पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

स्टॉर्म वॉटर ड्रेनेज सिस्टम की मिली मंजूरी:बरसाती पानी की निकासी के लिए बिछाई जाएगी 18 किमी लंबी पाइप लाइन, डबवाली रोड पर घग्गर नदी में निकाला जाएगा पानी

सिरसाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिरसा। डबवाली रोड पर बरसाती नाले की जेसीबी से करवाई जा रही सफाई। - Dainik Bhaskar
सिरसा। डबवाली रोड पर बरसाती नाले की जेसीबी से करवाई जा रही सफाई।
  • एक माह में नगर परिषद टेंडर जारी करेगी, आधे शहर में जलभराव से छुटकारा मिलेगा

शहर में बरसाती पानी की निकासी को लेकर शुक्रवार को दो प्रमुख समस्याओं का हल निकल गया है। यह शहर वासियों के लिए बड़ी राहत की बात है। जहां डीसी अनीश यादव ने तीन विभागों के बीच फंसे बरसाती नाले की सफाई के मुद्दे को हल कर दिया है।

वहीं सिरसा के विधायक गोपाल कांडा ने शहर में जलभराव की समस्या को हमेशा के लिए खत्म करने वाला अलग से बरसाती सीवरेज यानि स्टॉर्म वाटर ड्रेनेज सिस्टम को चंडीगढ़ से मंजूरी दिला दी है। इसके लिए विधायक को बार बार सीएम से बात करनी पड़ी। आखिरकार गुरुवार को 28 करोड़ के इस बड़े प्रोजेक्ट को डायरेक्टर ने मंजूरी दे दी है। अब जल्द ही इसके टेंडर लगाकर इसके काम की शुरूआत की जाएगी।

संभवत: अगले साल तक शहर में जलभराव की समस्या से निजात मिल जाएगी। नगरपरिषद की चेयरपर्सन रीना सेठी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके यह जानकारी दी कि अब शहर के लिए बरसाती सीवरेज सिस्टम को मंजूरी मिल गई है। वहीं डीसी अनीश यादव ने बरसाती नाले की सफाई के मामले को प्रमुखता से लिया।

जानिए... 400 से लेकर 800 एमएलडी की अंडरग्राउंड डाली जाएगी पाइप लाइन, अग्रसेन कॉलोनी व मुख्य बाजारों सहित 24 इलाकों काे राहत

नगर परिषद अध्यक्ष रीना सेठी ने बताया कि बरसाती पानी निकासी को स्टॉर्म वॉटर ड्रेनेज सिस्टम का प्लान बनाकर विभाग को भेजा गया था। जिसकी शुक्रवार को अप्रूवल मिल गई। स्टॉर्म ड्रेनेज सिस्टम पर 28.21 करोड़ रुपये खर्च होंगे। बरसाती पानी की निकासी के लिए 18 किलोमीटर लंबी पाइप लाइन डालकर उसे डबवाली रोड पर घग्गर नदी में निकाला जाएगा। एक माह के अंदर नप इसका टेंडर जारी करेगी। प्रोजेक्ट के तहत करीब आधे शहर में जलभराव से छुटकारा मिलेगा।

उन्होंने बताया कि अगले बरसाती सीजन से पहले उक्त प्रोजेक्ट पूरा होगा। प्रोजेक्ट के तहत अग्रसेन कॉलोनी, बेगू रोड और बाजारों मेें करीब 400 से लेकर 800 एमएलडी की अंडरग्राउंड पाइप लाइन डाली जाएगी। जिससे अग्रसेन कॉलोनी, सुरखाब चौक, परशुराम चौक, गोल डिग्गी, भगत सिंह चौक, घंटाघर चौक, सूरतगढिया बाजार, शिव चौक, जनता भवन रोड, अनाज मंडी, सिविल अस्पताल रोड, गांधी कॉलोनी, करीब चौक से होते हुए जनता भवन रोड पर पंपिंग स्टेशन बनाया जाएगा।

जहां से बरसाती पानी घग्गर नदी में डाला जाएगा। उधर, रेलवे लाइन पार जलनिकासी के लिए अमरुत योजना के तहत दिल्ली पुल तक लाइन डाली गई है, यानि आधे नगर को इस योजना के तहत जलभराव से छुटकारा मिलेगा। इस कार्य में नगर परिषद, जल स्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी विभाग और पीडब्ल्यूडी बीएंडआर तीनों आपस में तालमेल के साथ कार्य करेंगे, ताकि कोई समस्या हो तो उसका तत्काल समाधान हो।

