था। इस दाैरान साथ वाले फ्यूजन सैलून पर गया था। भतीजे की शादी संबंधित बुकिंग करवाई थी। 
  •  22 जून काे मेकअप मंत्रा संचालिका काे पता चला कि जिस ब्राइडल का मेकअप किया था, वह काेराेना पाॅजिटिव है। तब संचालिका अपने पति के साथ काेविड टेस्ट करवाने फ्लू क्लीनिक गई थी।
  •  24 जून काे संचालिका पाॅजिटिव मिली, तब इसके पति ने सच ज्वेलर्स सहित तमाम ग्राहकाें काे फाेन करके अलर्ट किया था। ज्वेलर्स ने नजरअंदाज कर दिया था। इनकी बुकिंग कैंसिल हुई ताे दूसरे सैलून काे बुक कर लिया था। संचालिका से करीब 10 कर्मी व अन्य लाेग संक्रमित हुए। 
  •  28 व 29 जून काे ज्वेलर्स की भतीजे की शादी का जश्न चला। राजस्थान से लड़की वाले हिसार आए जिनकी काेविड टेस्टिंग नहीं करवाई थी। कार्यक्रमाें में काेराेना से बचाव के उपायाें काे अनदेखा किया गया था। 
  •  जुलाई के पहले सप्ताह में ज्वेलर्स सहित उसके परिवार के करीब 17 सदस्य संक्रमित मिले। इसके बाद संक्रमिताें के मिलने का सिलसिला जारी रहा। अभी तक सिरसा, फतेहाबाद व पीलीबंगा में रहने वाले लड़की पक्ष से चेन और लंबी हुई। अभी तक करीब 148 पाॅजिटिव हाे चुके हैं। 

ये भी बड़ी चेन रहीं

  • बरवाला के शहर में काेराेना की लंबी चेन बनी। एक ही परिवार के अलावा अासपास के करीब 17 से ज्यादा लाेग संक्रमित हुए थे।
  • हिसार शहर में सेक्टर 13 के अायुर्वेदिक डाॅक्टर से स्वयं के परिवार, रिश्तेदाराें सहित करीब 11 संक्रमित हुए थे। डाॅक्टर के रिश्तेदार की काेराेना से मृत्यु हुई थी।  

आइसाेलेशन वार्ड के पास पीपीसी में फ्लू क्लीनिक

फ्लू क्लीनिक का स्थान बदल दिया है। सिविल अस्पताल के मुख्य गेट पर ट्राइएज रूम है जहां रजिस्ट्रेशन हाेगा। इसके बाद अाइसाेलेशन वार्ड के समीप पीपीसी यानी पाेस्टपार्टम सेंटर है वहां फ्लू क्लीनिक, काेविड डिस्पेंसरी व काेविड टेस्टिंग सेवा काे शिफ्ट करके शुरू करवा दिया है। पीपीसी काे अस्पताल के अंदर बाल राेग विशेषज्ञ से सटे पलस्तर रूम में शिफ्ट कर दिया है। हालांकि इससे फायदा यह हाेगा कि ओपीडी गैलरी या इनडाेर परिसर काेराेना से काफी हद तक बचा रहेगा।   

यहां भी लापरवाही : तुरंत नहीं किया गया सूचित, काेविड रिपाेर्ट लेने के लिए पहुंचा फील्ड ऑफिसर और मजदूर तो पता चला दोनों संक्रमित हैं

मलेरिया विभाग की टीम काेराेना कंट्राेल से लेकर राेगियाें काे आइसाेलेट तक करने का काम कर रही है। पर, समय पर काेविड जांच में पाॅजिटिव मिलने वाले राेगियाें से तुरंत संपर्क नहीं करना और रिपाेर्ट लेने के लिए खुद विभाग की खिड़की पर आना, काेराेना की नई चेन बनने का कारण बन सकता है। शनिवार काे विभाग की काेविड रिपाेर्ट खिड़की पर टेस्ट करवाने वालाें की भीड़ लगी हुई थी। इस दाैरान खिड़की पर बिहार का रहने वाला 42 वर्षीय मजदूर और ताेशाम राेड स्थित सीजीएसटी कार्यालय के पास स्टेटिकल फील्ड औफिसर काेविड टेस्ट रिपाेर्ट लेने पहुंच गए। दोनों को वहां आकर पता चला कि वो संक्रमित हैं। 

यहां फेल हुआ सिस्टम

स्वास्थ्य विभाग के स्तर पर लापरवाही बरती गई। प्रारंभिक स्टेज में राेगी से संपूर्ण कांटेक्ट हिस्ट्री हासिल नहीं की। यह बात भी बाद में सामने आई की मेकअप मंत्रा के बाद दूसरे सैलून पर ब्राइडल सहित अन्य परिवार का मेकअप हुआ था। विभाग ने उस दाैरान ज्वेलर्स के खिलाफ एक्शन नहीं लिया था। तय नियमों की अनदेखी सब पर भारी पड़ी। 

सच ज्वेलर्स प्रकरण जांच में लापरवाही मिली तो दर्ज किया मामला

सच ज्वेलर्स प्रकरण में प्रशासन द्वारा गठित जांच कमेटी की रिपाेर्ट पर नियमों की अवहेलना करने केस दर्ज हुआ है। पुलिस जांच में दोषी पाए जाने वाले लोगों के खिलाफ आगामी कानूनी कार्रवाई हाेगी। गाैरतलब है कि 29 जून को लीलावती पैलेस में आयोजित एक विवाह समारोह में नियमों की अनदेखी का मामला सामने आया था जिसके चलते शहर के कई इलाकों में कोरोना संक्रमण फैला। इस मामले में उपायुक्त डॉ. प्रियंका सोनी ने एसडीएम की अध्यक्षता में एक जांच कमेटी का गठन किया था जिसमें पुलिस व स्वास्थ्य विभाग सहित अन्य विभागों के अधिकारी भी शामिल थे।

खबरें और भी हैं...