पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • Regarding Rajguru Market Parking, The Agency Wrote To The Corporation – You Will Be Able To Deposit The Security Amount If It Is Fully Unlocked

पार्किंग टेंडर:राजगुरु मार्केट पार्किंग काे लेकर एजेंसी ने निगम काे लिखा- पूरी तरह अनलाॅक होने पर करा पाएंगे सिक्याेरिटी राशि जमा

हिसार6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • एजेंसी संचालक ने पार्किंग व्यवस्था संभालने के लिए एक जुलाई तक का मांगा समय
  • प्रशासन सात दिन का समय पूरा होने के बाद लेगा कोई फैसला

राजगुरु मार्केट पार्किंग का टेंडर दिए जाने के बाद भी मामला सिरे चढ़ता नजर नहीं आ रहा। पार्किंग लेने वाली दिल्ली की एजेंसी ने शनिवार काे नगर निगम काे लिखा है कि उन्हें पेमेंट जमा कराने के लिए समय दिया जाए, क्योंकि फिलहाल पूरी तरह से अनलाॅक नहीं हाे पाया है। जब तक अनलाॅक न हाे वे पेमेंट जमा नहीं करा पाएंगे।

एजेंसी संचालक का कहना है कि 1 जुलाई से वे पार्किंग संभाल लेंगे। मामले के बाद अब नगर निगम प्रशासन काे फैसला लेना है कि वे सात दिन का समय पूरा हाेने के बाद क्या फैसला लेते हैं।

पूरे दिन चर्चा में रही व्यापारी की ऑडियाे वायरल का मामला: राजगुरु मार्केट की पार्किंग काे लेकर हुए टेंडर में व्यापारी द्वारा हिस्सेदारी करने की ऑडियाे वायरल हाेने के बाद पूरा दिन यह मामला व्यापारियाें के बीच चर्चा में रहा।

व्यापारियाें के बीच आपस में मंथन भी हुआ कि आखिर काैन ऐसा व्यक्ति है जाे इस तरह की हरकत पर उतर आया है। हालांकि व्यापारी एसाेसिएशन ने ऐलान किया है कि वे पार्किंग का टेंडर किसी एजेंसी काे देने के हक में नहीं है। अगर नगर निगम प्रशासन ऐसा करता है ताे एसाेसिएशन व ऑर्गेनाइजेशन विराेध करेगी।

प्रशासन को समस्याओं ध्यान देना चाहिए

राजगुरु मार्केट की पार्किंग अगर प्रशासन काे किसी एजेंसी काे काॅन्ट्रेक्ट पर देनी थी ताे कम से कम व्यापारियाें की बात ताे सुननी चाहिए। आज मार्केट की सड़कें खराब हैं। सीवरेज सिस्टम, टाॅयलेट व यूरिनल सब ठप पड़े हैं। निगम प्रशासन काे मार्केट की समस्याओं पर भी ध्यान देना चाहिए।'' - सुरेंद्र बजाज, महासचिव, राजगुरु मार्केट एसाेसिएशन।

विरोध है तो प्रशासन देखेगा

अभी पूरी तरह से अनलाॅक नहीं हुआ है। इसलिए हमने लिखकर दिया है कि वे 1 जुलाई से पार्किंग संभालेंगे। व्यापारियाें का अगर विराेध है ताे यह ताे नगर निगम प्रशासन काे देखना है प्रशासन ने टेंडर निकाला है ताे उन्हें टेंडर मिला है।'' - संजीव काेशिक, एजेंसी संचालक।

खबरें और भी हैं...