विशेष वैक्सीनेशन शिविर:शहर के 15 मंदिरों में वैक्सीनेशन आज से, साधक भी लगवाएंगे टीका

सिरसा10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शहर के मंदिर में टीका लगवाते हुए श्रद्धालु। - Dainik Bhaskar
शहर के मंदिर में टीका लगवाते हुए श्रद्धालु।
  • नवरात्र में शुरू हुआ विशेष अिभयान, पहले दिन पांच बड़े मंदिरों में लगाए वैक्सीनेशन कैंप

शहर के मंदिरों में पूर्जा- अर्चना करने आए साधक प्रार्थना और ध्यान के साथ- साथ टीकाकरण भी करवा सकेंगे। जीवन में खुशहाली और शांति के साथ- साथ जिले को कोरोना से मुक्त बनाए रखने की अराधना भी देवी मां से करेंगे। क्योंकि स्वास्थ्य विभाग ने नवरात्रों से बड़े मंदिरों में वैक्सीनेशन कैंप लगाने शुरू कर दिए हैं। प्रथम नवरात्रा को पांच मंदिरों में टीकाकरण टीमें लगाई गई, जबकि आज से 15 मुख्य मंदिरों में कोरोना से बचाव का टीका श्रद्घालुओं को लगाया जाएगा। इसके अलावा सामजिक संस्थाएं मंदिरों में मास्क भी वितरित करेंगी।

जिले में 10 लाख 11 हजार 796 लाभार्थियों ने कोरोना से बचाव का टीका लगवाया है । जिसमें 7 लाख 63 हजार 840 ने पहली और 2 लाख 47 हजार 956 लोगों ने दोनों डोज लगवाई हैं । पहली डोज लगवाने वालों ने काफी उत्साह दिखाया, मगर सैकेंड डोज में जिला बेहद पिछड़ा है । दो लाख से ज्यादा लोगों की सैकेंड डोज ड्यू है, जिनको फोन, मैसेज व सूचना तक भेजी गई, लेकिन ज्यादातर लोग टीका लगवाने को आगे नहीं आए हैं । संपूर्ण वैक्सीनेशन में जिले के 70 गांव बेहद पिछड़े हुए हैं । इसलिए विभाग ने मंदिरों में भी टीकाकरण की व्यवस्थाएं की हैं ।

{संपूर्ण वैक्सीनेशन में पिछड़े : जिले में स्वास्थ्य विभाग ने बेशक वैक्सीनेशन कोटे में हर माह बढ़ौतरी की। मई में 77 हजार 500 डोज मिली थी, तो उसके बाद जून में 99 हजार व जुलाई में आंकड़ा एक लाख के पार पहुंचा । जबकि अगस्त में 1 लाख 83 हजार टीके जिला को मिले । पिछले माह 3 लाख डोज स्टॉक पहुंच। लेकिन इसके बावजूद संपूर्ण वैक्सीनेशन मात्र 24 प्रतिशत हो पाया है । जिसमें 2 लाख 47 हजार 956 लोगों ने दोनों डोज लगवाई हैं।

{फिलहाल एक एक्टिव केस : पिछले वर्ष (पहली लहर) में 7933 लोग कोरोना संक्रमित हुए थे और 113 लोगों को जान गंवानी पड़ी थी, जबकि दूसरी लहर में एक से तीन लोग प्रभावित हुए । जिले में करीब 22 हजार लोग इसकी चपेट में आए। मार्च से कोरोना संक्रमण का दायरा बढ़ने लगा था । जिसको लोगों ने गंभीरता से नहीं लिया था। बिना मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग सांस्कृतिक, धार्मिक व शादी समारोह में लोग हिस्सा लेते रहे थे । जिसका नतीजा अप्रैल- मई में एकाएक केस बढ़े, तो अस्पतालों में बेड, ऑक्सीजन को लेकर कोहराम मचा था ।

अप्रैल में 6372 संक्रमित मिले, जिनमें 58 को जान गंवानी पड़ी, जबकि मई में सर्वाधिक 13832 केस सामने आए और 246 की मौत हुई थी । फिलहाल जिले में तीन एक्टिव केस हैं। एक्सपर्ट के मुताबिक कोरोना से बचाव को वैक्सीनेशन के लिए आगे आएं, वैक्सीन की दोनों डोज से कोरोना संक्रमण के खतरे को कम करती हैं ।

जिला वैक्सीनेशन इंचार्ज एवं फार्मेसी ऑफिसर योगेश खन्ना ने बताया कि संभावित तीसरी लहर से पहले सबको वैक्सीनेट करने का लक्ष्य है । कोरोना से बचाव को वैक्सीनेशन अचूक सुरक्षा कवच है। कोविशील्ड व को- वैक्सीन दोनों इस वायरस पर प्रभावी हैं । नवरात्रों के दौरान श्रद्घालु मंदिरों में पूजा- अर्चना करने पहुंचेंगे, उसके साथ- साथ वह वैक्सीन लगवा सकेंगे। इसके लिए शहर के बड़े मंदिरों में वैक्सीनेशन शिविर लगाए जाएंगे।

खबरें और भी हैं...