• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Jind
  • Instead Of Patchwork In The Pits On The Jind Narwana Highway, Soil Is Being Poured, The Problem Is Due To Flying Dust

फिर उखड़ा पैचवर्क:जींद-नरवाना हाइवे पर गड्ढों में पैचवर्क के बजाय डाली जा रही मिट्टी, उड़ती धूल से हो रही दिक्कत

जींद7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जींद-नरवाना नेशनल हाईवे पर खटकड़ से झांझ के बीच गड्ढों में भरा रेत। - Dainik Bhaskar
जींद-नरवाना नेशनल हाईवे पर खटकड़ से झांझ के बीच गड्ढों में भरा रेत।

जींद-नरवाना नेशनल हाइवे कहने को तो नेशनल हाईवे है और यहां टोल वसूली भी दूसरे टोल की बजाय ज्यादा है, लेकिन सुविधाएं बिल्कुल भी नहीं मिल पा रही हैं। खटकड़ से झांझ के बीच रोड पर 20 से ज्यादा गड्ढे हैं और इनमें एनएचएआई द्वारा पैचवर्क के बजाय इसमें मिट्टी डाल कर गड्ढे भरे जा रहे हैं। इससे वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। एक सप्ताह पहले ही इस रोड पर पैचवर्क के लिए पूरे दिन खटकड़ से झांझ के बीच रास्ता बंद रखा था और वाहनों को सर्विस रोड से गुजारा था, लेकिन एक सप्ताह में ही पैचवर्क उखड़ गया है। इसमें एनएचएआई द्वारा बालू रेत डाल दिया गया है। इससे लोगों में रोष बना हुआ है।

दिल्ली-पटियाला नेशनल हाईवे पर रोहतक की सीमा से जींद और नरवाना होते हुए पंजाब राज्य की सीमा से सटे गांव दातासिंहवाला तक करीब 552 करोड़ रुपए की राशि से नेशनल हाईवे बनाया गया है। खटकड़ के पास टोल प्लाजा बनाया गया है, जहां पर लाइट मोटर व्हीकल का एक तरफ का टोल कम से कम 110 रुपए है, अगर फास्टैग नहीं है तो एक तरफ का 200 रुपए तक टोल वसूला जाता है।

टोल की एवज में सुविधाएं कुछ भी नहीं दी जा रही हैं। जगह-जगह से रोड टूटा हुआ है। पैचवर्क लगाए जाते हैं लेकिन यह एक सप्ताह भी नहीं टिक पा रहे। सर्विस रोड भी खस्ता हालत में हो चुके हैं। टोल पर शौचालय की बेहतर सुविधा नहीं है। हाईवे पर गश्त नहीं की जाती तो साथ ही हाईवे की एंबुलेंस जांच में भी खामी सामने आ चुकी हैं।

पैचवर्क टूटने से निकल रहा रोड़ा और बजरी
खटकड़ गांव से झांझ के बीच नेशनल हाईवे को पिछले सप्ताह पैचवर्क का काम करने के चलते पूरे दिन ब्लॉक किया गया था। यहां पर पैचवर्क किया गया लेकिन यह पैचवर्क एक सप्ताह भी नहीं टिक पाया। पैचवर्क टूटने के बाद इससे बजरी और रोड़ा निकल आया है। आधा फीट गहरे तक गड्ढे हो गए हैं।

एनएचएआई के ठेकेदार ने दोबारा से पैचवर्क करने की बजाय इसमें रेत डालकर इन गड्ढों को भर दिया है, जबकि नियमों के अनुसार नेशनल हाईवे की सड़क पर ऐसा नहीं किया जा सकता। गड्ढो से वाहन गुजरते हैं तो रेत भी उड़ती है और गड्ढों में वाहन भी क्षतिग्रस्त हो रहे हैं। इससे लोगों में रोष बना हुआ है।

रोड सेफ्टी में उठाएंगे मुद्दा...
टीम जींद सुधार के सदस्य सुनील वशिष्ठ, समाजसेवी मास्टर प्रवीन बूरा और खटकड़ गांव निवासी राहुल ने कहा कि एनएचएआई द्वारा पैचवर्क ठीक से नहीं किया जा रहा। इसमें बढ़िया क्वालिटी का मटीरियल नहीं डाला जा रहा, तभी तो सड़क बार-बार उखड़ रही है। सुनील वशिष्ठ ने कहा कि आगामी रोड सेफ्टी की मीटिंग में इस मुद्दे को उठाया जाएगा, क्योंकि जींद से नरवाना के बीच यह समस्या कई बार सामने आ चुकी है।

इस मामले में एनएचएआई के अधिकारियों से बातचीत की जाएगी और बढ़िया पैचवर्क करवाया जाएगा, ताकि वाहन चालकों को किसी तरह की परेशानी नहीं आए। -डॉ. मनोज कुमार, डीसी, जींद।

खबरें और भी हैं...