खेतों व डेराें में घुसा पानी:मंडवाल के पास नहर के किनारे दरके, 500 एकड़ धान की फसल को खतरा

राजौंद16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गांव मंडवाल के पास नहर टूटने से खेतों में भरा पानी। - Dainik Bhaskar
गांव मंडवाल के पास नहर टूटने से खेतों में भरा पानी।

गांव मंडवाल के पास गुजर रही राजौंद डिस्ट्रीब्यूट्री टूटने से सैकड़ों एकड़ धान की फसल जलमग्र हाे गई है। कई डेरों में पानी घुसा। गांव मंडवाल, कुक्करकड़ा के किसानों की धान की फसल डूबी। नहर का पानी पीछे से बंद करवा दिया है। लेकिन शाम साढ़े 6 बजे तक पानी का बहाव काफी तेज था। मौके पर सिंचाई विभाग के एसडीओ, एक्सईएन व राजौंद थाना प्रभारी पुलिस बल के साथ मौके पर मौजूद थे। किसान लाडी सिंह, सुखजीत, नवराज सिंह व अन्य किसानों ने बताया कि सुबह 11 बजे के आसपास टूटी नहर से उनके खेतों व डेरों में पानी घुस गया है, जिससे भारी नुकसान का अनुमान है।

ग्रामीण के अनुसार लगभग 500 एकड़ में पानी घुस चुका था। किसानों ने बताया कि धान की फसल पककर तैयार थी, जो नहर के टूटने की वजह से लगभग खराब हो गई है। किसान सुखजीत ने बताया कि उनके डेरे में पानी पहुंच चुका है और उसकी फसल भी पानी में डूब चुकी है। किसान लाडी ने बताया कि उनके डेरे में पानी घुस चुका है, उनके खेतों में दो से तीन फुट तक पानी घुस गया है। जेसीबी मशीन के साथ पेड़ उखाड़कर नाके को पाटने का कार्य साढ़े छह बजे के बाद शुरू किया गया।

जिसमें मिट्टी के कट्टे मौके पर भरकर लेबर व ग्रामीण तथा सेवादारों के सहयोग से जल्दी ही नाका बंद कर दिया जाएगा। इस संबंध में सिंचाई विभाग के एक्सईएन बलराज चौहान ने कहा कि पेड़ के साथ लगती रेतीली मिट्टी के कारण नहर टूटी है। कुरुक्षेत्र से नहर को बंद करवा दिया गया है। उन्होंने बताया कि इस नहर का प्रोजेक्ट अप्रूव हुआ है। महीने बाद इसका निर्माण कार्य शुरू किया जाएगा। वहीं राजौंद थाना प्रभारी सुरेंद्र कुमार ने बताया कि नाके को पाटने का कार्य शुरू किया हुआ है। मिट्टी के कट्टे भरे जा रहे है।

खबरें और भी हैं...