आदमपुर में एकतरफा होगा उपचुनाव:बिजली मंत्री रणजीत बोले- जो भी कुलदीप के सामने चुनाव लड़ना चाहे, वो सोच-समझकर आए

हिसार5 महीने पहले
बिजली मंत्री रणजीत सिंह और कुलदीप बिश्नोई बच्चों को सम्मानित करते हुए।

हरियाणा के हिसार में बिश्नोई मंदिर में गुरु जंभेश्वर महाराज का अवतार दिवस और जन्माष्टमी मनाई गई। इस मौके पर बिजली मंत्री रणजीत सिंह मुख्य अतिथि के रुप में पहुंचे। रणजीत सिंह ने सीएम की ओर से गुरु जंभेश्वर मंदिर को 21 लाख रुपये और अपने कोटे से 5 लाख रुपये देने का ऐलान किया। रणजीत सिंह ने कहा कि जाट और बिश्नोई अलग नहीं है। सभी आर्य के बेटे हैं।

इस मौके पर रणजीत सिंह ने सियासत से जुड़ी कई बातें कीं। उन्होंने कहा, 'मैं अपने भाई ओपी चौटाला के खिलाफ लड़ता रहा हूं। चुनाव लड़ना गलत बात नहीं है। आदमपुर में जब उपचुनाव होगा तो कुलदीप बिश्नोई की जीत के लिए दिन रात काम करेंगे। यह चुनाव एकतरफा होगा। जो भी आए, वो सोच-समझकर ही मैदान में आए। मैं 1 सिंतबर को आदमपुर में बैठक करने जा रहा हूं। अगर किसी को कोई समस्या है तो उसका समाधान मीटिंग में तुरंत किया जाएगा। मैं ट्रक भरकर सामान लेकर आऊंगा।'

रणजीत सिंह ने कुलदीप बिश्नोई के BJP में शामिल होने के पीछे की कहानी का भी खुलासा किया। उन्होंने कहा, 'कई दिनों से हम भाजपा विधायक दूड़ाराम से बात कर रहे थे कि वह कुलदीप को बीजेपी में ले आएं। दूडाराम की इच्छा थी कि सीएम से बात करें। इस पर मैंने कुलदीप को फोन किया और कहा कि चाय पीने आना है। उसके बाद हमने चाय पी। जब कुलदीप का मन बन गया तो हमने सीएम से बात करवा दी। कुलदीप को भी अंदाजा नहीं था कि इतना अच्छा स्वागत होगा। उन्हें भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और अमित शाह ने घर बुलाया। कुलदीप को आगे भी सम्मान मिलता रहेगा।'

आज का दिन शुभ

इस मौके पर मौजूद कुलदीप बिश्नोई ने कहा, 'बिश्नोई समाज छोटा जरूर है मगर एक माला में पिरोए हुए है। चौधरी देवीलाल और चौधरी भजनलाल के राजनैतिक मतभेद रहे, लेकिन सामाजिक रुप से दोनों एक-दूसरे को भाई मानते थे। चौधरी देवीलाल की विरासत अब चौधरी रणजीत सिंह संभाले हुए हैं। आज मंच पर चौधरी देवीलाल का बेटा भी है और चौधरी भजनलाल का बेटा भी। यह दिन बहुत शुभ है। रणजीत सिंह का आशीर्वाद हमेशा मुझ पर रहा है। मुझे कभी किसी काम के लिए ना नहीं की।'

इस कार्यक्रम में बिश्नोई समाज के बच्चों को सम्मानित भी किया गया।