सविता पूनिया अब हॉकी लीग में करेंगी लीड:टोक्यो ओलिंपिक में 8 पेनल्टी कॉर्नर बचाकर 'द ग्रेट वॉल' बनी; लंबी हाइट गजब फिटनेस; मिलेगा भीम अवार्ड

सिरसाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

हरियाणा के सिरसा जिले के गांव जोधकां की सविता पूनिया को हॉकी में बडी ज़िम्मेवारी मिली है। टोक्यो ओलिंपिक में 8 पेनल्टी कॉर्नर बचाकर 'द ग्रेट वॉल' बनी सविता पूनिया को अब भारतीय महिला हॉकी लीग के कैप्टन की कमान मिली है। कैप्टन बनाने की सूचना के बाद उसके गांव और परिवार में खुशी का माहौल है।

स्पेन में 26-27 फरवरी को होने वाली FIH महिला प्रो लीग मैचों के लिए एक बार फिर से महिला हॉकी टीम ने कमर कस ली है। इन दिनों भारतीय महिला टीम भुवनेश्वर में प्रैक्टिस कर रही है। अच्छे प्रदर्शन के लिए टीम का हर सदस्य पसीना बहा रहा है। इस मेच का इंतजार कर रहे सिरसा के लोगों के लिए सोमवार को खुशखबरी आई कि उनकी लाडली सविता पूनियां को भारतीय महिला टीम का कैप्टन बनाया गया है।

सविता पूनिया अपने दादा का सपना पूरा करने के लिए हॉकी में आई थीं।
सविता पूनिया अपने दादा का सपना पूरा करने के लिए हॉकी में आई थीं।

जोधकां में जश्न का माहौल

सविता ही इस लीग में टीम इंडिया का नेतृत्व करेंगी। इसके अलावा इस टीम में 22 खिलाड़ियों को चुना गया है। इस टीम का वाइस कैप्टन दीप ग्रेस इक्का को बनाया गया है। सविता को मिली इस बडी जिम्मेदारी से उसके पैतृक गांव जोधकां में जश्न का माहौल है।

सविता के पिता महेंद्र पूनियां ने अपनी बेटी को मिली जिम्मेदारी पर उसको आशीर्वाद दिया है और उसके उज्ज्वल भविष्य के लिए कामना की है। उन्होंने कहा कि ओलिंपिक में भी काफी अच्छा प्रदर्शन रहा था लेकिन अफसोस की टीम इंडिया ओलिंपिक में कोई मेडल भारत के लिए हासिल नहीं कर सकी। उन्होंने कहा कि ओलिंपिक में भले ही टीम इंडिया ने कोई मेडल नहीं जीता हो] लेकिन टीम इंडिया ने देश के लोगों का दिल जरूर जीता है।

सविता पूनिया आज पूरी दुनिया में एक जाना माना नाम हैं।
सविता पूनिया आज पूरी दुनिया में एक जाना माना नाम हैं।

बेटी नई जिम्मेदारी और उर्जा से मैदान में उतरेगी

महेंद्र पूनिया के अनुसार सविता भी इस जिम्मेदारी के मिलने से काफी उत्साहित है और डबल जिम्मेदारी के साथ नए जोश से वह इस लीग के लिए मैदान में उतरेगी। उन्होंने कहा कि अब 2022 में टीम इंडिया के सामने काफी टूर्नामेंट है जो टीम इंडिया के लिए एक चुनौती भी है। उन्होंने कहा कि बेटी इनको जितने के लिए पूरी तैयारी से मैदान में उतरेगी।

मां बोली-बेटी उत्साहित है

सविता की मां लीलावती और भाई सुंदर पूनिया भी बेटी को मिली कैप्टन की जिम्मेदारी से उत्साहित है। मां बोली कि बेटी की इच्छा रही है कि वे हॉकी में इंडिया को खोया हुआ अपना मुकाम दिलाए। इसके लिए उसने पूरी ताकत झौकी है।

खबरें और भी हैं...