• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • The Ban On The Removal Of Jat College Principal From The Post Till Further Orders, The Society Cannot Take Policy Decisions

वकील योगेश सिहाग का तर्क:जाट काॅलेज प्राचार्य काे पद से हटाए जाने पर अगले आदेश तक लगी रोक, सोसाइटी नीतिगत फैसले नहीं ले सकती

हिसार22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कुलेरी में एनसीसी कैडेट्स को प्रशंसा पत्र व स्मृति चिह्न देकर सम्मानित करते हुए जिला कोऑर्डिनेटर नरेंद्र दुहन, प्राचार्य जगमहेंद्र ढांडा व अन्य - Dainik Bhaskar
कुलेरी में एनसीसी कैडेट्स को प्रशंसा पत्र व स्मृति चिह्न देकर सम्मानित करते हुए जिला कोऑर्डिनेटर नरेंद्र दुहन, प्राचार्य जगमहेंद्र ढांडा व अन्य
  • जीजेयू प्रशासन को भी मामले में स्थिति स्पष्ट करने के निर्देश, 11 को होगी अगली सुनवाई

जाट काॅलेज के प्रिंसीपल राजेंद्र सिंह को हटाए जाने के मामले में गुरुवार काे जिला एवं सत्र न्यायालय ने यथास्थिति कायम रखने के आदेश जारी किए हैं। अदालत ने अगली सुनवाई के लिए 11 जनवरी की तिथि तय की है। प्रिंसीपल की ओर से अदालत में पैरवी कर रहे अधिवक्ता योगेश सिहाग ने बताया कि उन्होंने अदालत के सामने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि जाट एजुकेशन सोसाइटी का कार्यकाल मई 2020 में समाप्त हो गया था।

ऐसे में सोसाइटी को नीतिगत फैसला लेने के राइट नहीं है। इसके बाद भी प्रिंसीपल को रिलीव किया जाना न्यायोचित नहीं है। इस पर अदालत ने जिला रजिस्ट्रार फर्म एंड सोसाइटी को स्टेटस क्लीयर करने की बात कही है। साथ ही जीजेयू प्रशासन को भी स्थिति स्पष्ट करने के निर्देश दिए हैं।

उल्लेखनीय है कि जाट एजुकेशन सोसाइटी ने 31 दिसंबर 2021 को अचानक जाट काॅलेज के प्रिंसीपल राजेंद्र धांगड़ को रिलीव कर दिया। उनके स्थान पर किसी सीनियर को नियुक्त कर चार्ज देने के आदेश भी जारी कर दिया। लेकिन प्रिंसीपल राजेंद्र सिंह धांगड़ ने दूसरे काे चार्ज नहीं दिया और सोसाइटी आदेश के खिलाफ न्यायालय की शरण ली थी। इस मामले में कई अन्य काॅलेजियम सदस्याें ने भी आपत्ति जताते हुए साेसाइटी के निर्णय काे गलत ठहराया था।

खबरें और भी हैं...