पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • The Recovery From The Couple In The Hospital In Fatehabad Was More, 2.7 Lakh Rupees Were Returned On The Intervention Of The Biologist

ओवरचार्जिंग:दंपति से फतेहाबाद के अस्पताल में वसूली थी ज्यादा राशि, बायोलॉजिस्ट के हस्तक्षेप पर 2.7 लाख रुपए लौटाए

हिसारएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना ने 2 बच्चों के सिर से छीना था मां-पिता का साया, अब दादी कर रही पालन-पोषण

कोरोना ने कंडूल गांव में 2 बच्चों के सिर से पहले मां और फिर पिता का साया छीन लिया था। दंपति ने संक्रमण का इलाज फतेहाबाद के जिस अस्पताल में करवाया था, वहां उनसे अतिरिक्त राशि वसूली गई थी। दिवंगतों के रिश्तेदाराें ने मलेरिया विभाग के बायोलॉजिस्ट डॉ. रमेश पूनिया काे इस मामले से अवगत कराया। इसके बाद अस्पताल प्रबंधन को उनके द्वारा की ओवरचार्जिंग का अहसास करवाया।

इसका परिणाम यह हुआ कि अस्पताल प्रबंधन ने ओवर चार्जिंग स्वीकारते हुए 2.7 लाख रुपए वापस लौटा दिए। यह राशि पाकर दिवंगतों के रिश्तेदारों को काफी राहत मिली, क्योंकि माता-पिता की मृत्यु के बाद बच्चों की परवरिश दादी के जिम्मे हैं। इस मामले को लेकर डॉ. पूनिया ने सोशल मीडिया पर पोस्ट लिखी है। इसमें बताया कि दंपति से इलाज के नाम पर 4.14 लाख रुपये लिए थे। इसमें से 2.7 लाख यानी 50 फीसद राशि लौटाई है।

ये पैसे उन बिन मां-बाप के बच्चों की परवरिश में काम आएंगे और उनकी बुजुर्ग दादी मां को कुछ सहारा मिल जाएगा। ओवर चार्जिंग को लेकर डॉ. पूनिया ने स्वास्थ्य मंत्री को ट्वीट किया है और उनसे राज्य स्तर पर एक एसआईटी का गठन करने की अपील की है जोकि जिला स्तर पर जाकर ओवर चार्जिंग मामलों की स्वयं जांच करके पीड़िताें को राशि वापस लौटाए।

पहले पत्नी फिर पति ने कोरोना से गंवाई जान : उकलाना के गांव कंडूल में एक परिवार पर कहर बरपाकर दंपति की जिंदगी लील दो मासूमों के सिर से माता-पिता का साया भी छीन लिया। घर का मुखिया होने के साथ पंच विनोद अपने परिवार का इकलौता बेटा था। इसके पिता का देहांत हो चुका।

खेतीबाड़ी कर परिवार का पालन-पोषण कर रहा था लेकिन इसके गुजर जाने के बाद घर में बचे 2 साल व 4 साल के 2 बेटे सहित दादी के भरण-पोषण व उनके भविष्य की चिंता सताने लगी है। मृतक के चचेरे भाई कृष्ण कुमार ने बताया कि परिवार पर दुखों का पहाड़ टूटा है। हमारी शासन-प्रशासन से मांग है कि मामले में संज्ञान लेकर बच्चों व उनकी दादी के भरण-पोषण के लिए हर संभव मदद पहुंचाए।

हमारे पास ओवर चार्जिंग की जितनी शिकायतें आ रही हैं, उसकी टीम गहनता से जांच कर रही है। किसी के पास व्यक्तिगत तौर पर शिकायतें जा रही हैं, उसमें हम कुछ नहीं कह सकते हैं। पर, जो शिकायतें मिलती रहेंगी उनकी जांच करके कार्रवाई करेंगे।
-डॉ. प्रियंका सोनी, डीसी।

खबरें और भी हैं...