पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

इलाज में अड़चन:ब्लैक फंगस रोकने में कारगर पोसाकोनाजोल टेबलेट्स अग्रोहा कॉलेज में 15 दिन से नहीं मिलीं

हिसारएक महीने पहलेलेखक: भूपेश मथुरिया
  • कॉपी लिंक
  • ऑपरेशन के बाद भी 90 दिन लेनी होती है पोसाकोनाजोल दवा, मगर उपलब्ध नहीं
  • मार्केट में उपलब्ध -दवा काफी महंगी, 10 टेबलेट्स का एक पत्ता 5 से 6 हजार का

ब्लैक फंगस को बढ़ने से रोकने में कारगर पोसाकोनाजोल टेबलेट्स अग्रोहा मेडिकल कॉलेज में खत्म हो चुकी हैं। पिछले 15 दिन से मरीजों को यह टेबलेट नहीं मिल रही हैं। ऐसे में जिन रोगियों को एम्फोटेरिसिन बी व सर्जरी का ट्रीटमेंट हो चुका है, उसके बाद फंगस से पूरी तरह निजात पाने के लिए 90 दिन तक टेबलेट्स का सेवन करना जरूरी है। यह दवाई बाजार में तो उपलब्ध है मगर काफी महंगी है।

10 गोलियों के एक पत्ते की कीमत 5 से 6 हजार रुपये तक है। ऐसे 9 पत्ते खरीदने के लिए 45 से 55 हजार रुपये तक खर्च करने पड़ेंगे। निजी अस्पतालों के मुकाबले मेडिकल कॉलेज में अधिकांश वही रोगी उपचार के लिए दाखिल हो रहे हैं जिनकी आर्थिक स्थिति ज्यादा ठीक नहीं है और इलाज का भारी-भरकम खर्च उठाने में असमर्थ हैं। मेडिकल कॉलेज प्रबंधन के अनुसार 50 मरीजों को दवाइयां उपलब्ध करवा चुके हैं लेकिन 15 दिन से डिमांड के बावजूद टेबलेट्स की सप्लाई नहीं है। इससे दवा से वंचित मरीजों को फंगस बढ़ने की चिंता होना लाजिमी है।

बाजार में शॉर्टेज नहीं है
शहर की निजी फार्मा एजेंसी के अनुसार बाजार में पोसाकोनाजोल टेबलेट्स उपलब्ध हैं। इनकी कोई शॉर्टेज नहीं है। पर काफी महंगी जरूर है। काफी मेडिकल स्टोर्स पर टेबलेट्स खरीदकर बेच रहे हैं। 90 दिन का कोर्स है, जिसके चलते 9 पत्ते दवा खरीदने पड़ते हैं। एम्फोटेरिसिन बी की कोई कमी नहीं है। अस्पताल अगर और ऑर्डर देंगे तो हैदराबाद की कंपनी से मंगवा लिए जाएंगे।

सरकार से टेबलेट्स की डिमांड कर चुके, सप्लाई नहीं आई : डॉ. ग्रोवर पिछले 15 दिन से पोसाकोनाजोल टेबलेट्स खत्म हैं। टेबलेट्स उपलब्ध करवाने के लिए सरकार से डिमांड की हुई है मगर उसकी सप्लाई नहीं मिली है। सरकार की तरफ से स्पष्ट रिप्लाई नहीं आया है कि अपनी तरफ से खरीद लें या हम उपलब्ध करवा रहे हैं। इसके अलावा एम्फोटेरिसिन बी की कोई कमी नहीं है। सभी मरीजों को इंजेक्शन लग रहे हैं।' डॉ. अनूप ग्रोवर, मीडिया प्रभारी, अग्रोहा मेडिकल कॉलेज।

खबरें और भी हैं...