देवी की आराधना:नवरात्र के पहले दिन हुई मां शैलपुत्री की आराधना, देवी मंदिर के आचार्य ने बताया नवरात्र का महत्व

घरौंडा12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मां शैलपुत्री की आराधना करते हुए। - Dainik Bhaskar
मां शैलपुत्री की आराधना करते हुए।

शारदीय नवरात्र शुरू हो चुके हैं। नवरात्र के पहले दिन मंदिरों में मां शैलपुत्री की आराधना की गई। नवरात्रों को लेकर श्रद्धालुओं में खासा उत्साह दिखाई दे रहा है। मंदिरों को सजाया गया है और श्रद्धालु भी मंदिरों में पहुंचकर दुर्गा मां की स्तुति कर रहे हैं और अपनी मनोकामनाएं मांग रहे है।

देवी मंदिर के आचार्य मणिप्रसाद गौत्तम का कहना है कि नवरात्र सात अक्टूबर से 15 अक्तूबर तक रहेंगे। इस दौरान मां दुर्गा के नौ स्वरूपों की उपासना से सुख समृद्धि की इच्छाएं पूरी होती है। नवरात्र में देवी के नौ दिन के व्रत का बड़ा महत्व है। गुरुवार को शारदीय नवरात्र के पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा अर्चना की गई।

वहीं आचार्य मणि प्रसाद गौत्तम ने संध्या आरती में मां शैलपुत्री पर प्रवचन किए और प्रथम नवरात्र के महत्व पर प्रकाश डाला। आचार्य मणिप्रसाद गौत्तम ने कहा कि नवरात्र के पहले दिन को मां शैलपुत्री के दिन के रूप में मनाया जाता है और उनकी पूजा अर्चना की जाती है।

खबरें और भी हैं...