वाटर सिक्योरिटी प्लान:योजना के तहत गांव पीरखेड़ा में वाटर सिक्योरिटी प्लान बनाने को चर्चा की

सिरसा16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • डीपीएमयू विशेषज्ञ बोले-भूजल प्रबंधन में सुधार करना योजना का उद्देश्य

अटल भूजल योजना के तहत जिला के खंड रानियां के गांव पीर खेड़ा के ग्राम सचिवालय में वॉटर सिक्योरिटी प्लान बनाने को लेकर चर्चा की गई। बैठक में सिंचाई और जल संसाधन विभाग से डीपीएमयू विशेषज्ञ आकाश बराल, संजीत सिंह, एनजीओ से कृषि विशेषज्ञ अर्शदीप, हाइड्रोलॉजिस्ट विजय, आईईसी विशेषज्ञ पूजा और रानी सहित आमजन मौजूद थे। डीपीएमयू विशेषज्ञ आकाश बराल ने बताया कि अटल भूजल योजना 25 दिसंबर 2019 को पूर्व प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की 95वीं जयंती पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा एक भूजल प्रबंधन को लेकर शुरू की गई एक महत्वाकांक्षी योजना है। इस योजना का उद्देश्य सात में भूजल प्रबंधन में सुधार करना है।

अटल भूजल योजना के तहत इस माह रानियां खंड में 12 वॉटर सिक्योरिटी प्लान तैयार किए जा रहे हैं। बैठक में भूजल से संबंधित विभिन्न समस्याओं को साझा किया गया और विभिन्न विषयों जैसे भूजल की मांग को कम करने के लिए सरकारी सब्सिडी के साथ ड्रिप सिंचाई, छिड़काव प्रणाली, भूमिगत पाइपलाइन और फसल विविधीकरण आदि पर विस्तार से चर्चा की गई। बैठक के दौरान गांव में जल सुरक्षा योजना तैयार करने को लेकर आमजन से वर्षा जल संचयन, तालाब कायाकल्प और पानी की आपूर्ति बढ़ाने के लिए जल संचयन आदि बारे चर्चा की गई।

इस दौरान किसानों ने सरकार की योजनाओं व फसल विविधीकरण के प्रति रुचि भी दिखाई। तत्पश्चात टीम ने अटल भूजल टीम ने उन खेतों का दौरा किया जहां किसान पहले से ही इस तरह के तरीकों का आजमा कर रहे थे। ड्रिप सिंचाई का उपयोग करने वाले किसान किन्नू की खेती कर रहे थे, जिससे बेहतर उपज के साथ पानी की मात्रा में लगभग 80 प्रतिशत तक की कमी आई है।

खबरें और भी हैं...