केमिस्ट से मिला नशीली दवाओं का जखीरा:गाड़ी में रखता था प्रतिबंधित दवा; 75 एमटीपी किट, 3 हजार टेबलेट-कैप्सूल मिले

पलवल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हरियाणा के पलवल में रसूलपुर गांव स्थित गुलावद मोड पर एक मेडिकल स्टोर संचालक की गाडी से भारी मात्रा में नशे की दवाइयों के साथ गर्भपात की किट बरामद हुई है। सीआईडी की सूचना पर ड्रग कंट्रोल विभाग और हरियाणा नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो की टीम ने छापेमारी की थी। टीम ने पहले मेडिकल स्टोर की तलाशी ली, उसके बाद स्टोर के पास खड़ी उसकी गाड़ी को चैक किया। टीम ने मेडिकल स्टोर को सील कर दिया और संचालक को पुलिस के हवाले कर दिया।

मेडिकल स्टोर नहीं गाड़ी में रखता था दवाएं

ड्रग कंट्रोलर डॉ. संदीप गहलान ने बताया कि विभाग को गुप्तचर विभाग से सूचना मिली थी कि रसूलपुर गांव में गुलावद मोड पर दीक्षा नामक मेडिकल स्टोर है, जहां गर्भपात व नशे की दवाइयां बेची जाती हैं। सूचना के आधार पर स्टोर पर छापेमारी की गई। लेकिन मेडिकल स्टोर पर जांच के बाद कुछ भी नहीं मिलासी। इसी दौरान वहां मौजूद किसी व्यक्ति ने बताया कि मेडिकल स्टोर संचालक इस तरह की दवाइयों को मेडिकल स्टोर पर ना रखकर अपनी वैगनआर गाडी में रखता है। वह गाडी को स्टोर से कुछ दूरी पर रखता है।

मेडिकल स्टोर संचालक के पास से मिला नशीली दवाओं का जखीरा।
मेडिकल स्टोर संचालक के पास से मिला नशीली दवाओं का जखीरा।

गाड़ी से मिली ये दवाएं

टीम जांच करती हुई गाडी के पास पहुंची और तलाशी शुरू की गई। तलाशी के दौरान टीम को गाडी से 2460 अलप्रेक्स टैवलेट, 103 टेरामीवेल इंजेक्शन, 180 एटीवन टैवलेट, 75 एमटीपी किट, 600 लोपेरामाईड के केप्शल बरामद किए। ये सभी दवाई नशे के लिए इस्तेमाल की जाती हैं। ड्रग कंट्रोल विभाग व हरियाणा नोर्कोटिक कंट्रोल ब्यूरो की टीम ने इस नशे की खेप को पकड़ा है। आरोपी मेडिकल स्टोर संचालक की पहचान जलाहाका गांव निवासी हरीलाल उर्फ हरीश के रूप में हुई है।

केस दर्ज, स्टोर सील

चांदहट थाना प्रभारी रमेशचंद ने बताया कि विभाग की शिकायत पर आरोपी स्टोर संचालक के खिलाफ 22 एनडीपीएस एक्ट, 3-4-5 एमटीपी एक्ट सहित विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया है और स्टोर को सील कर आगामी कार्रवाई शुरू कर दी गई है।