परेशानी:दो माह से पटवारियों और कोटवारों को नहीं मिला वेतन, त्योहार पर आर्थिक संकट से जूझना पड़ रहा

सिरसा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • नायब तहसीलदार को आहरण एवं संवितरण अधिकार न होने से समस्या

चीनौर तहसील में पदस्थ पटवारियों और कोटवारों को दो माह से वेतन नहीं मिला है। वेतन न मिलने के कारण त्यौहारी सीजन में पटवारियों और कोटवारों को आर्थिक परेशानियों से जूझना पड़ रहा है। कई बार अधिकारियों से पटवारियों और कोटवारों ने वेतन दिलाए जाने की मांग की लेकिन वेतन नहीं दिय जा रहा है।

दरअसल चीनौर तहसील में करीब 36 पटवारी और करीब 70 से अधिक कोटवार हैं। इन्हे पिछले अगस्त और सितंबर माह का वेतन नहीं मिला है। कई बार उन्होने चीनौर में पदस्थ नायब तहसीलदार धीरेंद्र गुप्ता से वेतन निकाले जाने की मांग की लेकिन उनके द्वारा आहरण एवं संवितण के अधिकार न होने की बात कही जा रही है। पटवारी लखन सोनी, अमित भार्गव, अजय अनुरागी, अतुल सिंह, एवं अन्य पटवारियों ने बताया कि वेतन न मिलने से पिछले दो माह से वह और कोटवार आर्थिक परेशानियों का सामना कर रहे हैं।

दरअसल 4 अगस्त को तहसीलदार दीपक शुक्ला का डबरा ट्रांसफर कर दिया गया है। उसके बाद तहसीलदार सीताराम वर्मा यहां पदस्थ किए गए। लेकिन महज 8 दिन बाद ही उनका तबादला श्योपुर कर दिया गया। इसके बाद डबरा से तहसीलदार रामनिवास सिकरवार को यहां पदस्थ किया गया।

इससे पहले कि उनके पास आहरण एवं संवितरण के अधिकार मिल पाते उनका भी ट्रांसफर कर दिया गया। वहीं 2 सितंबर को नायब तहसीलदार धीरेंद्र गुप्ता की यहां पदस्थापना की गई। लेकिन उन्हे अभी तक आहरण एवं संवितरण के अधिकार कलेक्टर द्वारा नहीं दिए गए हैं,जिससे वे वेतन नहीं निकाल पा रहे हैं।

खबरें और भी हैं...