• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Jind
  • Government Asked For Details Of Patients Till 19, Health Department Does Not Have Data Of Third And Fourth Stage Patients

कैंसर के तीसरी चौथी स्टेज के पीड़ितों को मिलेगी पेंशन:सरकार ने 19 तक मांगा मरीजों का ब्योरा, स्वास्थ्य विभाग के पास तीसरी और चौथी स्टेज के मरीजों का डाटा नहीं

जींद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सरकार ने कैंसर पीड़ित तीसरी और चौथी स्टेज के मरीजों का ब्यौरा एकत्र करना शुरू कर दिया है। सरकार द्वारा तीसरी और चौथी स्टेज के कैंसर पीड़िताें को पेंशन दिए जाने की योजना है। स्वास्थ्य विभाग ने तीसरी व चौथी स्टेज के मरीजों का डाटा 19 मई तक मांगा है। हालांकि स्वास्थ्य विभाग के पास तीसरी व चौथी स्टेज के मरीजों का अलग से डाटा नहीं है।

जींद जिले की बात की जाए तो यहां पर 2169 कैंसर के मरीज हैं, जिनको मुफ्त बस पास की सुविधा दी गई है। विभाग के पास इनके नाम व पता तो रजिस्टर में दर्ज किए गए हैं, लेकिन यह जानकारी नहीं है कि मरीजों को कैंसर किस स्टेज पर है। जिले में कैंसर विशेषज्ञ भी नहीं है। इसलिए अस्पताल प्रशासन ने इसके लिए मुख्यालय से गाइडलाइन मांगी है। यही नहीं स्वास्थ्य विभाग द्वारा कैंसर मरीजों का जिस अस्पताल से इलाज चल रहा है, उसके दस्तावेज भी मांगे जाएंगे। इससे पता लग जाएगा कि मरीज को कैंसर किस स्टेज का है।

सीएम ने अंबाला में आयोजित कैंसर अस्पताल के उद्घाटन पर कैंसर रोगियों को प्रतिमाह पेंशन दिए जाने की घोषणा की थी। इसी को लेकर स्वास्थ्य विभाग ने प्रदेशभर में सभी मुख्य चिकित्सा अधिकारियों (सीएमओ) को पत्र भेज कर अपने यहां कैंसर रोगियों की जानकारी उपलब्ध करवाने के लिए कहा है, जो तीसरी और चौथी स्टेज पर हैं। इसे लेकर बाकायदा विभाग द्वारा एक प्रोफार्मा भी भेजा गया है। इसे भरकर 19 मई तक उपलब्ध करवाना है।

यह है कंडीशन : जरूरी दस्तावेज पूरे रखें

  • आवेदक हरियाणा का स्थाई निवासी होना चाहिए।
  • वह कैंसर की तीसरी और चौथी स्टेज पर होना चाहिए।
  • आवेदक की आयु 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए।
  • आवेदक के पास आधार कार्ड पता प्रमाण, वोटर कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, आईडी प्रूफ, आय प्रमाण पत्र, जन्म प्रमाण पत्र या 10 वीं की मार्कशीट (जन्म प्रमाण की तिथि), चिकित्सा प्रमाणपत्र (प्रमाणित करने के लिए आवेदक गंभीर कैंसर रोग से पीडि़त) है।
  • नाबालिगों के लिए सहायता राशि उनके माता-पिता, अभिभावकों के बैंक खातों में स्थानांतरित की जाएगी।
  • उसकी, उसके जीवनसाथी के साथ सभी स्रोतों से उसकी आय दो लाख रुपये प्रति वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए।

कैंसर से पीडि़त लोगों को पेंशन योजना का लाभ मिलेगा। इसके लिए मुख्यालय ने रिपोर्ट मांगी है। डॉ. मंजू कादियान, सीएमओ, जींद।

खबरें और भी हैं...