टेंडर दिलवाने के नाम पर 5 लाख की धोखाधड़ी:राशन कार्ड को स्मार्ट कार्ड में बदलने का ठेका देने का भरोसा देकर ठग लिए पैसे, वापस मांगने पर कहता जब होंगे दे दूंगा

हिसार8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
थाना अग्रोहा, जहां धोखाधड़ी का केस दर्ज किया गया है। - Dainik Bhaskar
थाना अग्रोहा, जहां धोखाधड़ी का केस दर्ज किया गया है।

राशन कार्ड को स्मार्ट कार्ड में बदलने का टेंडर दिलवाने के नाम पर 5 लाख की ठगी की गई है। हिसार के उकलाना कस्बा के गांव जाजनवाला वासी कुलदीप की शिकायत पर कालीरावण वासी विकास के खिलाफ ठगी व अन्य धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है। आरोपी ने कुलदीप को पांच लाख रुपए में टेंडर दिलवाने का भरोसा दिया था।

विकास ने कुलदीप से कहा था कि वह राशन कार्ड को स्मार्ट कार्ड में बदलने का ठेका लेने वाला है। इसके लिए टेंडर भरने के लिए उसे 15 लाख रूपए की जरूरत है। यदि वह उसे पांच लाख रूपए दे दे तो वह उसे काम में अपना पार्टनर बना लेगा। इस बात पर कुलदीप ने विकास को जैसे-तैसे करके पांच लाख रूपए दे दिए।

कई महीने बीतने पर जब कुलदीप ने विकास से टेंडर के काम के बारे में बात की तो वह टालमटोल करने लगा। दवाब देने पर एक दिन विकास ने कुलदीप को पंजाब के जीरकपुर में किसी होटल में बुलाया और वहां एक व्यक्ति को कम्पनी का अधिकारी बताकर उससे मिलवा दिया। अधिकारी ने कहा कि स्मार्ट कार्ड का टेंडर सरकार ने कैंसिल कर दिया है, इसलिए वह उसके रुपए वापस कर देगा।

यदि वह अपने रुपए वापस नहीं लेता है तो वह उसे सरकारी नौकरी लगवा देगा या फिर किसी अन्य कम्पनी का टेंडर दिलवा देगा। लेकिन कुलदीप ने अपने पैसे ही उससे वापस मांगे तो आरोपी विकास ने कुछ समय बाद पैसे लौटाने की बात कही। लेकिन वह हर बार रुपए मांगने पर उसे टरकाता रहा। इसको लेकर कई बार पंचायत करके रुपए लौटाने के लिए कहा, लेकिन रुपए अभी तक नहीं लौटाए गए।

इसलिए पुलिस को शिकायत दी गई। पुलिस ने पीड़ित की शिकायत पर गांव कालीरावण निवासी विकास के खिलाफ धोखाधडी करने पर अधिनियम की धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया।

खबरें और भी हैं...