पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नई तकनीक:रेलवे ने तैयार करवाया यूवीसी डिवाॅइस, रोबोट की मदद से ट्रेन की बोगी को मात्र 2:30 मिनट में करेगा सैनिटाइज

हिसार21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ट्रेन के भीतर यूवीसी डिवाॅइस। - Dainik Bhaskar
ट्रेन के भीतर यूवीसी डिवाॅइस।
  • रेल यात्रियों को कोरोना से बचाने के लिए विभाग की ओर से उठाया अहम कदम

यात्रियों को संक्रमण से बचाने के लिए रेलवे विभाग ने अनूठी पहल की है। यूवीसी नामक डिवाॅइस तैयार कराई है। इसे रोबोट संचालित करेगा। डिवाॅइस से मात्र 2:30 मिनट में एक बोगी को सैनिटाइज किया जा सकेगा। इस तकनीक का इस्तेमाल पहली बार किया जा रहा है। रिमोट कंट्रोल से चलने वाली इस मशीन के इस्तेमाल से पूरी रेलगाड़ी को स्वचालित रूप से कीटाणुरहित किया जाएगा। यह तकनीक उन स्थानों पर भी कारगर है, जहां तक किसी अन्य मौजूदा प्रक्रिया द्वारा नहीं पहुंचा जा सकता है।

चूंकि इस प्रक्रिया में मनु्ष्य की कोई भागीदारी नहीं होती अत: यह यूवीसी तकनीक पूरी तरह सुरक्षित और उपयोग के अनुकूल है। इस मशीन को वाशिंग लाइन पर सुगमता के साथ इस्तेमाल में लाया जा सकता है। यह तकनीक कम्पार्टमेंट क्षेत्र के शत-प्रतिशत कीटाणुशोधन के लिए यूवीसी लाइट्स के साथ लगे स्वायत्त पंखों वाले रोबोटिक उपकरण का उपयोग करती है। यह डिवाइस ऑपरेटर और आस-पास की सुरक्षा के लिए वायरलेस रिमोट कंट्रोल की मदद से संचालित होता है।

अध्ययन के बाद इस तकनीक को किया अनुमोदित
रेलवे के अनुसार सरकार द्वारा प्रमाणित प्रयोगशाला द्वारा किए गए परीक्षण और जांच के बाद यह पाया गया है कि यह तकनीक जीवाणु, कीटाणु और रोगाणु को 99.99% तक मार देती है। इस तकनीक को भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद, सीएसआईओ और तनुवास अध्ययन केंद्र, भारत सरकार द्वारा अनुमोदित किया गया है। एअर इंडिया एक्सप्रेस केबिन को कीटाणुरहित करने के लिए पहले से ही इस तकनीक का इस्तेमाल कर रही है।

यह है तकनीक
इसी डिवाॅइस से पूरे रैक के बीस कोच को सैनिटाइज करने में 40-45 मिनट का वक्त लगता है। फिलहाल रेलवे की ओर से दिल्ली, लखनऊ शताब्दी में प्रयोगिक तौर पर यह शुरू किया है। कालका शताब्दी और अन्य में यह जल्द ही शुरू होने वाला है। नाॅर्दन रेलवे के प्रवक्ता दीपक कुमार के अनुसार आने वाले दिनों में इसे अधिक से अधिक ट्रेनों में इस्तेमाल किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...