पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • The Case Of Describing Himself As The Chief Justice And The Chief Justice's Secretary For The Reinstatement Of The Dismissed ALM

रिमांड के दौरान अवतार से सिम बरामद, बर्खास्त एएलएम पकड़ा:बर्खास्त एएलएम की बहाली के लिए खुद को मुख्य न्यायाधीश व मुख्य न्यायाधीश का सचिव बताने का मामला

हिसार9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

छेड़छाड़ मामले में सजायाफ्ता व बर्खास्त सहायक लाइनमैन (एएलएम) फतेहाबाद के मेहूवाल निवासी बलवान सिंह की बहाली के लिए बिजली निगम के तत्कालीन एमडी बलकार सिंह को खुद को मुख्य न्यायाधीश व मुख्य न्यायाधीश का सचिव बताने के मामले में पुलिस ने कैथल के गांव फर्श माजरा वासी अवतार सिंह से रिमांड के दौरान सिम बरामद कर लिया है। आरोपी ने फोन किसी और व्यक्ति को बेच दिया जोकि बरामद करना है।

अवतार सिंह ने एमडी से एएलएम की सिफारिश लगाने के लिए इसी सिम से कॉल की थी। आरोपी अवतार सिंह ने बताया कि दोस्ती व भाईचारे में उक्त कदम उठाया था। वहीं इस मामले में बर्खास्त एएलएम बलवान सिंह भी पुलिस के हत्थे चढ़ गया है। मंडी आदमपुर के चूली खुर्द निवासी रविंद्र की गिरफ्तारी होना बाकी है।

इस मामले में तत्कालीन एमडी की शिकायत पर आरोपियों के खिलाफ सरकारी अधिकारी पर अनैतिक व अवैध काम कराने का दबाव बनाने के आरोप में धारा 170, 177, 419, 34, 120 के तहत केस दर्ज हुआ था। गौरतलब है कि 2010 में बलवान सिंह ने सब डिविजन रतिया में बतौर सहायक लाइनमैन पद पर जॉइन किया था। छह माह बाद सब डिविजन भट्ट में तबादला हो गया था। इसकी ढिंगसरा कंप्लेंट सेंटर पर ड्यूटी थी।

इसके खिलाफ 1 मार्च 2013 को सदर थाना फतेहाबाद में नाबालिग लड़की से छेड़छाड़ करने पर केस दर्ज हुआ था। पुलिस ने गिरफ्तार किया था। इस मुकदमे में बलवान सिंह को अदालत ने दोषी मानते हुए 11 अप्रैल 2013 को पांच साल कैद की सजा सुनाई थी। यह करीब 8 माह तक जेल में रहा था। 14 नवंबर 2013 को हाईकोर्ट से जमानत पर रिहा हुआ। उसे 28 जनवरी 2014 को बर्खास्त कर दिया था। 2 जून 2017 को हाईकोर्ट से सजा पर स्टे ले लिया था। अब नौकरी बहाली के लिए उक्त षड्यंत्र रचा था।

खबरें और भी हैं...