झज्जर में मिड डे मील वर्करों का प्रदर्शन:बोलीं- स्कूलों को बंद कर सरकार गरीब बच्चों को कर रही शिक्षा से दूर

झज्जर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
झज्जर में प्रदर्शन करतीं मिड डे मील वर्कर। - Dainik Bhaskar
झज्जर में प्रदर्शन करतीं मिड डे मील वर्कर।

हरियाणा के झज्जर में बुधवार दोपहर मिड डे मील वर्कर यूनियन ने प्रदर्शन किया। साथ ही अपनी मांगों को लेकर शिक्षा अधिकारी को ज्ञापन सौंपा। यूनियन की नेता सरोज दुजाना ने बताया कि सरकार स्कूलों को मर्ज करके व बंद करके बच्चों को शिक्षा के अधिकार से वंचित करना चाहती है। गरीब तबके के बच्चे इन्हीं सरकारी स्कूलों में पढ़कर अपनी शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं, लेकिन यदि यह स्कूल मर्ज या बंद हो जाएंगे तो वह अपने शिक्षा के अधिकार से वंचित रह जाएंगे।

साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार की चिराग योजना में भी भारी धांधली व घपला ,है क्योंकि जिन लोगों ने जेबीटी की हुई है, उन्हें तो नौकरियां प्रदान नहीं की जा रही है। जबकि जो वालंटियर हैं उन्हें नौकरी दी जा रही है। ऐसे में इस योजना के तहत घोटाला साफ नजर आता है। इसके अलावा उन्होंने कहा कि जब से वेतन में कुछ बढ़ोतरी हुई है तो पिछले 2 माह से उनका बढ़ा हुआ वेतन रुका हुआ है।

साथ ही उन्होंने कहा कि साल भर में उन्हें मात्र 600 ड्रेस बनाने के लिए दिए जाते हैं, जो नाकाफी हैं। गर्मी, बरसात व सर्दी के मौसम में कपड़े बार-बार धोने पर कुछ ही महीनों में फट जाते हैं। ऐसे में उन्हें कम से कम 2000 ड्रेस के नाम पर भी दिए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि यदि सरकार ने उनकी मांगे नहीं मानी तो राज्य कार्यकारिणी की बैठक में जो भी फैसला या रणनीति तैयार की जाएगी उसके बाद आगामी कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।