पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • The Team Of Scientists Of The Central Buffalo Research Institute Conducted A Survey In The Houses Of 270 Farmer Families Of 18 Villages In Hisar District.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

खास खबर:केंद्रीय भैंस अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिकों की टीम ने हिसार जिले के 18 गांव के 270 किसान परिवारों के घरों में किया सर्वे

हिसारएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • घटती जोत और संसाधनों की कमी में खेती नहीं करना चाहते 95 फीसदी युवा
  • युवा बोले- खेती में परिवार का गुजारा मुश्किल, इसलिए दिहाड़ी करने के लिए तैयार

आज का 95 फीसदी यूथ खेती नहीं करना चाहता है। हिसार केंद्रीय भैंस अनुसंधान संस्थान के सर्वे में यह आंकड़ा सामने आया है। संस्थान के वैज्ञानिकों ने जिले के 18 गांव में 270 किसानों के घर-घर सर्वे किया। लगातार जमीन और संसाधनाें की कमी के चलते यूथ का परिवार के पारंपरिक खेतीबाड़ी के काम से मोहभंग हाे रहा है। प्रधान वैज्ञानिक डाॅ. सज्जन सिंह बताते हैं कि यूथ डीसी रेट पर भी नाैकरी करने काे तैयार हैं।

प्राइवेट नाैकरी करने में उन्हें काेई दिक्कत नहीं है। युवाओं का कहना है कि खेती से परिवार का गुजारा मुश्किल है, क्याेंकि इसमें हर दिन या हर महीने फिक्स आय या दिहाड़ी नहीं मिलती है। खेती पर लगातार खर्च और फसल बर्बाद का झंझट रहता है। 130 ने प्राइवेट नौकरी, करीब 100 ने खेती छोड़ दिहाड़ी मजदूरी करने की बात कही है। 7 पढ़कर खुद का बिजनेस खड़ा करना चाहते हैं। 21 बड़े भाई या परिवार के अन्य सदस्य की तरह रेलवे या पुलिस में जाॅब करना चाहते हैं।

करीब तीन साल पहले ही केंद्रीय भैंस अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिकों काे किसानों के घर में जन्मे युवाओं का रुझान खेती की तरफ है या नहीं, यह जानने के लिए सर्वे का जिम्मा तीन वैज्ञानिकों की टीम काे साैंपा था। इनमें डाॅ. हेमा त्रिपाठी काे प्राेजेक्ट इन्वेस्टीगेटर, प्रधान वैज्ञानिक डाॅ. सज्जन सिंह, डाॅ. वीबी दीक्षित काे सह प्राेजेक्ट इन्वेस्टीगेटर नियुक्त किया गया।

इन गांवाें में किया सर्वे

संस्थान की टीम ने हिसार के साथ कुंगड़, सिंघवा, मुकलान, धान्सू, बीड़ बबरान, धिगताना, भैणी बादशाहपुर, चाैधरीवास, धर्मखेड़ी आदि समेत 18 गांव में सर्वे किया। केंद्रीय भैंस अनुसंधान संस्थान के निदेशक डाॅ. एसएस दहिया ने बताया कि सर्वे रिपोर्ट के बाद अधिकारियाें के निर्देश पर प्रदेशभर में संस्थान के वैज्ञानिक वेबिनार और गांव-गांव में जाकर लाेगाें काे मुनाफा कमाने के लिए खेतीबाड़ी के साथ पशुपालन करने के प्रति जागरूक कर रहे हैं। आमदनी बढ़ाने के टिप्स दिए जा रहे हैं, ताकि खेती से माेहभंग काे भी राेका जा सके। किसानों की आय काे 2022 तक दाेगुना किया जाए।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- यह समय विवेक और चतुराई से काम लेने का है। आपके पिछले कुछ समय से रुके हुए व अटके हुए काम पूरे होंगे। संतान के करियर और शिक्षा से संबंधित किसी समस्या का भी समाधान निकलेगा। अगर कोई वाहन खरीदने क...

और पढ़ें