पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मैराथन दौड़:बीमा समाप्त होने वाली रोडवेज की बसों को नहीं भेजा जाएगा रूट पर

रतिया13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रतिया। बस स्टैंड पर खड़ी बसे। - Dainik Bhaskar
रतिया। बस स्टैंड पर खड़ी बसे।
  • अगले 10 दिन में 85 बसों को रूट से हटाना पड़ेगा, डीजल देने पर भी रोक, यात्रियों काे हाेगी परेशानी

हरियाणा रोडवेज ने अधिकारियों को आदेश जारी कर उन बसों को रोड पर न भेजने के लिए कहा है जिनकी बीमा अवधि समाप्त हो गई है। विभाग ने कहा है कि इसके लिए बजट जारी किया जाए ताकि बीमा करवाया जाए। जब तक उक्त बसों का बीमा नहीं होता तब तक इन बसों को रूट पर न भेजा जाए। ऐसे में इन बसों का बीमा नहीं होता तो अगले 10 दिन में 85 बसों को रूट से हटाना पड़ सकता है। हिदायत ये भी दी गई है कि जब तक इन बसों का बीमा नहीं हो जाता तब तक इनको डीजल आपूर्ति भी न की जाए।

इन बसों की समाप्त हो रही है अवधि

विभाग द्वारा जारी सूची के अनुसार फतेहाबाद व टोहाना सब डिपू की 17 बसों की बीमा अवधि 13 सितंबर की रात 12 बजे समाप्त हो गई। ऐसे ही 36 बसों की बीमा अवधि 14 सितंबर की रात को समाप्त हो चुकी है। ऐसे ही 5 बसों की बीमा अवधि 15 सितंबर, 16 बसों की 16 सितंबर, 5 बसों की 18 सितंबर, 6 बसों की 24 सितंबर को बीमा अवधि समाप्त हो रही है।

सूची में कुल 85 बसें शामिल हैं। रोडवेज ने इसके लिए चालकों, परिचालकों, चालक परीक्षण स्कूल, फोरमैन यार्ड मास्टर, कर्मशाला प्रबंधक को भी आदेश दिये है। ऐसे में एक साथ इतनी बसों पर रोक से भिन्न रूटों पर बस सेवा बंद होने से यात्रियों का परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

ये रूट होंगे प्रभावित

बीमा के अभाव में बसें रूट से हटने के कारण रतिया-फतेहाबाद, टोहाना, वाया पटियाला चंडीगढ़, वाय कैथल अंबाला चंडीगढ़, दिल्ली, हिसार, सिरसा, बुढलाडा, सरदूलगढ़, गुरुग्राम, टोहाना से पातड़ा, नरवाना, फतेहाबाद से हिसार, रोहतक, पानीपत,जाखल व मुख्य रुटों पर यात्रियों को परेशानी होगी।

इनमें 55 बसें नये मॉडल की हैं बाकी बसें पुरानी हैं। अकेले रतिया व टोहाना सब डिपू में बड़ी संख्या में बसे बंद होने से यात्रियों की समस्या बढ़ जाएगी। रोडवेज बसों का आगमन बंद होने का सीधा फायदा निजी बसों व वाहन चालकों को होगा।

मेल भेज दी है, बजट पास करवाएंगे : लेखाधिकारी

बीमा समाप्त होने के मामले में चंडीगढ़ मुख्यालय को मेल कर सूचना भेज दी है। बजट पास करने की डिमांड की गई है। बजट पास होते ही बीमा करवा दिया जाएगा तब तक सूची में शामिल बसों का रोड पर न उतारने व डीजल देने पर रोक लगाई गई है।''

-सुभाष मोंगा, लेखाधिकारी, हरियाणा रोडवेज।

खबरें और भी हैं...