इधर... नगरपरिषद ने मुहैया करवाए ट्रैक्टर ट्राली और सफाई कर्मचारी

डीसी अनीश यादव ने बीएंडआर, पब्लिक हेल्थ व नगर परिषद अधिकारियों के साथ बैठक की। इस दौरान उन्हें तालमेल करके बरसाती नाले की सफाई करवाने के निर्देश दिए। इस पर नगरपरिषद ने सफाई की जिम्मेदारी लेते हुए बीएंडआर का सहयोग करने की बात कही और खुद के सफाई कर्मचारी व ट्रैक्टर ट्रालियां लगाए। वहीं बीएंडआर विभाग के अधिकारियों ने गाद निकालने के लिए अपनी ओर से जेसीबी भेजी है। दोनों विभाग संयुक्त रूप से सफाई में जुट गए हैं। डीसी ने अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिए कि नाले की सफाई के साथ-साथ निकाली गई गंदगी को भी तुरंत उठाया जाए। अधिकारियों ने बताया कि मानसून से पहले-पहले बरसाती नाले की सफाई का कार्य पूरा कर लिया जाएगा।

सख्ती... अब बिना परमिशन सड़क तोड़ी तो लगेगा जुर्माना

शहर में लोग बिना परमिशन के पेयजल या सीवर लाइन डालने के लिए सड़क तोड़ देते हैं। इसके बाद सड़क का लोग निर्माण नहीं करते। जिसका खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ता है। अब किसी भी व्यक्ति को पेयजल या सीवर लाइन का कनेक्शन लेने के लिए अगर सड़क तोड़नी है तो उसे नगर परिषद से अनुमति लेनी होगी। वहीं निर्धारित शुल्क जमा भी करवाना होगा। अगर ऐसा न किया तो संबंधित व्यक्ति के खिलाफ जुर्माना सहित कार्रवाई की की जाएगी। बता दें कि शहर में लोगों द्वारा बिना परमिशन के पेयजल व सीवर लाइन डालने के लिए जगह-जगह गलियों में सड़कें तोड़ी गई हैं। जिस कारण बरसात के सीजन में पूरी सड़क जगह-जगह से धंसने के कारण लोगों को परेशानियां झेलनी पड़ती हैं।

स्टॉर्म वाटर ड्रेनेज सिस्टम के प्रोजेक्ट के लिए 28 करोड़ हाेंगे खर्च: रीना

^स्टॉर्म वाटर ड्रेनेज सिस्टम के प्रोजेक्ट को मिली मंजूरी मिल गई है। इस प्रोजेक्ट 28 करोड़ रुपये खर्च हाेंगे। जल्द ही इसके टेंडर होंगे। स्टॉर्म वाटर ड्रेनेज सिस्टम शुरू होने के बाद शहर में जलभराव से छुटकारा मिलेगा।'' -रीना सेठी, अध्यक्ष, नगर परिषद सिरसा।

15 दिन में टेंडर करवाकर काम शुरू करवाया जाएगा: विधायक

^शहर में जलभराव की समस्या का निदान स्टॉर्म वाटर ड्रेनेज सिस्टम से ही हो सकता था। इसलिए मेरी प्राथमिकता यही थी कि इस प्रोजेक्ट को जल्द से जल्द मंजूरी मिले। मुख्यमंत्री से लगातार संपर्क में रहकर 28 करोड़ के इस प्रोजेक्ट को मंजूरी दिला दी है। अगले 15 दिन में इसका टेंडर करवाकर काम शुरू करवाया जाएगा। ताकि शहरवासियों को जलभराव जैसी विकट समस्या से निजात मिल सके।'' -गोपाल कांडा, विधायक सिरसा।

नाले की सफाई नगर परिषद ने शुरू करवा दी है: एक्सईएन

^बरसाती नाले की सफाई शुरू नगर परिषद ने शुरू करवा दी है। हमने उनको जेसीबी दे दी है। जबकि नगरपरिषद ने सफाई कर्मचारी और ट्रैक्टर ट्राली लगाए हैं। एयरफोर्स से पहले बरनाली नाले के लिए बोर बना हुआ है। अंडर ग्राउंड उसमें पानी जा रहा है। जल्द ही सफाई कार्य पूरा हो जाएगा।'' -केसी कंबोज, एक्सईएन, पीडब्लयूडी।

खबरें और भी हैं...