• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • Tomorrow, Health Workers Will Hit The Streets, Demanding The Release Of The Arrested Lab Technician And Registering A Case Against The Policemen

SHO का कोविड सैंपल बदलने का मामला:कल सड़कों पर उतरेंगे स्वास्थ्यकर्मी, गिरफ्तार लैब टैक्निशियन की रिहाई व पुलिसकर्मियों पर केस दर्ज की मांग

हिसार15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मीटिंग करते स्वास्थ्य संगठनो� - Dainik Bhaskar
मीटिंग करते स्वास्थ्य संगठनो�

आजााद नगर थाना प्रभारी गुरमीत सिंह का कोविड सैंपल बदलने के मामले में स्वास्थ्यकर्मी कल शहर की सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन करेंगे। स्वास्थ्यकर्मियों की मांग है कि इस मामले में गिरफ्तार किए गए दीपक व नीरज मेहता को तुरंत रिहा किया जाए व आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ केस दर्ज किया जाए। प्रदर्शन के उपरांत इस मामले में उचित कार्रवाई के लिए डीजीपी के नाम ज्ञापन भी सौंपा जाएगा। स्वास्थ्यकर्मियों का यह प्रदर्शन वीरवार दोपहर 2 बजे बाद शुरू होगा ताकि किसी तरह की स्वास्थ्य सेवाओं में बाधा पैदा ना हो। इस दौरान सभी स्वास्थ्य कर्मी नागरिक अस्पताल से चलकर होकर नागोरी गेट से होकर पारिजात चौक तक रोष प्रदर्शन करेंगे और डीजीपी हरियाणा के नाम प्रशासनिक अधिकारी को ज्ञापन सौंपेंगे।

इस मामले को लेकर स्वास्थ्य विभाग से जुड़े कई संगठनों की मीटिंग बुधवार को जिला मलेरिया कार्यालय में आयोजित हुई। मीटिंग के बाद कर्मचारी नेताओं ने बताया कि पुलिस कर्मचारियों ने अपने प्रभाव का इस्तेमाल किया और स्वास्थ्य कर्मियों को जालसाजी और धोखाधड़ी करके फंसाया है। इस मामले में पैसे के लेन-देन का कोई साक्ष्य नहीं मिला है। मामले को लेकर पुलिस विभाग के आईजी और डीआईजी को शिकायत देकर पूरे मामले की निष्पक्ष जांच करवाने की गुहार लगा चुके हैं परंतु अभी तक पुलिस प्रशासन द्वारा किसी प्रकार की कोई सकारात्मक पहल अमल में नहीं लाई गई है जिसके कारण एलटी नीरज मेहता और दीपक की रिहाई अभी तक नहीं हो सकी है जबकि मामले में संलिप्त आरोपी पुलिस कर्मियों को बचाने के लिए मेडिकल लीव पर होने के कारण अभी तक गिरफ्तार नहीं किया गया है।

आजाद नगर थाना में एक स्टाफ नर्स सहित तीन लोगों पर महिला की हत्या का केस दर्ज हुआ था। इसकी जांच थाना एसएचओ गुरमित कर रहे हैं। नर्स का नार्को टेस्ट गुजरात के गांधी नगर में होना था, जिससे पूर्व 13 मार्च को सिविल अस्पताल फ्लू क्लीनिक पर एसएचओ, नर्स सहित अन्य मुलाजिमों का सैंपल दिया था। अन्य की रिपोर्ट निगेटिव आ गई थी मगर एसएचओ की नहीं आई थी। सैंपल के कुछ दिन बाद थाना प्रभारी गुरमीत की रिपोर्ट पॉजीटिव आई थी जिस कारण हत्या के आरोपियों को इसमें फायदा पहुंचा था और उनका नार्को टेस्ट नहीं हो पाया था।

खबरें और भी हैं...