पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मेडिकल कॉलेज में होगी 40 डाॅक्टरों की भर्ती:कल्पना चावला मेडिकल कॉलेज में तैयार होगा 100 बेड का आईसीयू, ढाई करोड़ रुपए होंगे खर्च

करनाल9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
करनाल. सामान्य वार्ड को आईसीयू में किया जाएगा तब्दील। - Dainik Bhaskar
करनाल. सामान्य वार्ड को आईसीयू में किया जाएगा तब्दील।
  • काेरोना की संभावित तीसरी लहर की तैयारी

कल्पना चावला राजकीय मेडिकल कॉलेज में 100 बेड का आईसीयू तैयार किया जाएगा। इस प्रोजेक्ट पर ढाई करोड़ रुपए खर्च होंगे। हरियाणा पुलिस हाउसिंग कॉर्पोरेशन की देखरेख में एमजीपीएस कंपनी 45 दिन में इसे तैयार करेगी। इसकी पूरी ड्राइंग बनाकर कॉलेज के निदेशक को दे दी है। निदेशक की अप्रूवल मिलते ही काम शुरू हो जाएगा। कोरोना की दूसरी लहर में आईसीयू बेडों को लेकर सबसे ज्यादा मारा-मारी रही थी। अप्रैल और मई में मरीजों को वेंटीलेटर के लिए लंबा इंतजार करना पड़ा था। अब तीसरी लहर की संभावना को देखते हुए 100 बेड का अलग से आईसीयू तैयार किया जाएगा। जिन विभागों में पहले आईसीयू बेड हैं, वे पहले की तरह काम करते रहेंगे।

हरियाणा पुलिस हाउसिंग कॉर्पोरेशन के एसडीओ इंद्रपाल ने बताया कि सामान्य वार्ड को आईसीयू में बदला जाएगा। फिलहाल चौथी मंजिल पर सामान्य वार्ड है, कुछ बेडों पर ऑक्सीजन भी नहीं है। सबसे पहले सभी बेडों पर ऑक्सीजन पहुंचाई जाएगी। इसके लिए नीचे प्लांट से लेकर ऊपर चौथी मंजिल की पूरी ड्राइंग तैयार कर ली है। हर बेड पर ऑक्सीजन, वेक्यूम ओर एयरफ्लो का काम जल्द पूरा किया जाएगा। अगले 45 दिन में इस काम को पूरा कर लिया जाएगा। कंपनी के टेक्नीकल अधिकारी और कर्मचारियों की टीम आई हुई है। अगले दो से तीन दिन में काम शुरू कर देगी।

मरीजों को रोहतक-चंडीगढ़ नहीं करना पड़ेगा रेफर
आसपास किसी भी जिले में 100 बेड का आईसीयू नहीं है। यहां पर यह सुविधा होने पर मरीजों को इसका फायदा मिलेगा। मरीजों को प्राइवेट अस्पतालों में नहीं जाना पड़ेगा। प्राइवेट अस्पताल में एक दिन का आईसीयू का सात से दस हजार रुपए खर्च हो जाता है। लेकिन कल्पना चावला मेडिकल कॉलेज में यह सुविधा मुफ्त रहेगी। वेंटीलेटर के अभाव में मरीजों को चंडीगढ़ या रोहतक रेफर भी नहीं करना पड़ेगा। आईसीयू के लिए ऑक्सीजन के दो प्लांट लगकर तैयार हो गए हैं। इसके अलावा ऑक्सीजन प्लांट के पास सिलेंडरों के लिए भी गोदाम तैयार किया जाएगा। कई बार प्लांट से ऑक्सीजन की सप्लाई में दिक्कत आ जाती है, इसके बाद सिलेंडरों से ऑक्सीजन की सप्लाई देते हैं।

45 दिन में होगा तैयार
मेडिकल कॉलेज के डायरेक्टर डा. जगदीश चंद्र दुरैजा ने बताया कि 100 बेड के आईसीयू पर ढाई करोड़ रुपए खर्च होंगे। इसके लिए टेंडर दे दिया है। अगले डेढ़ माह में यह आईसीयू बनकर तैयार हो जाएगा। डॉक्टर, नर्सिंग और टेक्नीकल स्टॉफ की भर्ती की प्रक्रिया चल रही है। आईसीयू तैयार होने तक नियमित डॉक्टर भी संस्थान को मिल जाएंगे। करीब 40 नियमित डाक्टरों की भर्ती की प्रक्रिया चल रही है। रोहतक पीजीआई में इसके लिए इंटरव्यू भी चल रहे हैं।

खबरें और भी हैं...