भाजपा प्रत्याशी का अपनों ने ही छोड़ा साथ:पलवल नप चुनाव में भीतरघात का अंदेशा; 2 पूर्व शहरी विधायक विरोध में

पलवल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चेयरमैन पद के लिए भाजपा उम्मीदवार डॉ. यशपाल के लिए डोर-टू-डोर वोट मांगते विधायक दीपक मंगला। - Dainik Bhaskar
चेयरमैन पद के लिए भाजपा उम्मीदवार डॉ. यशपाल के लिए डोर-टू-डोर वोट मांगते विधायक दीपक मंगला।

हरियाणा के पलवल में नगर परिषद चुनाव में भाजपा उम्मीदवार को अपनी पार्टी के दो पूर्व विधायकों के विरोध का सामना करना पड़ रहा है। भाजपा उम्मीदवार डॉ. यशपाल के लिए डगर कठिन होती जा रही है। जबकि भाजपा के पलवल से विधायक दीपक मंगला व हथीन से विधायक प्रवीण डागर डोर-टू-डोर वोट मांग रहे है। भाजपा प्रत्याशी के समर्थन में कार्यक्रम तो हो रहे हैं, लेकिन भीतरघात का खतरा भी मंडरा रहा है। क्योंकि देश व प्रदेश में सरकार होने के चलते कुछ लोग भाजपा प्रत्याशी का घर आने पर फूल मालाओं से स्वागत तो करते है, लेकिन वोट की बात पूछने पर चुप्पी साध जाते हैं।

भाजपा प्रत्याशी को इससे खतरा

पूर्व विधायक सुभाष चौधरी कहते हैं विधानसभा चुनाव में इनेलो छोडक़र भाजपा में शामिल हुए और विधायक का चुनाव लड़ रहे दीपक मंगला के समर्थन में मैदान में उतरे थे। वे गुर्जर समाज से हैं तो उनका समाज में रुतबा भी है। इतना ही नहीं वे जब पलवल में नगर पालिका थी तो वे पार्षद व चेयरमैन भी रहे थे। जिसके चलते नगर परिषद क्षेत्र में उनकी अच्छी पहचान है।

उन्होंने मंगलवार को अपने समर्थकों की पंचायत में विचार कर आजाद उम्मीदवार धीरज को अपना समर्थन दे दिया। उसके बाद वे धीरज के लिए डोर-टू-डोर वोट भी मांग रहे है। लोगों से कह रहे है कि उन्होंने विधायक दीपक मंगला का साथ दिया, लेकिन उनकी अनदेखी की गई और नगर परिषद में भ्रष्टाचार चरम पर है, इसलिए वे भाजपा प्रत्याशी की ख़िलाफत कर आजाद उम्मीदवार धीरज के समर्थन में मैदान में उतरे है।

पूर्व विधायक सुभाष चौधरी भाजपा प्रत्याशी के विरोध में उतरे।
पूर्व विधायक सुभाष चौधरी भाजपा प्रत्याशी के विरोध में उतरे।

17 जून को लेंगे फैसला

पूर्व विधायक रामरतन कहते हैं कि वे एससी समाज के पलवल में वे सबसे बड़े नेता है और जब नगर परिषद चेयरमैन पद एसी समाज के लिए रिजर्व हुआ तो उन्हें ही नहीं पूछा गया। जिसके चलते वे पार्टी नेताओं से अपनी दूरी बनाए हुए है। पूर्व विधायक ने कहा कि वे अपनी इस इनदेखी का जबाब भाजपा प्रत्याशी को चुनाव में हराकर दिखाऐंगे। वे नप चेयरमैन पद के लिए किस उम्मीदवार का समर्थन करेंगे, इसके लिए आगामी 17 जून को बैठक कर निर्णय लेंगे। समाज के सैकडों लोग उनके पास रोजाना आते है, लेकिन वे सभी को 17 जून को बैठक में आने की बात कहकर अभी चुप रहने की बात कहते दिखाई दे रहे है।

भाजपा उम्मीदवार के लिए पॉजिटिव

देश व प्रदेश में भाजपा की सरकार है और जिला पलवल की तीनों विधानसभा सीटों पर भी भाजपा का कब्जा है। भाजपा के पलवल के विधायक दीपक मंगला व हथीन के विधायक प्रवीण डागर रोजाना भाजपा प्रत्याशी के लिए डोर-टू-डोर लोगों से वोट मांग रहे है। उन्हें लोगों का समर्थन भी मिल रहा है। दो विधायकों के मैदान में होने से भाजपा प्रत्याशी अपने आप को सबसे मजबूत मानकर चल रहे हैं। इतना ही नहीं भाजपा के केंद्रीय राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर व फरीदाबाद से विधायक सीमा त्रिखा भी भाजपा प्रत्याशी डॉ. यशपाल के समर्थन में पलवल आकर कार्यकर्ताओं की बैठक लेकर उन्हें जिताने के लिए अपील करके गए है।

14 उम्मीदवार चुनाव मैदान में

नगर परिषद चुनाव में भाजपा प्रत्याशी डॉ. यशपाल, आप की प्रत्याशी डॉ. नवीन रोहिल्ला, इनेलो प्रत्याशी करण डागर, पंचायती व कांग्रेस सर्मथक उम्मीदवार वीर वाल्मीकि व आजाद उम्मीदवार धीरज के अलावा चेयरमैन पद के लिए 14 उम्मीदवार चुनाव मैदान में है।