पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • Portal Error, Combination Of Subjects In BA And Tension Of Students Increased Due To Non availability Of Favorite College

मिशन-एडमिशन:पाेर्टल का ऐरर, बीए में सब्जेक्ट्स का काॅम्बिनेशन और मनपसंद काॅलेज न मिलने से बढ़ी स्टूडेंंट्स की टेंशन

हिसार13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जल्दबाजी में सब्जेक्ट काॅम्बिनेशन भरने के कारण नहीं आया पहली मेरिट लिस्ट में नाम

हायर एजूकेशन विभाग की तरफ से जारी पहली मेरिट लिस्ट के बाद भी स्टूडेंट्स के सामने दाखिला लेने के लिए बहुत सी परेशानियाें का सामना करना पड़ रहा है। अब स्टूडेंट्स काे ऑनलाइन फीस जमा कराने से लेकर सब्जेक्ट काॅम्बिनेशन की पूरी जानकारी न हाेने कारण अपने मनपसंद के काॅलेज में दाखिला नहीं ले पा रहे हैं।

दूसरी ओर पाेर्टल भी पूरे दिन बिजी रहा। पाेर्टल पर बार-बार ऐरर आने के कारण स्टूडेंट्स ऑनलाइन फीस जमा नहीं करा पाए। इसके कारण अधिकतर स्टूडेंट्स काॅलेजाें में ऑफलाइन माेड में फीस जमा कराते नजर आए। एक्सपर्ट्स के मुताबिक ज्यादातर स्टूडेंट्स ने साइबर कैफे से ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराया है। साइबर संचालकाें ने जल्दबाजी के चक्कर में बीए में कम सब्जेक्ट काम्बिनेशन फील किए हैं। जिससे स्टूडेंट्स के अंक ज्यादा हाेने के बावजूद उनका पहली मेरिट लिस्ट में नाम नहीं आ सका है। वहीं जिन स्टूडेंट्स ने बीए में ज्यादा से ज्यादा काम्बिनेशन फील किया है। उनका नाम मेरिट लिस्ट में आया है। इस बार सब्जेक्ट्स काॅम्बिनेशन के मुताबिक मेरिट लिस्ट जारी की गई है।

ओपन काउंसिलिंग के लिए 28 सितंबर काे हाेगा पाेर्टल ओपन
जीजेयू से सम्बंधित ओडीएम काॅलेज में पहली मेरिट लिस्ट जारी हाेने के बाद दिनभर फीस जमा कराने और डाॅक्यूमेंट्स वेरिफिकेशन कराने के लिए स्टूडेंट्स की भीड़ देखने काे मिली। काॅलेज के निदेशक डाॅ. अजीत सिंह ने बताया कि इस बार ऑल इंडिया केटेगरी की मेरिट सूची में सामान्य वर्ग में बीए के लिए कट ऑफ 88 प्रतिशत, बी कॉम में 87.4 प्रतिशत, बीएससी मेडिकल में 78.8 प्रतिशत, बीएससी नॉन मेडिकल में 93.6 प्रतिशत रही है। वहीं हरियाणा ओपन वर्ग की मेरिट सूचि में सामान्य वर्ग में बीए के लिए कट ऑफ प्रतिशत 59.4 प्रतिशत, बीकॉम में 72.8 प्रतिशत, बीएससी मेडिकल में 77.6 प्रतिशत, बीएससी नॉन मेडिकल में 68.6 प्रतिशत रही है। उन्हाेंने बताया कि काॅलेज में इस सत्र के स्नातक के रेगुलर बीए, बीकॉम, बीएससी मेडिकल, बीएससी नॉन मेडिकल व बीएससी कंप्यूटर साइंस की प्रवेश प्रक्रिया चल रही है। जिन विद्यार्थियों का नाम पहली सूची में नहीं आया है। वो विद्यार्थी काॅलेज में लगे एडमिशन हेल्प डेस्क पर प्रवेश से सम्बंधित मार्गदर्शन ले सकते हैं।

ओपन काउंसिलिंग के बाद दाेबारा मिलेगा माैका
गवर्नमेंट काॅलेज के डाॅ. सुखबीर दूहन ने बताया कि विभाग द्वारा अभी दूसरी मेरिट लिस्ट जारी हाेनी बाकी है। दूसरी मेरिट लिस्ट में एडमिशन पूरे हाेने के बाद विभाग द्वारा दाेबारा पाेर्टल खाेला जाएगा और उन स्टूडेंट्स काे माैका दिया जाएगा। इनका दाेनाें मेरिट लिस्ट में नाम नहीं आया है। वह दाेबारा पाेर्टल पर सब्जेक्ट काॅम्बिनेशन भर कर अप्लाई करेंगे।

कुछ कॉलेजों में यह भी है सुविधा
कुछ काॅलेजाें ने स्टूडेंट्स काे फीस जमा कराने में किसी प्रकार की परेशानी न आए, इसके लिए फाेन पे, गूगल पे, क्यूआर काेड आदि कैंपस में लगाए हुए हैं। जाट काॅलेज के नाेडल अधिकारी राजेश ने बताया कि जाे स्टूडेंट्स पाेर्टल पर ऑनलाइन फीस जमा नहीं कर पा रहे हैं। उनके लिए कैंपस में गूगल पे, फाेन पे और काॅलेज का क्यूआर काेड जारी किया गया है। जिससे स्टूडेंट्स स्कैन कर आसानी से फीस जमा कर सकते हैं। अब कॉलेजों में भी डिजिटलाइजेशन हो रहा है जो अच्छा कदम है।

पीएसएफ के सदस्यों ने चलाया हस्ताक्षर अभियान
प्रोग्रेसिव स्टूडेंट्स फ्रंट-पीएसएफ ने दयानन्द स्नातकोत्तर काॅलेज में प्रथम वर्ष के दाखिले को लेकर हेल्प डेस्क लगाया। हेल्प डेस्क के दौरान मौजूद प्रोग्रेसिव स्टूडेंट्स फ्रंट की सदस्य सोनिया ने बताया कि अभिभावकों और छात्राओं में उच्चतर शिक्षा विभाग की ऑनलाइन दाखिला प्रक्रिया को लेकर रोष देखने को मिल रहा है। क्याेंकि इस बार छात्रओं काे उनकी मनपसंद कॉलेज और सब्जेक्ट काॅम्बिनेशन नहीं मिल पाए हैं। वहीं आदित्य ने बताया कि पीएसएफ के सदस्यों ने मांगों को लेकर हस्ताक्षर अभियान चलाया। क्योंकि अच्छे अंक होने के बाबजूद सभी स्टूडेंट्स का दाखिला नहीं होगा, क्योंकि सरकारी सीटों की संख्या में बढ़ोतरी नहीं की गई। हर साल स्टूडेंट्स की संख्या बढ़ रही है। इसीलिए सभी उच्च शिक्षण संस्थान की सीटों में 2 गुणा बढ़ोतरी की जाए। ताकि सभी छात्र छात्राओं के दाखिले हो सके।

खबरें और भी हैं...