कोरोना से निपटने की तैयारी:जी-कोविड सेवा होगी शुरू, केस बढ़े तो संक्रमित अब घर पर होंगे आइसोलेट

सिरसाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिले में लगातार बढ़ रहे कोरोना के केस , कोविड-19 अस्पताल की कैपेसिटी 100 बेड, सिविल सर्जन ने डीसी के साथ किया मंथन

जिला में कोरोना का कम्युनिटी स्प्रैड बढ़ने लगा है और प्रतिदिन नए केस कोरोना संक्रमण के सामने आ रहे हैं। कोविड-19 अस्पताल की कैपेसिटी केवल 100 बैड की है। लेकिन लगातार बढ़ते केस को देखते हुए अंदेशा है कि जल्द ही हाउसफुल हो जाएगा। 

इस स्थिति से निपटने के लिए मंगलवार को सिविल सर्जन के साथ मिलकर प्रशासनिक अधिकारियों ने गंभीर मंथन किया और वैकल्पिक व्यवस्था को लेकर विचार हुआ। नया फैसला ये है कि अब यदि केस बढ़े और अस्पताल में जगह नहीं बची तो कोरोना संक्रमितों को होम आइसोलेट किया जाएगा यानी घर पर ही इलाज। स्वास्थ्य विभाग की टीमें घर पर ही कोरोना संक्रमितों की मॉनिटरिंग करेंगी।मंगलवार को डीसी रमेश चंद्र बिढ़ान के साथ अन्य अधिकारियों की सिविल सर्जन डॉ. सुरेंद्र नैन की उपस्थिति में मीटिंग हुई। इस दौरान जिला में कोरोना के केस को लेकर मंथन किया गया। ये भी विचार किया गया कि भविष्य में क्या हालात बन सकते हैं। 

कम्युनिटी स्प्रैड कितना फैल सकता है और इस स्थिति से निपटने के हमारे पास क्या प्रबंध हैं। डीसी ने स्पष्ट रूप से हिदायत दी कि किसी भी स्थिति में लापरवाही से काम न लिया जाए। विचार विमर्श के बाद फैसला हुआ कि यदि ज़रूरत पड़ी, अस्पताल में मरीजों की संख्या ज्यादा हो गई तो उनका इलाज घर पर भी किया जा सकता है। यानी संक्रमितों को होम आइसोलेट करके स्वास्थ्य विभाग की टीमें उन पर मॉनिटरिंग कर सकती हैं। इससे अस्पताल में भीड़ नहीं होगी और घर पर रहकर व्यक्ति आसानी से बीमारी से लड़ भी सकता है।

रिपोर्ट के लिए नहीं काटने पड़ेंगे चक्कर
स्वास्थ्य विभाग अब जी-कोविड सेवा शुरू करेगा। इससे लाभ यह होगा कि जांच करवाने वालों को अपनी रिपोर्ट के लिए न तो बार-बार कंट्रोल रूम पर कॉल करके जानकारी हासिल करनी पड़ेगी और न ही चक्कर काटने पड़ेंगे। रिपोर्ट आने पर स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी अपने आप ही रिपोर्ट की जानकारी देंगे।

कोरोना पॉजिटिव के तीन नए केस मिले तो तीन को अस्पताल से मिली छुट्‌टी
मंगलवार को कोरोना के 3 नए केस सामने आए हैं। विभाग ने तीनों को अस्पताल में दाखिल करवा दिया है और इलाज शुरू कर दिया है। अब इनके संपर्क में आने वालों की तलाश विभाग ने शुरू कर दी है और उनकी भी जांच की जाएगी। मंगलवार को जेजे कॉॅलोनी निवासी 24 वर्षीय युवक की रिपोर्ट पॉजीटिव मिली। इसके अलावा कीर्तिनगर का 21 वर्षीय युवक भी संक्रमित मिला है। इतना ही नहीं शहर की अग्रसेन कॉलोनी में भी एक केस मिला है।

यहां 39 वर्षीय कोरोना की चपेट में आया है। अंदेशा है कि जेजे कॉलोनी और कीर्तिनगर वाले पेशेंट कोरोना पॉजीटिव के संपर्क में आए थे, जबकि अग्रसेन कॉलोनी के व्यक्ति की ट्रेवल हिस्ट्री या संक्रमण कहां से लाया, इसकी तलाश में स्वास्थ्य विभाग की टीम जुट गई है। मंगलवार को ही 3 संक्रमित ठीक हो गए। रिपोर्ट निगेटिव आने पर उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। 

खबरें और भी हैं...