पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • Pran Vayu Ambassadors Became Red Cross And 14 NGOs Took Oxygen Cylinders To The Homes Of 10 Patients On The First Day

प्रशासन की पहल - मिशन ऑक्सीजन:प्राण वायु दूत बनीं रेडक्रॉस और 14 स्वयंसेवी संस्थाएं पहले दिन 10 मरीजों के घर पहुंचाए ऑक्सीजन सिलेंडर

हिसारएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डाेर टू डाेर ऑक्सीजन गैस सिलेंडर की सप्लाई देते हुए टीम। - Dainik Bhaskar
डाेर टू डाेर ऑक्सीजन गैस सिलेंडर की सप्लाई देते हुए टीम।
  • ऑक्सीजन चाहिए तो oxygenhry.in पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन जरूरी
  • खाली सिलेंडर का इंतजाम खुद करना होगा रिफील और डिलीवरी का भी लगेगा चार्ज

हाेम आइसाेलेट मरीजाें काे साेमवार से डाेर टू डाेर ऑक्सीजन गैस सिलेंडर पहुंचाने शुरू कर दिए हैं। जिला प्रशासन ने पहले दिन सेवा में जुटी संस्थाओं के सहयाेग से 10 रोगियों के घराें पर ऑक्सीजन गैस सिलेंडर पहुंचाए।

प्रशासन घर तक सिलेंडर पहुंचाने के लिए हाेम डिलीवरी चार्ज भी लेगा। इसकाे लेकर प्रदेश स्तर पर उच्च अधिकारियाें के बीच मंथन चल रहा है। रिफिलिंग चार्ज गैस एजेंसी लेगी, जिसमें छाेटे बड़े ऑक्सीजन सिलेंडर के हिसाब से 100 रुपये से लेकर 500 रुपये चार्ज हाेगा।

डीसी डाॅ. प्रियंका साेनी ने बताया अभियान मिशन ऑक्सीजन के तहत रेडक्रॉस ने स्वयंसेवी संस्थाओं के साथ मिलकर होम आइसोलेट मरीजों के लिए ऑक्सीजन आपूर्ति सेवा शुरू कर दी है। बातें दकि जिले में करीब 6452 हाेम आइसाेलेट हैं। इनमें से हर राेज औसत करीब 200 लाेग ऑक्सीजन की डिमांड करने वाले हैं।

जिले में अभी 6452 रोगी घरों में, रोजाना औसतन 200 मरीज करते हैं ऑक्सीजन सिलेंडर की डिमांड

जानिए, कैसे करें ऑक्सीजन के लिए पाेर्टल पर पंजीकरण

कोरोना संक्रमित होम आइसोलेट व अन्य गंभीर रोगों से ग्रस्त मरीजों के लिए ऑक्सीजन की सुविधा प्राप्त करने के लिए ऑक्सीजनएचआरवार्ईडॉटइन (oxygenhry.in) पोर्टल पर पंजीकरण करवाना अनिवार्य है। पाेर्टल खाेलते ही इसमें सिटीजन ऑक्सीजन रिक्वायरमेंट का फाेर्म भरना हाेगा। इसमें पहले शहर का नाम, फिर जिस स्थान के लिए ऑक्सीजन की जरूरत है वह स्थान, इसके बाद ऑक्सीजन लेवल, अगले काॅलम में सिलेंडर साइज के दाे ऑप्शन हाेंगे इसमें बड़ा व छाेटा किसी पर क्लिक करना है।

फिर पेशेंट का नाम, आधार नंबर, माेबाइल नंबर, फिर ऑक्सीजन लेवल के साथ पेशेंट की फाेटाे व डाॅक्टर से लिखवाई हुई पर्ची यह फाेटाे 5 एमबी तक की हाेनी चाहिए। ये अपलाेड करने के बाद लेफ्ट साइट में जाकर सबमिट कर दें। इस सारी प्रक्रिया के बाद इस तरह से ऑक्सीजन डिलीवरी के लिए आपका पंजीकरण हाे जाएगा और आपको घर पर ही ऑक्सीजन सिलेंडर मिल जाएगा।

इंतजाम नगर निगम की गाड़ियों से हाेगी हाेम डिलीवरी

डीसी ने बताया इसमें 14 संस्थाएं फिलहाल शामिल की हैं। इसमें जिला रेडक्रॉस सोसायटी के अलावा भारत विकास परिषद विवेकानंद शाखा हिसार, तेरापंथ युवक परिषद हांसी, संत निरंकारी मिशन, मानव सेवा समिति, इंस्पायर इंडिया एनजीओ, भारत विकास परिषद शाखा मंडी आदमपुर, श्री श्याम मिलन परिवार, नेशन सोशल ऑर्गेनाइजेशन, जन सेवा समिति मंडी आदमपुर, भारत विकास परिषद शाखा उकलाना, जन सेवा समिति, भाभड़ा बिरादरी सेवा ट्रस्ट, सावन कृपाल रूहानी मिशन तथा श्री गुरुद्वारा साहिब मंडी आदमपुर ऑक्सीजन की होम डिलीवरी देने के कार्य में अपना सहयोग कर रही हैं। ये संस्थाएं सिलेंडर एकत्रित कर इन्हें भरवाने तथा नगर-निगम की गाड़ियों के माध्यम से होम आइसोलेट मरीजों के लिए ऑक्सीजन आपूर्ति कर रही है।

फिलहाल आवेदक के पास खुद का हाेना चाहिए खाली ऑक्सीजन सिलेंडर

आवेदक के पास रिफिलिंग के लिए अपना सिलेंडर होना अनिवार्य है। रिफिलिंग आवेदन स्वीकार होते ही आवेदक के पास एसएमएस के माध्यम से सूचना भेजी जाएगी। उपायुक्त ने आमजन से आह्वान किया कि केवल ऑक्सीजन जरूरतमंदों के लिए ही आवेदन किया जाए। उन्होंने नागरिकों से अपील करते हुए कहा कि यदि उनके पास खाली सिलेंडर हैं वे जिला रेडक्रॉस सोसाइटी के कार्यालय में जमा करवा दें ताकि ये जरूरतमंदों के काम आ सके।

खबरें और भी हैं...