पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कल खुलेंगे छठी से आठवीं के छात्रों के लिए स्कूल:3 घंटे के स्कूल में नहीं होगा लंच ब्रेक, तापमान ज्यादा तो नाे एंट्री

सिरसा2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सिरसा। स्कूल में कमरों को सेनीटाइज करवाते स्कूल प्रिंसिपल। - Dainik Bhaskar
सिरसा। स्कूल में कमरों को सेनीटाइज करवाते स्कूल प्रिंसिपल।

कोरोना की रफ्तार अब धीरे-धीरे कम हो रही है। जिला में भी प्रतिदिन 1 या 2 केस सामने आ रहे हैं। 23 जुलाई से जिले के छठी से आठवीं कक्षा के विद्यार्थियों के लिए भी 3 घंटे के लिए स्कूल खुल जाएंगे। 23 जुलाई से जिलेभर में 120 राजकीय मिडल स्कूल और करीब 297 निजी स्कूल विद्यार्थियों के लिए खुल जाएंगे। 9वीं से 12वीं के स्कूल विद्यार्थियों की कक्षाएं सुचारू होने के बाद ही छठी से आठवीं के विद्यार्थियों के लिए स्कूल खोले जाएंगे। स्कूल खोलने के बाद ऑनलाइन पढ़ाई जारी रहेगी।

छठी, सातवीं व आठवीं कक्षा के विद्यार्थियों को अलग-अलग सेक्शन वाइज बांटकर पढ़ाया जाएगा। इसके अलावा क्षमता से 50 प्रतिशत विद्यार्थियों को ही स्कूल में रोटेशन के अनुसार बुलाया जाएगा। तीन घंटे का स्कूल होने के कारण लंच ब्रेक नहीं होगा। स्कूलों को खोलने को लेकर संचालकों की ओर से पूरी तैयारियां कर ली गई हैं। स्कूल खुलने से पहले सभी कमरों को सेनिटाइज किया गया। वहीं डेस्कों की भी साफ-सफाई की गई। स्कूल संचालकों ने शिक्षकों की बच्चों के तापमान चैक करने, हाथों को सेनिटाइज करवाने, मास्क चैक करने की अलग-अलग ड्यूटियां लगाई।

बच्चे अभिभावकों की लिखित सहमति पत्र लेकर स्कूलों में पहुंचेंगे। वहीं शिक्षकों के ग्रुप में अभिभावकों ने बच्चों को स्कूल भेजने के लिए सहमति पत्र पहले ही भेज दिए, ताकि उन्हें प्रवेश दौरान गेट पर कोई परेशानी न हो। जिला शिक्षा अधिकारी ने भी सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को स्कूल चैक करने के निर्देश दिए। विद्यार्थियों का तापमान चैक करके उसे रजिस्टर में नोट करके अवसर एप पर भेजने के लिए कहा।

गूगल फॉर्म में रोजाना देनी पडे़गी रिपोर्ट

शिक्षा विभाग की ओर से सभी स्कूल मुखियाओं के लिए गूगल फॉर्म भी जारी किया गया है। इस फॉर्म में मुख्य अध्यापकों को स्कूल में आने वाले विद्यार्थियों की संख्या और उनके तापमान को लेकर रोजाना रिपोर्ट देनी होगी। यह रिपोर्ट सीधे विभाग के पास जाएगी। वहीं पूरी सावधानी बरतते हुए ही स्कूल खोलने के लिए ही कहा गया है। ताकि विद्यार्थी सुरक्षित तरीके से पढ़ाई कर सकें और संक्रमण से भी बचा जा सके।

स्टूडेंट्स को नहीं मिलेगी बस और ना ही लगेगी गैर हाजिरी

स्कूल में जो बच्चे नहीं आना चाह रहे हैं उनकी गैर हाजिरी नहीं लगाई जाएगी। जिस स्कूल में बच्चों की संख्या ज्यादा है। वहां रोस्टर के हिसाब से बुलाया जाएगा। बच्चों को किस तरह स्कूल में बुलाया जाना है। इसे लेकर रोस्टर मुखिया स्टॉफ के सहयोग के साथ तय करेंगे। निजी स्कूलों की ओर से अभी बस सर्विस नहीं दी जाएगी। स्कूल संचालकों का कहना है कि सरकार की गाइडलाइन के अनुसार कार्य किया जाना है। बस सर्विस देने के निर्देश जारी नहीं हुए हैं। साथ ही कैंटीन सुविधा नहीं दी जाएगी।

लिखित अनुमति लाने पर ही मिलेगी स्कूल में एंट्री

अभी सरकार की ओर से इन कक्षाओं के लिए गाइडलाइन जारी नहीं हुई है। इससे पहले ही स्कूलों की ओर से तैयारी की जा रही है। सेनिटाइज किया जा रहा है। हर क्लास में दो बार सफाई कराने के साथ सेनिटाइज स्टैंड रख दिए गए हैं। इससे आने वाले बच्चे आते-जाते समय सेनिटाइजर कर पाएंगे। स्कूलों की ओर से विद्यार्थियों पर दबाव नहीं बनाया जाएगा। जिसके पास लिखित अनुमति रहेगी उसको ही प्रवेश दिया जाएगा। अगर किसी को बुखार या तापमान ज्यादा मिला तो उसे वापस भेजा जाएगा।

स्कूल खोलने को लेकर पूरी तैयारियां कर ली हैं। स्कूल संचालकों को कोविड गाइडलाइन की पालना करने के निर्देश दे दिए हैं। रोस्टर वाइज बच्चों को बुलाने के लिए कहा गया है। बच्चों का तापमान चेक करके अवसर एप पर भेजने के भी निर्देश दिए गए हैं।'' -संत कुमार, जिला शिक्षा अधिकारी, सिरसा।

खबरें और भी हैं...