हांसी में पूर्व फौजी की हत्या का मामला:35 साल का रितुराज रह चुका था जींद में SPO, पुलिस ने 23 दिन बाद आरोपियों को पकड़ने के लिए रखा 10 हजार रुपए का इनाम

हिसारएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हांसी में सीसीटीवी कैमरे में कैद हुई हत्या की वारदात के बाद बाइक पर सवार होकर भाग रहे आरोपियों की तस्वीर। - Dainik Bhaskar
हांसी में सीसीटीवी कैमरे में कैद हुई हत्या की वारदात के बाद बाइक पर सवार होकर भाग रहे आरोपियों की तस्वीर।

हिसार जिले के हांसी शहर में हुए पूर्व फौजी हत्याकांड मामले में 23 दिन बीत जाने के बावजूद पुलिस खाली हाथ है। हत्यारों को पकड़ने के लिए पुलिस ने दस हजार का इनाम रखा है। घटना की सीसीटीवी पुलिस को मिल चुकी है, लेकिन हत्यारों की पहचान नहीं हो पा रही है। इसके अलावा पूर्व फौजी रितूराज की हत्या क्यों की गई इस कारण तक भी पुलिस नहीं पहुंच पाई है।

मृतक रितूराज फाइल फोटो
मृतक रितूराज फाइल फोटो

हांसी के एसपी नितिका गहलोत ने बताया कि रितुराज की हत्या 20 अगस्त शाम को की गई थी, जब वह राम सिंह कॉलोनी में अपनी दुकान के सामने बैंच पर बैठा था। बाइक पर आए दो नौजवान युवकों में से लड़के ने रितूराज के माथे में गोली मार कर उसकी हत्या की थी। पुलिस ने घटनास्थल के आसपास के कैमरे की फुटेज प्राप्त करके आरोपियों की तलाश की और काफी लोगों से मुकदमा के संबंध में गहन पूछताछ की। वारदात में आसपास के कैमरे से दो लड़कों की संदिग्ध फोटो मिली हैं तथा कोई सुराग नहीं लगा है। जो भी कोई हत्या आरोपियों का सुराग बतायेगा उसका नाम गुप्त रखा जायेगा व पुलिस की तरफ से 10 हजार रुपए इनाम दिया जायेगा। दोनों हत्यारे हीरो कंपनी की सीडी डिलेक्स बाइक पर वहां पर आए थे जिस पर काले रंग का बैग भी बंधा हुआ है।

हांसी के शेखपुरा गांव के रहने वाले 35 साल के रितूराज आर्मी से रिटायर्ड थे और जींद पुलिस के SPO भी रह चुके थे। रितूराज कुछ महीनों से हांसी की राम सिंह कॉलोनी में किराने की दुकान चला रहे थे। उनकी मां कई सालों से आंखों से देख नहीं सकती है और पिता चतर सिंह भी कैंसर के मरीज हैं। पत्नी गर्भवती है और 12 वर्षीय बेटा रितिक भी है। गोली मारने वाले दो युवक थे, लेकिन अब तक हत्यारों का कोई सुराग नहीं लग पाया है।

खबरें और भी हैं...