• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Kaithal
  • Hindu Organization Also Came Out In Protest For Making A Tomb Or Bhurkha At Jyotisar Shrine, The Family Shifted The Bhurkha

ज्योतिसर तीर्थ पर कथित मजार टाइप भौरखे बनाने का मामला:ज्योतिसर तीर्थ पर मजार या भौरखे बनाने पर हिंदू संगठन भी विरोध में उतरा, परिवार ने भौरखे किए शिफ्ट

ज्योतिसर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अखंड भगवा भारत संघ के सदस्य ज्योतिसर तीर्थ पर पहुंचे लोगों से बात करती पुलिस। - Dainik Bhaskar
अखंड भगवा भारत संघ के सदस्य ज्योतिसर तीर्थ पर पहुंचे लोगों से बात करती पुलिस।

गीता उपदेश स्थली ज्योतिसर तीर्थ पर कथित मजार टाइप भौरखे बनाने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। इस मामले में अब हिंदू संगठन भी कूद पड़ा हैं। वहीं पुलिस भी जांच कर रही है। निर्माण करने वाले परिवार का कहना है कि यहां उनके भौरखे बनाए हैं। यह जगह उनके पूर्वजों के द्वारा बनवाई थी। भौरखों के साथ ही उनका भी दीपक यहां जलाते हैं। किसी दूसरे समाज का पीर नहीं बनाया है। आरोप लगाया कि यहां नीला कपड़ा किसी ने डाल कर इसे एक समुदाय विशेष का पीर बनाने की हरकत की है। इसे लेकर जानबूझ कर वीडियो वायरल किया। वहीं देर शाम परिवार ने खुद ही तीर्थ से इन्हें हटाकर दूसरी जगह शिफ्ट कर दिया।

दिया अल्टीमेटम : मंगलवार दोपहर को अखंड भगवा भारत संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामवीर अपने कुछ साथियों के साथ ज्योतिसर तीर्थ पर पहुंचे। तीर्थ परिसर में कृष्ण अर्जुन रथ के पीछे की तरफ बने स्थान के बारे में लोगों से पूछताछ की। इससे कुछ ही समय पहले केडीबी के मानद सचिव मनमोहन छाबड़ा व स्वामी ज्ञानानंद महाराज ज्योतिसर तीर्थ का अवलोकन करके गए थे। हिंदू संगठन अखंड भगवा भारत संघ के लोगों के यहां पहुंचने की खबर मिलते ही ज्योतिसर पुलिस चौकी प्रभारी रामसनेही भी टीम सहित मौके पर पहुंचे।

उन्होंने हिंदू संगठन के लोगों को पूरी बात बताई कि यहां पर मजार टाइप विवादित मजार टाइप जगह ज्योतिसर के ही एक हिंदू ब्राह्मण परिवार ने बनाई है। परिवार का कहना है कि यह जगह उनके होश संभालने से पहले की है। जो उनके पूर्वजों ने करीब 35-40 साल पहले बनाई होगी।

परिवार का तर्क-यहां हमारे भौरखे-नीला कपड़ा डालकर किसी ने की शरारत, वीडियो वायरल किया

परिवार ने संघ के प्रधान को बताई सच्चाई
इस पर हिंदू संगठन ने इसकी पुष्टि के लिए परिवार से मिलने की बात कही। जिस पर पुलिस अखंड भगवान भारत संघ के लोगों को उक्त परिवार के घर ले गई। जहां पर करीब आधा घंटा बातचीत हुई। परिवार ने संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामवीर, विकास शर्मा राकेश व अनिल को इस जगह की सच्चाई बताई।

चेतावनी , संगठन ने 15 दिन का दिया समय
परिवार के लोगों ने कहा यदि हिंदू संगठनों को इस मजार टाइप बने उनके भोरखों पर कोई आपत्ति है, तो वह इन्हें अपने खेत में शिफ्ट कर लेंगे, लेकिन उसके लिए उन्हें समय चाहिए। रामबीर ने परिवार को 15 दिन का समय दिया। कहा यदि यह जगह किसी पीर की है तो इसे उखाड़ दिया जाएगा यदि उनके पूर्वजों की याद में बने भौरखे हैं, तो उनको दोबारा से कंस्ट्रक्शन कर उसे हिंदू रीति रिवाज से बनाना होगा। कहा कि यदि इसे पीर की तरह ही पूजना है तो अपने खेतों में कहीं भी शिफ्ट कर लें।

किसी ने वीडियो बना की शरारत : पिंकी देवी
ज्योतिसर निवासी पिंकी देवी व विनोद ने कहा कि वे ब्राह्मण हैं। यहां हिंदू रीति रिवाज से पूजा करते हैं। इस जगह के बारे में वीडियो बनाकर गलत तरीके से प्रसारित किया गया। यहां उन लोगों ने चादर नहीं चढ़ाई। इसकी जांच होनी चाहिए कि यह नीली चादर किसने डाली।

अफवाहों पर न दें ध्यान : चौकी प्रभारी
पुलिस चौकी के प्रभारी रामसनेही ने कहा कि अखंड भारत भगवा संघ के लोगों ने परिवार से मिलने की मांग की थी । उन्हें परिवार से मिलवा दिया है । यह उनके भौरखों का स्थान है । लोगों को भी अफवाहों पर ध्यान नहीं देना चाहिए ।

खबरें और भी हैं...