जीएसटी टीम ने छापेमारी की तो पोल खुली,जीरो एफआईआर दर्ज:इटली गए खरक पांडवा के युवक को फर्जी तरीके से बनाया कंपनी में डायरेक्टर

कैथल18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

इटली गए खरक पांडवा के युवक को जींद के पिता व पुत्र ने फर्जी कागजात तैयार करके अपनी कंपनी का डायरेक्टर बना दिया। जिस युवक को डायरेक्टर बनाया उसे खुद भी भनक नहीं थी कि वह किसी कंपनी में डायरेक्टर बन चुका है। जीएसटी टीम ने कंपनी में छापा मारा तो आरोपियों द्वारा की गई धोखाधड़ी सामने आई। युवक के छोटे भाई की शिकायत पर कलायत थाना पुलिस ने जीरो एफआईआर दर्ज की है। गांव खरक पांडवा निवासी जसमेर सिंह ने पुलिस को शिकायत देकर आरोप लगाया कि जिला जींद के गांव बडनपुर निवासी सुधीर व श्री हरी लक्ष्मी इंटरप्राइजेज रिक्रूटमेंट सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड ने उसके बड़े भाई जसबीर के दस्तावेजों में फर्जीवाड़ा किया।

आरोपियों ने जसबीर को श्री हरी लक्ष्मी इंटरप्राइजेज रिक्रूटमेंट सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड में डायरेक्टर बना दिया। आरोप है कि सुधीर का पिता रमेश चंद जसबीर का दोस्त था। दोनों इटली में रहते थे। दोस्ती का फायदा उठाकर रमेशचंद ने जसबीर के फर्जी दस्तावेज तैयार करके मई 2018 में उसे कंपनी में डायरेक्टर बना दिया। आरोपियों ने सात जनवरी 2020 को जसबीर का कंपनी से इस्तीफा दिखा दिया।

आरोप है कि जिस तारीख में रमेशचंद ने जसबीर के जाली दस्तावेज तैयार किए उस समय जसबीर सिंह भारत की बजाय इटली था। कुछ समय बाद रमेशचंद की मृत्यु हो गई। उसके बाद रमेश के बेटे सुधीर ने 10 जनवरी 2021 को दोबारा फिर जसबीर को उसी कंपनी का डायरेक्टर बना दिया। जसमेर का आरोप है कि जब जीएसटी टीम ने कंपनी में छापा मारा उन्हें डायरेक्टर बनाए जाने का तब पता चला।

युवक की शिकायत पर आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी समेत विभिन्न धाराओं के तहत केस जीरो एफआईआर दर्ज की गई है। मामला गुरुग्राम से संबंधित है इसलिए केस को गुरुग्राम भेजा जाएगा और वहीं की पुलिस जांच करेगी। बलदेव सिंह, एसएचओ थाना कलायत

खबरें और भी हैं...