हिसार में कंवारी में ग्रामीणों का धरना:राजकीय स्कूल में शिक्षकों की कमी पर भड़के; भाकियू नेता आमरण अनशन पर

हिसार सिटी11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

हरियाणा के हिसार जिले कंवारी गांव के सरकारी स्कूल में अध्यापकों कमी के चलते छात्र-छात्राओं, परिजनों और ग्रामीणों ने स्कूल के गेट पर अनिश्चित कालीन धरना शुरू कर दिया है। भारतीय किसान यूनियन चढूनी के किसान नेताओं मौके पर पहुंच धरने का समर्थन किया। साथ ही किसान नेता विकास ढांडा आमरण अनशन पर बैठ गए हैं। वहीं विद्यार्थियों ने 2 घंटे धरने पर बैठकर रोष व्यक्त किया।

हिसार के कंवारी गांव के सरपंच भूप सिंह ने कहा कि गांव में हाई स्कूल में करीब 180 बच्चे है। पिछले दिनों 10 अध्यापकों की बदली हुई थी, लेकिन बदले में 3 अध्यापक ही आए। विद्यार्थियों की पढ़ाई बाधित हो रही है। वही जल्द ही पेपर आरम्भ होने वाले है। ऐसे में विद्यार्थी कैसे पास होगें। सरपंच ने कहा कि सरकार गांव के स्कूल में जल्द से जल्द अध्यापकों की नियुक्ति करे।

भारतीय किसान यूनियन चढूनी हिसार के शहरी प्रधान विकास ढांडा ने बताया कि सरकार हमारी आने वाली नस्लों को बर्बाद करना चाहती है। यह हम किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं करेंगे। सभी सरकारी महकमों का निजीकरण किया जा रहा है। हम हाथ पर हाथ धर कर नहीं बैठेंगे।

कंवारी के सरकारी स्कूल में पिछले दिनों 10 अध्यापकों की बदली हुई थी, लेकिन केवल 3 अध्यापक ही आए। बड़े शर्म की बात है।उन्होने कहा कि जब तक स्कूल में सभी विषय के अध्यापकों की नियुक्ति नही होती तब तक आमरण अनशन जारी रहेगा। अगर शिक्षा विभाग 24 घंटे में हमारी मांगों पूरा नही करती तो मंगलवार से छात्र-छात्राएं भी धरना शुरू करेंगी।