पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • Sirsa
  • Bhavdin Khuiyan Malkana Toll And National Highway Kept Jammed Near Panjuana For 2 Hours, Diverted Routes, Passengers Left On Foot

प्रशासन की चिंता बढ़ी:2 घंटे तक भावदीन-खुईयां मलकाना टोल और पंजुआना के पास नेशनल हाईवे रखा जाम, डायवर्ट किए रूट, यात्री पैदल ही निकले

सिरसा2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जाम के चलते पैदल अपने गंतव्य को जाते लोग। - Dainik Bhaskar
जाम के चलते पैदल अपने गंतव्य को जाते लोग।
  • डिप्टी स्पीकर पर हमले मामले में जेल भेजे किसानों की रिहाई को लेकर किसान प्रशासन पर दबाव बनाने के लिए रोजाना रणनीति बनाकर कर रहे नए ऐलान
  • अब 23 जुलाई को सिरसा बंद करने का किया ऐलान, 24 को हिसार में घेरेंगे डिप्टी स्पीकर का आवास

डिप्टी स्पीकर पर हमले केे मामले में जेल भेजे गए किसानों की रिहाई का मामला दिनोंदिन तूल पकड़ता जा रहा है। किसान प्रशासन पर दबाव बनाने के लिए रोजाना रणनीति बना नया ऐलान कर रहे हैं। बुधवार को जहां दो घंटे नेशनल हाइवे जाम रखा गया। वहीं अब 23 जुलाई को दो घंटे के लिए सिरसा बंद का ऐलान करके शहर के लोगों और प्रशासन की मुश्किलें बढ़ा दी है।

प्रशासन किसानों के साथ लगातार बातचीत करके मनाने का प्रयास कर रहा हैं, मगर किसान एक ही जिद पर अड़ेे हुए हैं कि उनके पांचों साथी रिहा किए जाए और केस रद्द हो । इसी को लेकर बुधवार को किसानों ने बुधवार को दो घंटे के लिए तीन जगह से नेशनल हाइवे जाम रखा। एक छात्रा की प्रैक्टिकल का पेपर भी छूट गया। जबकि एक खिलाड़ी गेम में भाग नहीं ले सकी। जाम खत्म करने के किसान बरनाला रोड पहुंचे। जहां किसान बलदेव सिंह सिरसा पांच दिनों से आमरण अनशन पर है।

परेशानी... जाम में बसें फंसीं तो किसी का प्रैक्टिकल छूटा तो किसी का गेम

ट्रैफिक पुलिस रूट डायवर्ट करवा रही थी फिर भी यात्रियों को परेशानी झेलनी पड़ी। रोडवेज बस में सवार गांव जोधकां निवासी एकता ने बताया कि उसका सिरसा में प्रैक्टिकल का एग्जाम था। लेकिन बस टोल के पास खड़ी होने से वह नहीं पहुंच पाई। इसी बस में सवार जींद की खिलाड़ी सोनिया ने भी अपनी आपबीती बयां की। उसने कहा कि सिरसा में उसकी गेम थी, लेकिन रोड जाम के कारण वह रेस में हिस्सा लेने से वंचित रह गई।

इसी तरह पानीपत के बसंत कुमार ने बताया कि वह फैमिली के साथ सिरसा के लिए निकला था। उसने किसी आवश्यक कार्यक्रम में पहुंचना था। चालक- परिचालक ने बस टोल के पास रोक दी और सवारियों को उतार दिया।शहीद भगतसिंह स्टेडियम में किसान महापंचायत के बाद से किसानों ने कोर्ट परिसर के सामने पक्का मोर्चा लगा रखा है। जहां धरना लगाकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। वहीं एक बुजुर्ग किसान बलदेव सिंह पिछले चार दिनों से आमरण अनशन पर हैं। जिनकी हालत नाजूक बनी है। उधर सुरक्षा के लिहाज से जिला प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट है।

व्यवस्था... 61 जवानों की मदद से वाहनों के रूट किए डायवर्ट

सिरसा में डिप्टी स्पीकर की गाड़ी तोड़फोड़ मामले के दौरान गिरफ्तार किए पांच किसानों की रिहाई की मांग को लेकर संयुक्त मोर्चे के आह्वान पर किसान जिले के दोनों टोल भावदीन व खुइयां मलकाना के अलावा पंजुआना के पास नेशनल हाइवे नंबर 9 पर एकत्रित हो गए। किसानों ने एंबुलेंस, आर्मी, शादी की गाड़ियों को नहीं रोका। उन्हें रास्ता उपलब्ध करवाया गया। जबकि ट्रैफिक पुलिस ने रोड जाम के दोनों तरफ से आने वाले वाहनों को पहले से दूसरे रास्ते दिखा दिए, ताकि वह किसानों के साथ न उलझें।

उधर कानून व्यवस्था बनाएं रखने को तैनात ड्यूटी मजिस्ट्रेट व 350 से ज्यादा पुलिस के जवानों ने निगाह बनाए रखी। ट्रैफिक थाना एचएचओ बहादुर सिंह ने बताया कि किसानों की ओर से 60 किमी. के दायरे में हिसार से डबवाली नेशनल हाइवे को तीन जगह रोका गया था । जिसमें दोनों टोल भावदीन व खुइयां मलकाना के अलावा गांव पंजुआना नहर पर किसानों ने दो घंटे जाम लगाया था । इस दौरान ट्रैफिक पुलिस के 61 जवानों को तैनात किया गया था । रोड जाम के दोनों तरफ 11 जगह नाकेबंदी कर वाहनों के रूट डायवर्ट किए गए।

जानिए... 30 मिनट का सफर करना पड़ा ज्यादा

तीन जगह से नेशनल हाइवे नंबर 9 जाम होने के कारण वाहन चालकों को रूट डायवर्ट करके निकालना पड़ा । इस कारण वाहन चालकों को 30 से 40 मिनट तक का अधिक सफर करना पड़ा। इस दौरान गांव खैरेकां से बप्पां, बड़ागुढ़ा, कालांवाली, ऐलनाबाद व श्रीगंगानगर जाने वालों को पंजुआना, खारियां गोरीवाला होते हुए चौटाला रोड से भेजा गया। इसी तरह बठिंडा जाने वालों को कालांवाली, सहारणी, बड़ागुढ़ा से डबवाली पहुंचाया। जिन्होंने इसी साइड से डबवाली रोड पर चढ़ना था वह रंगा पुल या सरदूलगढ़ से सीधे रोड़ी ,कालांवाली होकर डबवाली और जिन्होंने ओढ़ां क्षेत्र में जाना था वह अलीकां से बड़ागुढ़ा होकर पन्नीवाला मोटा कैंचियां होकर भी निकले। इसके अलावा शेरपुरा डिंग व भावदीन से संघरसाधा, कोटली मोड निकाला गया।

शांति बनाए रखने को चर्चा

सिरसा, किसान आंदोलन के दौरान कानून व्यवस्था ना बिगड़े। इसके लिए डीसी की अध्यक्षता में बुधवार को स्थानीय कैंप कार्यालय में शहर के प्रमुख लोगों के साथ बैठक का आयोजन हुुआ। बैठक में एसपी अर्पित जैन भी मौजूद थे। बैठक में पिछले लगभग 10 दिनों से किसान संगठनों द्वारा किए जा रहे धरना प्रदर्शन व शहर में कानून एवं शांति व्यवस्था को लेकर विस्तार से चर्चा की गई।

खबरें और भी हैं...