पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • With Traditional Farming, The Cost Is Higher And The Income Is Less, So Adopt The Crop Cycle: Prof. Samar Singh

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एचएयू में वर्कशॉप आयोजित:परम्परागत खेती से लागत अधिक व आमदनी कम इसलिए अपनाएं फसल चक्र: प्रो. समर सिंह

हिसारएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कृषि संबंधी किसी रिसर्च का फसलों के उत्पादन में बढ़ोतरी के साथ पर्यावरण का संरक्षण मुख्य लक्ष्य होना चाहिए। उत्पादन बढ़ाने के चक्कर में प्रतिदिन रसायनों के अंधाधुंध प्रयोग व जल दोहन से प्राकृतिक संसाधन नष्ट हो रहे हैं। साथ ही भूमि की उर्वरा शक्ति भी घट रही है।इसलिए वैज्ञानिकों को प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण का विशेष ध्यान रखना होगा।

यह आह्वान चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति प्राे. समर सिंह ने वैज्ञानिकों से किया। वे एचएयू में ऑनलाइन माध्यम से आयोजित विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों, विस्तार विशेषज्ञों एवं हरियाणा सरकार के कृषि अधिकारियों की वर्कशॉप को संबोधित कर रहे थे। विवि के विस्तार शिक्षा निदेशक डॉ. आरएस हुड्डा ने वर्कशॉप की जानकारी देते हुए निदेशालय की तरफ से आयोजित की जाने वाली विभिन्न गतिविधियों के बारे में बताया।

कुलपति प्रो. समर सिंह ने कहा कि वैज्ञानिकों का दायित्व बनता है कि वे किसानों को भूमि की उर्वरा शक्ति बनाए रखने और मिट्टी में सूक्ष्म तत्वों की कमी को पूरा करने के लिए जागरूक करें। उन्होंने किसानों से फसल विविधिकरण को बढ़ावा देने की अपील की ताकि उनकी आमदनी में इजाफा हो सके। परम्परागत खेती से लागत अधिक व आमदनी कम होती है।

इसलिए किसान फसल चक्र को अपनाएं। कार्यक्रम में हरियाणा सरकार के कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव देवेंद्र सिंह व कृषि महानिदेशक विजय सिंह दहिया मौजूद थे। अनुसंधान निदेशक डॉ. एस.के. सहरावत ने विश्वविद्यालय द्वारा विकसित की गई विभिन्न फसलों की नई किस्मों की जानकारी देते हुए मौजूदा समय में चल रहे अनुसंधान कार्यों के बारे में बताया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आपका कोई भी काम प्लानिंग से करना तथा सकारात्मक सोच आपको नई दिशा प्रदान करेंगे। आध्यात्मिक कार्यों के प्रति भी आपका रुझान रहेगा। युवा वर्ग अपने भविष्य को लेकर गंभीर रहेंगे। दूसरों की अपेक्षा अ...

और पढ़ें