प्रशिक्षण:प्रारंभिक भाषा शिक्षण के तहत प्रशिक्षण में बच्चों को पढ़ाने को लेकर बनाई रणनीति

सिरसा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एएलएफ टीम, बीआरपी व एबीआरसी करेंगे स्कूलों की विजिट

प्रारंभिक भाषा शिक्षण कार्यक्रम के अंतर्गत जिले में कक्षा पहली, दूसरी व तीसरी के शिक्षकों का एक दिवसीय प्रशिक्षण हुआ। जिसमें शिक्षकों को अगले दो-तीन माह की रणनीति को लेकर बात की गई। एपीसी शशि सचदेवा ने बताया की एक दिवसीय प्रशिक्षण में शिक्षकों को अगले 2 माह की योजना का कैलेंडर बना कर दिया गया है।

ताकि जो बच्चे कोरोना काल में सीखने से पिछड़ गए थे उनको कैसे सीखने की प्रक्रिया से जोड़ सकते हैं के बारे में योजना बनाई है। साथ ही शिक्षक प्रत्येक बच्चे का स्वमूल्यांकन करेंगे कि बच्चे की स्थिति क्या है। उसके अनुसार दो ग्रुप बनाएंगे। उन दो अलग-अलग ग्रुप में बच्चों के अधिगम स्तर के अनुसार कार्य किया जाएगा।

शिक्षकों को ग्रुप बनाने के भी निर्देश दिए

शिक्षकों को बच्चों के साथ बेहतर योजना बनाने में मदद करने के लिए एलएलएफ की टीम, बीआरपी, एबीआरसी रोजाना स्कूल का विजिट करेंगे। वहीं शिक्षकों को ग्रुप बनाने के भी निर्देश दिए गए। ग्रुप में शिक्षक प्रतिदिन अभिभावकों को कार्य भेजेंगे। जो बच्चे घर पर भी कार्य करके पढ़ाई कर सकेंगे। इसके अलावा सभी ब्लॉकों में प्रारंभिक भाषा शिक्षण कार्यक्रम के अंतर्गत पहली, दूसरी व तीसरी कक्षा के प्रत्येक बच्चे की अभ्यास पुस्तिका पहुंचाई गई है।

डीपीसी ने किया निरीक्षण

शिक्षक प्रशिक्षण के लिए जिले से सभी चारों एपीसी की ओर से प्रशिक्षण में विजिट करके शिक्षकों को मोटीवेट किया गया। जबकि जिला परियोजना समन्वयक बूटा राम की ओर से प्रशिक्षण का औचक निरीक्षण किया गया। डीपीसी ने प्रशिक्षण दौरान शिक्षकों को टिप्स भी दिए कि बच्चों को कैसे और अधिकतर ढंग से पढ़ाया जा सकता है।

प्रारंभिक भाषा शिक्षण कार्यक्रम के अंतर्गत जिले में कक्षा पहली, दूसरी व तीसरी के शिक्षकों का एक दिवसीय प्रशिक्षण हुआ है। बच्चों को अच्छे ढंग से पढ़ाने के लिए टिप्स दिए गए हैं। समय-समय पर स्कूलों का विजिट किया जाएगा। स्कूलों में पढ़ाने के लिए पुस्तकें भिजवा दी गई हैं''
शशि सचदेवा, एपीसी, सिरसा।

खबरें और भी हैं...