पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • Raniya
  • Graduation Degree Of Girl Students Completed, College Building Could Not Be Built, Farewell Party Given In Marriage Hall, College Staff Bid Farewell To 139 Girl Students

अधर में लटका है महिला कॉलेज के भवन का निर्माण:छात्राओं की ग्रेजुएशन की डिग्री हो गई पूरी, नहीं बन पाया कॉलेज का भवन, मैरिज हॉल में दी फेयरवेल पार्टी, 139 छात्राओं को कॉलेज स्टाफ ने दी विदाई

रानियां21 दिन पहलेलेखक: संजय सैनी
  • कॉपी लिंक
रानियां। रानियां महिला महाविद्यालय का अधर में लटका नए भवन का दृश्य। जो अभी अधूरा है। - Dainik Bhaskar
रानियां। रानियां महिला महाविद्यालय का अधर में लटका नए भवन का दृश्य। जो अभी अधूरा है।

राजकीय महिला महाविद्यालय में स्नातक के पहले बैच में शामिल छात्राओं ने अपनी डिग्री पूरी कर ली पर तीन साल बाद भी काॅलेज काे अपना भवन नहीं मिला। इन छात्राओं ने राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में ही तीन साल तक पढ़ाई की। वहीं कॉलेज प्रबंधन ने भी कॉलेज भवन नहीं होने पर फेयरवेल पार्टी का आयोजन एक मैरेज हाल में किया, जहां डिग्री पूरी करने वाली 139 छात्राओं को डिग्री प्रदान की गई।

3 मई 2018 में दाखिला लेने वाली 139 छात्राएं बिना कॉलेज भवन के शनिवार को अपनी डिग्री लेकर विदा हो गई। जिसमें 115 बीए और 24 बीकॉम की छात्राएं हैं । जबकि नए सेशन में 170 छात्राओं ने ऑनलाइन आवेदन किए हैं, जिसमें 115 ने पहली पसंद राजकीय महिला महाविद्यालय रानियां को रखा है, लेकिन कॉलेज की बिल्डिंग निर्माण में देरी जिले के 84 गांवों की छात्राओं की उच्च शिक्षा में बाधा बनी है। जिले के 84 गांवों की एक हजार ज्यादा छात्राओं को उच्च शिक्षा के लिए दूर-दराज कॉलेजों में न जाना पड़े, इसलिए प्रदेश के मुख्यमंत्री ने वर्ष 2017 में रानियां में महिला महाविद्यालय बनाने की घोषणा की थी।

12 करोड़ की लागत से कॉलेज के नए भवन निर्माण को अप्रैल 2019 तक सिरे चढ़ाया जाना था। इसी उम्मीद के साथ वर्ष 2018 सत्र में दाखिले शुरू किए गए। लेकिन बजट के अभाव में नवनिर्मित भवन तीन साल से अधर में लटका है। इधर, शहर के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल की बिल्डिंग के 4 कमरों में छात्राओं की कक्षाएं लगाई जा रही हैं।

बजट अप्रूवल के लिए चंडीगढ़ भेजी फाइल

महिला कॉलेज भवन निर्माण से पहले भर्ती ज्यादा करनी पड़ी, इसलिए लागत ज्यादा हुई। 1 जनवरी 2020 को फाइल बजट अप्रूवल लिए चंडीगढ़ भेजी थी। लेकिन कोई रिस्पांस नहीं आया है। इसके कारण भवन निर्माण अधर में लटका है। बजट को स्वीकृति मिलते ही काम सिरे चढ़ा लिया जाएगा।'' -केसी कंबोज, एक्सईएन, पीडब्ल्यूडी बीएंडआर, सिरसा।

बैच पूरा होने पर दी गई विदाई पार्टी

पिछले तीन साल से बीए और बीकॉम की छात्राओं को राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल के चार कमरों में पढ़ाया जा रहा है 139 छात्राओं का एक बैच पूरा हो गया। जिन्हें शनिवार को विदाई दी गई। लेकिन नए कॉलेज का भवन निर्माण सिरे नहीं चढ़ पाया है। बिल्डिंग निर्माण शीघ्र करवाया जाए। ताकि छात्राएं आसानी से नए भवन में कक्षाएं लगा सकें।'' -महेंद्र प्रदीप, प्राचार्या महिला महाविद्यालय रानियां।

खबरें और भी हैं...