पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • Now Oxygen Concentrator Plant Will Be Set Up In Hansi Civil Hospital, Action Will Be Taken For Wrong Practice In Hospital

सुविधा:अब हांसी सिविल अस्पताल में लगेगा ऑक्सीजन कंसंट्रेटर प्लांट, अस्पताल में गलत प्रैक्टिस करने पर होगा एक्शन

हिसारएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अस्थायी अस्पताल के काम का जायजा लेते राज्यमंत्री अनूप धानक। - Dainik Bhaskar
अस्थायी अस्पताल के काम का जायजा लेते राज्यमंत्री अनूप धानक।
  • डीसी के निर्देश - रोस्टर के अनुसार ही कोविड अस्पतालों में ऑक्सीजन सप्लाई हो

जिलाधीश डॉ. प्रियंका सोनी ने जिले के विभिन्न अस्पतालों में उपचार और ऑक्सीजन प्रबंधन की कमान संभाल रहे आईएएस तथा एचसीएस अधिकारियों की बैठक ली। इसमें डॉ. सोनी ने कहा कि अस्पतालों के लिए ऑक्सिजन को लेकर हेल्पलाइन जारी की है। यह सुनिश्चित किया जाए कि जिले में कोरोना के उपचार के लिए अधिसूचित अस्पताल संचालक ऑक्सीजन का प्रबंधन बेहतर तरीके से करें।

इस संबंध में ऑक्सीजन आपूर्ति को लेकर रोस्टर तथा समय सारणी बनाई है। इस रोस्टर के अनुरूप सभी अस्पताल संचालक ऑक्सीजन की आपूर्ति लेना सूनिश्चित करें। प्रशासन द्वारा ऑक्सीजन मांग व आपूर्ति के संबंध में सभी प्रबंध सुनिश्चित करने के लिए प्लांट में एक एचसीएस तथा एचपीएस अधिकारी की दिन व रात्रि के समय ड्यूटी लगाई है।

अस्पतालों के लिए नियुक्त अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि अस्पतालों द्वारा निर्धारित समय पर ऑक्सीजन ली जाए। सिविल अस्पताल के बाद हांसी के सिविल अस्पताल में ऑक्सीजन कंसंट्रेटर प्लांट स्थापित किया जाएगा। इस दिशा में हांसी के एसडीएम डॉ. जितेंद्र अहलावत आगामी कार्यवाही को सुनिश्चित करें। इस बैठक में एडीसी अनीश यादव, प्रशिक्षणाधीन आईएएस अंकिता चौधरी व पंकज, एसडीएम डॉ. जितेंद्र अहलावत, जगदीप सिंह, राजेन्द्र कुमार, विकास यादव, एचसीएस सुरेश व अजय तथा सीटीएम मोहित से मौजूदा हालात की समीक्षा की।

राज्यमंत्री ने अस्पताल के काम का जायजा लिया

हरियाणा के पुरातत्व-संग्रहालय एवं श्रम-रोजगार राज्यमंत्री अनूप धानक ने जिंदल माॅडर्न स्कूल में बनाए जा रहे 500 बेड के अस्थायी अस्पताल के स्थापना कार्यों का गुरुवार काे निरीक्षण किया। उन्होंने तेज गति से कार्य करते हुए तय समयावधि में सभी जरूरी व्यवस्था पूरी करने के निर्देश दिए।

अस्पतालों में इलाज की दरों का बोर्ड लगा हो, अधिकारी शिकायत मिलने पर निदान करें

  • सभी अधिकारी स्वयं दवाओं, ऑक्सीजन, बेड प्रबंधन व डिस्चार्ज पॉलिसी जैसी जिम्मेवारी संभालें। अस्पतालों में बेड की उपलब्धता व उपचार दरों के बोर्ड लगे हों।
  • यदि किसी मरीज को इस सम्बंध में कोई शिकायत है तो उसका निवारण किया जाए। अस्पतालों में नियमित रूप से विजिट की जाए।
  • सभी अधिकारी अपने क्षेत्रों में लगाए गए इंसिडेंट कमांडर्स को उनकी ड्यूटी को लेकर निर्देश दें कि वे लॉकडाउन की उल्लंघना पर जरूरी एक्शन लें।
  • सभी अस्पताल संचालक को सरकार तथा प्रशासन द्वारा जारी दिशा निर्देशों की हर हाल में अनुपालना सुनिश्चित करनी होगी। ऐसे सभी कदम उठाए जाएं जिससे रेमेडिसिवर जैसी दवाओं, निर्धारित दरों पर उपचार व बैड की उपलब्धता पर पारदर्शिता रहे।
  • यदि किसी भी अस्पताल में गलत प्रेक्टिस का मामला आए तो नियमानुसार कार्रवाई की जाए। इसके साथ ही उन्होंने लॉकडाउन के दौरान जारी की जाने वाली अनुमतियों को लेकर भी सभी एसडीएम को जरूरी निर्देश दिए।
खबरें और भी हैं...