पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

डेढ़ महीने से लापता चल रहा हेल्थ इंस्पेक्टर:अब सिविल अस्पताल प्रशासन कर रहा गबन का केस दर्ज करवाने की तैयारी

सिरसा16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में कोरोना कॉल के दौरान काटे गए मास्क के चालान की राशि जमा न करवाने व हिसाब- किताब नहीं दिए जाने के आरोप के बाद गायब चल रहे हेल्थ इंस्पेक्टर देवेंद्र माेंगा पर अब नागरिक अस्पताल प्रशासन ने बड़ी कार्रवाई करने की तैयारी कर ली है । इसके लिए सीएमओ मनीष बंसल ने कानूनी राय लेते हुए विभाग की सक्षम अथॉरिटी को पत्र लिखकर केस दर्ज करवाने की स्वीकृति मांगी है ।

मुख्यालय के निर्देशानुसार आरोपी हेल्थ इंस्पेक्टर के खिलाफ पुलिस को शिकायत दी जाएगी और गबन का केस दर्ज करवायाा जाएगा । सीएमओ ने बताया कि केस दर्ज करवाने से पहले सक्षम अथॉरिटी से परमिशन लेनी अनिवार्य होती है । यहां बता दें कि स्वास्थ्य विभाग के हेल्थ इंस्पेक्टर देवेंद्र मोंगा को कोरोना काल में काटे गए मास्क के चालान राशि की जिम्मेदारी साैंपी हुई थी। सीएमओ ने नोटिस जारी कर राशि का हिसाब- किताब मांगा था, इसी दौरान इंस्पेक्टर को कई बार नोटिस किया गया था ।

30 मई को मास्क चालान राशि विभाग में जमा न करने पर अस्पताल के कुछ अधिकारियों ने राशि गबन के आरोप लगाए थे। जिसके बाद हेल्थ इंस्पेक्टर ने 31 मई को पंजाब के भरतगढ़ नंगल डैम पर हेल्थ इंस्पेक्टर ने फेसबुक पर वीडियो लाइव की और जीवनलीला समाप्त करने की चेतावनी दी थी । जिसमें संबंधित डॉक्टरों व अकाउंट ब्रांच के कर्मचारियों पर प्रताडि़त करने के आरोप लगाए थे ।

घटनास्थल से सुसाइड नोट भी पंजाब पुलिस ने बरामद किया था । लेकिन इसके बाद अभी तक देवेंद्र मोंगा का कोई सुराग नहीं लग पाया है और रिकार्ड संबंधित डाटा भी विभाग के पास अभी जमा नहीं हो पाया है। सीएमओ मनीष बांसल ने बताया कि पुलिस ने जुटाए मास्क चालान रसीद बुक के डाटा से मिलान किया गया है।

अभी 43 लाख रुपये बकाया

हेल्थ इंस्पेक्टर देवेंद्र माेंगा 31 मई से गायब चल रहा है। आखिरी बार पंजाब की भाखड़ा नहर के पुल पर फेसबुक लाइव हुआ था । वहां पर अस्पताल के एक डिप्टी सीएमओ सहित अन्य अधिकारी और कर्मचारी पर प्रताड़ना के आरोप लगाए थे । उसके बाद सुसाइड करने की चेतावनी दी थी।

अब डेढ़ महीना बीत गया है। मगर अभी तक हेल्थ इंस्पेक्टर का कोई सुराग नहीं लगा है। सुसाइड करने की आशंका के चलते परिजन नहर में सर्च अभियान भी चला चुके हैं । मगर कोई सुराग नहीं लग पाया है । इधर नागरिक अस्पताल प्रशासन के मुताबिक हेल्थ इंस्पेक्टर ने 43 लाख रुपये अभी तक जमा नहीं करवाए हैं।

हेल्थ इंस्पेक्टर पर केस दर्ज करवाने से पहले सक्षम अथॉरिटी को स्वीकृति बारे पत्र लिखा है । लगभग 43 लाख रुपये की राशि देवेंद्र मोंगा की ओर से जमा नहीं करवाई गई है। अनुमति मिलने के बाद पुलिस को शिकायत दी जाएगी ।'' -डॉ. मनीष बांसल, सीएमओ, सिरसा।

खबरें और भी हैं...