पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Karnal
  • 20 Thousand Property Units Increased In 6 Years, Corporation's Income Will Increase By Crores, Development Will Happen In The City

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

राहत की उम्मीद:6 वर्षों में बढ़ी 20 हजार प्रॉपर्टी यूनिट, निगम की करोड़ों की आमदनी बढ़ेगी, शहर में होगा विकास

करनाल4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सीएम सिटी में पिछले छह साल में तकरीबन 20 हजार प्रॉपर्टी यूनिट बढ़ गई हैं। नगर निगम की पहले से 1.41 लाख प्रॉपर्टी यूनिट हैं, लेकिन अब नए सर्वे में यह 1.61 हजार हो रही हैं। हालांकि पुरानी प्रॉपर्टी यूनिट और नए सर्वे की प्रॉपर्टी यूनिट का मिलान किया जा रहा है। फाइनल आंकड़ों में कुछेक घटत-बढ़त हो सकती है। 20 हजार प्रॉपर्टी यूनिट बढ़ने से नगर निगम की सालाना करोड़ों रुपए में आमदनी बढ़ जाएगी। नगर निगम की हाल की यूनिट्स का एक साल का प्रॉपर्टी टैक्स बिल लगभग 23 करोड़ रुपए बनता है, जबकि नई प्रॉपर्टी एड होने के बाद यह तकरीबन 26 करोड़ तक जा सकता है।

इस तरह से नगर निगम की ओर से जारी किए जाने वाले सालाना प्रॉपर्टी टैक्स बिल में 3 करोड़ रुपए तक का इजाफा हाे सकता है। याशी कंपनी प्रॉपर्टी टैक्स के सर्वे में लगी हुई है। 30 दिसंबर तक इस सर्वे को पूरा किया जाना है। कंपनी के कर्मचारियों ने शहर में जियो टैगिंग के साथ सर्वे का काम किया है। शहर की विभिन्न कॉलोनियों में खाली प्लाॅटों की भी प्रॉपर्टी आईडी बनाई जा रही है। आने वाले समय में सरकार की ओर से कई सारी सुविधाएं व सर्टिफिकेट प्राप्त करने के लिए नो ड्यूज सर्टिफिकेट (एनडीसी) लेना अनिवार्य किया जा रहा है। इसलिए नगर निगम के अंतर्गत प्रॉपर्टी के मालिकों की ओर से प्रॉपर्टी टैक्स क्लियर होना जरूरी है।

प्राॅपर्टी टैक्स निगम की आय का मुख्य जरिया

नगर निगम की आय के यूं तो कृषि भूमि को पट्‌टे पर देना, कम्युनिटी हाल व दुकानों का किराया, बिजली टैक्स, सीवर-पेयजल बिल सहित कई स्रोत हैं, लेकिन इनमें प्रॉपर्टी टैक्स आय का मुख्य स्रोत है। निगम के कोष में आने वाला यह नकदी पैसा है। इसलिए नगर निगम इस साल प्रॉपर्टी टैक्स की प्राप्ति के लिए विशेष प्रयास कर रहा है।

मजबूत होगा निगम का कोष, अभी केवल हैं 10 करोड़

शहर की प्राॅपर्टी पर लगाए जाने वाले टैक्स की अदायगी से नगर निगम का वित्तीय कोष मजबूत होता है। सरकार की ग्रांट के साथ नगर निगम के कोष में अपना भी अच्छा पैसा होता है तो शहर के विकास में तेजी आएगी। हालांकि इन दिनों नगर निगम के वित्तीय कोष में 10 करोड़ रुपए से भी कम राशि बची है।

निगम का लोगों पर 287 करोड़ रुपए बकाया

नगर निगम को शहर के सरकारी, आवासीय व वाणिज्य इत्यादि प्रॉपर्टी यूनिट की तरफ तकरीबन 287 करोड़ रुपए प्रॉपर्टी टैक्स बकाया है। यह आंकड़ा गत 30 नवंबर 2020 तक के बकाया टैक्स का है। नगर निगम ने वर्ष 2019-20 के वित्तीय बजट में 23 करोड़ रुपए टैक्स के रूप में अनुमानित आमदनी का टारगेट रखा था, लेकिन अभी तक 13 करोड़ रुपए ही हासिल हुए हैं। अभी तक वित्त वर्ष में तीन माह का समय शेष है।

नगर निगम क्षेत्र में दोबारा से प्रॉपर्टी यूनिट का सर्वे कराया जा रहा है। बढ़ोतरी के साथ प्रॉपटी यूनिट 1.41 लाख से बढ़कर 1.61 लाख होने जा रही हैं। हालांकि अभी पुराने व नए सर्वे के तहत प्रॉपर्टी यूनिट के डाटा का मिलान चल रहा है। यह डाटा कम ज्यादा हो सकता है। नए सर्वे के तहत आगामी मई में नए टैक्स बिल जारी होंगे। जिन प्रॉपर्टी मालिकों को टैक्स बकाया है वे 31 दिसंबर तक जमा करके पूरा ब्याज माफी व 10 प्रतिशत छूट का लाभ ले सकते हैं। प्रॉपर्टी टैक्स डिफाॅल्टरों से वसूली के लिए जल्द ही सीलिंग कार्रवाई शुरू कराई जाएगी। गगनदीप सिंह, जाॅइंट कमिश्नर, नगर निगम, करनाल।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय निवेश जैसे किसी आर्थिक गतिविधि में व्यस्तता रहेगी। लंबे समय से चली आ रही किसी चिंता से भी राहत मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए बहुत ही फायदेमंद तथा सकून दायक रहेगा। ...

    और पढ़ें