• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • Three Masked Men Riding Bikes Fired In New Rishinagar, HAU Employee Died Due To Bullet Injuries In Chest And Thigh

वारदात:बाइक सवार तीन नकाबपोशों ने न्यू ऋषिनगर में की फायरिंग, छाती और जांघ में गोली लगने से एचएयू कर्मचारी की मौत

हिसार3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
न्यू ऋषि नगर में घटनास्थल पर जांच करती पुलिस। - Dainik Bhaskar
न्यू ऋषि नगर में घटनास्थल पर जांच करती पुलिस।
  • रात साढ़े 10 बजे फायरिंग, 12 बजे घायल जोनी को निजी अस्पताल ले जाया गया लेकिन नहीं बची जान, आधी रात तक पुलिस जांच में जुटी रही

न्यू ऋषिनगर में शिव मंदिर के निकट शनिवार रात करीब 10:30 बजे बाइक सवारों ने बड़ी वारदात को अंजाम दिया। घर से अपने दोस्त सोनू जागड़ा के साथ बात कर रहे 26 वर्षीय युवक जोनी राव पर नकाबपोशों ने ताबड़ तोड़ गोलियां चलाईं। घटना के दौरान युवक को एक गोली छाती में तो दूसरी जांघ में लगी। जोनी ने दोस्त को किसी तरह मौके से भगा दिया और खुद बचने के लिए पास ही एक मकान मेें घुस गया। जहां छत पर वह बेहोश हो गया।

हमलावरों कुल चार फायर किए। घटना को अंजाम देकर हमलावर हथियार लहराते हुए भाग गए। वारदात से इलाके में सनसनी फैल गई। जानकारी होने पर आसपास लोगों की भीड़ एकत्रित हो गई। परिवार के लोग भी पहुंच गए। घायल को देर रात 12 बजे एक निजी अस्पताल में मृत घोषित कर कर दिया गया। पुलिस को घटनास्थल से चार कारतूस के खोखे बरामद हुए हैं। शव को देर रात 12.30 बजे सिविल अस्पताल भेज दिया गया। बताया गया है कि जोनी एएचयू के जलघर पर डीसी रेट का कर्मचारी था।

परिवार का इकलौता लड़का था जोनी

सिविल अस्पताल पहुंचे मृतक के दोस्तों ने बताया कि गोलीकांड का शिकार जोनी राव अपने परिवार में इकलौता लड़का था। उसकी एक बहन भी है। जोनी एक बच्चे का पिता भी था। वह अपने पिता के साथ एचएयू में जलघर पर डीसी रेट पर नौकरी करता था। घटना के बाद उसकी पत्नी और परिवार के लोगों का रो रोकर बुरा हाल था।

धक्का देकर मेरी जान बचाई

शिव मंदिर के निकट मैं और मेरा दोस्त जोनी राव रात करीब 11 बजे स्कूटी पर बैठकर बात कर रहे थे। तभी कुछ दूरी पर एक दुपहिया वाहन आकर रुका। इसके कुछ ही सेकंड बाद तीन युवक जिनके चेहरे ढंके हुए थे हाथों में हथियार लिए इन तीनों ने एक के बाद करके गोलियां चलानी शुरू कर दीं। मैं और जोनी घबरा गए। तभी मुझे धक्का देकर जोनी ने मुझे भागने के लिए कहा। मैं अपनी जान बचाने के लिए कुछ दूर जाकर छिप गया। जोनी भी जान बचाने के लिए नजदीकी मकान में घुस गया। जोनी छत पर जाकर बोहेश हो गया। लेकिन तब जोनी की छाती और जांघ में गोलियां लग चुकी थीं। मैंन देखा कि हमलावर निकट खड़े अपने वाहन पर सवार होकर भाग गए। जोनी को कुछ लोग बाइक पर बैठाकर निजी अस्पताल ले गए। मैं भी अस्पताल पहुंच गया। जैसा कि मृतक के दोस्त प्रत्यक्ष दर्शी सोनू जागड़ा ने बताया।

चार फायर किए जिनमें से दो लगे

वारदात की जानकारी के बाद देर रात पुलिस ने घटनास्थल पर जांच पड़ताल की। पुलिस को मौके पर कारतूसों के चार खोल मिले। इस दौरान सामने आया कि हमलावर नजदीकी हैं। पुलिस की प्रारंभिक जांच में लेन देन को लेकर दोस्तों में कहासुनी का मामला ही सामने आ रहा है। हालांकि परिवार के लोग भी अभी कुछ बोलने को तैयार नहीं हैं। उन्होंने किसी पर भी शक नहीं जताया है।

खबरें और भी हैं...