पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • Three Killed, Including Director Of Maharaja Agrasen Medical College Agroha, The State's Largest Kovid Hospital

कोरोना का कहर:प्रदेश के सबसे बड़े कोविड हॉस्पिटल महाराजा अग्रसेन मेडिकल कॉलेज अग्रोहा के निदेशक सहित तीन की मौत

हिसार8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डाॅ. गाेपाल सिंघल (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
डाॅ. गाेपाल सिंघल (फाइल फोटो)

जिले में काेराेना से माैत का सिलसिला रुकने का नाम नहीं ले रहा है। बुधवार को अग्रोहा कोविड हॉस्पिटल के डायरेक्टर समेत तीन लोगों की मौत हो गई। उकलाना के गांधी नगर के 38 वर्षीय युवक ने संक्रमित हाेने के बाद दम ताेड़ दिया। युवक का उपचार अग्राेहा के अस्पताल में चल रहा था। तलवंडी राणा के 57 वर्षीय बुजुर्ग ने भी दम ताेड़ दिया। बुधवार को जिले में काेराेना के 105 नए केस मिले। अब तक 97 की माैत काेराेना संक्रमित हाेने के बाद हाे चुकी है। 7702 पॉजिटिव केस मिले, जिनमें से एक्टिव केस 906 है।

प्रदेश के सबसे बड़े कोविड केयर हॉस्पिटल महाराजा अग्रसेन मेडिकल कॉलेज अग्रोहा के निदेशक डॉ. गोपाल सिंघल की कोरोना पॉजिटिव होने के बाद बुधवार को मौत हो गई है। डॉ. गोपाल बुधवार को भी ड्यूटी पर आए थे। लगातार कोविड सेंटर में मरीजों की सेवा उपचार के लिए तत्पर रहते थे। सेवा करते करते खुद कोरोना पॉजिटिव हो गए। बुधवार को सांस लेने में अचानक कुछ दिक्कत हो गई थी। वह कैंपस में घर चले गए और कपड़े चेंज करके खुद गाड़ी चलाते हुए मेडिकल के आपातकालीन विभाग पहुंचे थे।

मेडिकल के सीएमओ डॉ. राकेश शर्मा से उन्होंने कहा था कि डॉक्टर साहब सांस लेने में कुछ दिक्कत है तो चिकित्सकों ने आपातकाल विभाग में उनका उपचार शुरू किया, लेकिन देखते ही देखते अचानक हालत गंभीर हो गई। उनकी हालत को देखते हुए, उन्हें हिसार के जिंदल हॉस्पिटल में ले जाया गया जहां पर उपचार के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया। डॉ. सिंघल की कोविड जांच के लिए सैंपल भेजा गया तो उनकी रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव पाई गई। बताया जाता है कि कार्डियक अरेस्ट के चलते दम तोड़ दिया।

डाॅ. सिंघल अच्छे एडमिनिस्ट्रेटर, डायरेक्टर होने के बावजूद रोज ओपीडी में सेवाएं जरूर देते थे

प्रदेश के सबसे बड़े कोविड हाॅस्पिटल महाराजा अग्रसेन मेडिकल काॅलेज के डायरेक्टर 52 वर्षीय डाॅ. गोपाल सिंघल न सिर्फ अच्छे दोस्त बल्कि एडमिनेस्ट्रेटर और बतौर सर्जन एक बेहतरीन डाॅक्टर थे। डायरेक्टर होने के बाद भी डाॅ. सिंघल प्रतिदिन ओपीडी करते थे। राजस्थान के श्री गंगानगर के डाॅ. सिंघल ने बीकानेर से एमबीबीएस और पोस्ट ग्रेजुएशन किया। उन्होंने मेडिकल काॅलेज में बतौर जनरल सर्जन सेवाएं शुरू कीं। सेवाकाल के दौरान कठिन परिश्रम के चलते उन्होंने सर्जरी विभाग के हेड का कार्यभार ग्रहण किया।

पिछले 6 साल से वह मेडिकल काॅलेज के डायरेक्टर के तौर पर तैनात थे। कार्यकाल में उन्होंने मेडिकल काॅलेज को नई ऊंचाइयों तक पहुंचाया। डायरेक्टर डाॅ. सिंघल की शाम को अचानक हालत बिगड़ी। उन्हें सांस लेने में तकलीफ महसूस हुआ। हालांकि वह स्वयं अपनी गाड़ी को ड्राइव कर मेडिकल काॅलेज पहुंचे। यहां उन्हें तत्काल वेंटिलेटर पर ले जाया गया।

हालत बिगड़ती गई। उनके डायबिटिक होने के कारण हालत खराब होने पर उन्हें तत्काल हिसार जिंदल अस्पताल लाया गया। जांच हुई तो हार्ट अटैक की स्थिति सामने नहीं आई। पता लगा कि उन्हें कार्डियक अरेस्ट हुआ। इससे पहले उनका सैंपल लेकर जांच की तो कोविड पॉजिटिव पाए गए। जिससे देर शाम रात्रि करीब 8.30 बजे उनकी डेथ हो गई।'' -जैसा कि राज्यसभा सांसद ले. जनरल एवं आई सर्जन डीपी वत्स ने बताया।

खबरें और भी हैं...