शिव मंदिर में डकैती:पुलिस की वर्दी में आए 5 बदमाशों ने डडौता के शिव मंदिर में डाली डकैती

कैथल10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
डडौता डेरे में कार्रवाई करती पुलिस व मौके पर मौजूद लोग। - Dainik Bhaskar
डडौता डेरे में कार्रवाई करती पुलिस व मौके पर मौजूद लोग।

कोई खुद को पुलिसकर्मी बताकर घर या मंदिर का दरवाजा खुलवाए तो खुद के बचाव में चौकन्ने हो जाएं। आजकल बदमाश जिले में पुलिस बनकर घूम रहे हैं। शुक्रवार की रात पांच डकैत चीका क्षेत्र के गांव डडौता स्थित शिव मंदिर से दो लाख रुपए की नकदी, सोने की चेन, अंगूठी व चांदी के सिक्के लूटकर ले गए। मंदिरों में 39 दिन में ये तीसरी बड़ी डकैती है। गांव कठवाड़ व बाबा लदाना डेरे में हुई डकैती को पुलिस सुलझा भी नहीं पाई थी कि बदमाशों ने पुलिस को धत्ता बताते हुए तीसरी वारदात को अंजाम दे डाला। डकैती के बाद पुलिस हर बार की तरह लकीर ही पीटती रह गई, लेकिन हाथ कुछ नहीं लगा। खास बात ये है कि डडौता समेत सभी वारदातों को बदमाशों ने पुलिस बनकर ही अंजाम दिया है।

सभी वारदातों का तरीका और समय एक जैसा है, बावजूद इसके पुलिस बदमाशों को पकड़ना तो दूर उनकी पहचान भी नहीं कर पा रही है। लगातार हो रही डकैतियों से डेरा महंतों व पुजारियों में दहशत है। पुलिस सुरक्षा नहीं दे पा रही तो लोगों ने पहरे लगाने ही शुरू कर दिए हैं।

डडौता डेरे में ऐसे हुई वारदात
गांव डडौता स्थित शिव मंदिर के पुजारी बाबा दया पुरी ने बताया कि शुक्रवार रात 9 बजे वह खाना खाकर सो गया। मंदिर के बरामदे में सेवादार सुखविंद्र भी सो रहा था। रात करीब एक बजे पांच व्यक्ति होमगार्ड की वर्दी पहनकर आए। गेट खुलवाने के लिए आरोपियों ने कहा कि मंदिर में गलत काम होते हैं चेकिंग करनी है। गेट खुलते ही आरोपियों ने बाबा दयापुरी व सेवादार को पीटकर कमरे में बंद कर दिया। बाबा के गले से सोने की चेन, अंगूठी, मंदिर से दो लाख रुपए नकदी, चांदी के 15 सिक्के लूट लिए। बदमाशों ने मंदिर में लगे सीसीटीवी कैमरे तोड़ डाले और डीवीआर साथ ले गए।

39 दिन, 3 डेरे, डकैती का एक स्टाइल
सबसे पहले गांव कठवाड़ के बाबा बिहारी दास डेरा में डकैती हुई थी। 29 मार्च की रात खाकी कपड़े पहने बदमाश डेरे में घुसे। महंत से कहा कि वे पुलिस से हैं डेरे में नशा उगाने का पता चला है इसलिए चेकिंग करनी है। इसके बाद बदमाशों ने महंत व सेवादार को बंधक बनाकर 85 हजार रुपए, दो मोबाइल, सोने की तीन अंगूठी, कानों की मुर्की लूट ली। महंत व सेवादार को बंधकर बनाकर फरार हो गए। इसके बाद 25 अप्रैल की रात गांव बाबा लदाना स्थित डेरा बाबा राजपुरी में डकैती डाली। बदमाशों ने महंत दूजपुरी से कहा कि वे सीआईए स्टाफ से हैं। इसके बाद महंत व डेरे के एक साधू को बंधक बना लिया। डेरा से सात लाख रुपए नकदी, सोने की चार अंगूठी, मोबाइल व अन्य सामान लूटकर ले गए थे।

सूचना के बाद पुलिस मौका पर पहुंच गई थी। एफएसएल की टीम भी मौका पर आई है, मोबाइलों के डंप उठवा रहे हैं और आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों को भी चेक करेंगे। बदमाशों को जल्द से जल्द पकड़ लेंगे। लूट की वारदातें बढ़ने से लोग भी डरे हुए हैं। लोग अपने स्तर पर भी पहरा दे रहे हैं। जो संदिग्ध होता है उसे रोककर पूछताछ करते हैं। लेकिन लूटेरे पुलिस की वर्दी में आए। शायद बदमाशों की यही योजना थी कि कोई उन्हें रोके नहीं और न ही पहचान हो। कोई खुद को पुलिस बताकर दरवाजा खुलवाए तो दरवाजा खुलने से पहले थाने में फोन करके पता कर लें कि पुलिस है या नहीं आई है।-इंस्पेक्टर राजेंद्र कुमार, एसएचओ थाना चीका

खबरें और भी हैं...