रक्तदान शिविर का आयोजन:महर्षि वाल्मीकि प्रकट दिवस के उपलक्ष्य में लगाया रक्तदान कैंप

करनाल20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

महर्षि वाल्मीकि प्रकट दिवस के उपलक्ष्य में महर्षि भगवान वाल्मीकि पुरातन सभा ने 7वें रक्त दान शिविर का आयोजन वाल्मीकि मंदिर पोल्ट्री एरिया में किया। मुख्य अतिथि के रूप में नगर पालिका अध्यक्ष के प्रतिनिधि सतनाम सिंह आहूजा व वरिष्ठ अतिथि के रूप में पार्षद मोहित मल्होत्रा ने शिरकत की।

शिविर में 50 यूनिट रक्तदान एकत्रित किया गया। शिविर का संचालन सभा के अध्यक्ष कमल बिडलान ने किया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि सतनाम सिंह आहूजा ने कहा कि रक्तदान से बड़ा कोई दान नहीं, इससे कई लोगों का जीवन बचाया जा सकता है, लोगों द्वारा रक्त दान करने से दिल की सेहत में सुधार, दिल की बीमारियों और स्ट्रोक के खतरे को कम माना जाता है।

खून में आयरन की ज्यादा मात्रा दिल के दौरे के खतरे को बढ़ा सकती है। नियमित रूप से रक्तदान करने से आयरन की अतिरिक्त मात्रा नियंत्रित हो जाती है। जो दिल की सेहत के लिए अच्छी है। उन्होंने बताया कि कई बार मरीजों के शरीर में खून की मात्रा इतनी कम हो जाती है कि उन्हें किसी और व्यक्ति से ब्लड लेने की आवश्यकता पड़ जाती है।

ऐसी ही इमरजेंसी की स्थिति में खून की आपूर्ति के लिए लोगों को रक्तदान करने के लिए आगे आना चाहिए। इससे जरूरत मंद की मदद हो सकेगी। महर्षि जयंती के उपलक्ष्य में अपने विचार व्यक्त करते सभा के अध्यक्ष कमल बिडलान ने कहा कि महर्षि वाल्मीकि भगवान जहां रामायण रचयिता है, वहीं उन्होंने सभी प्राणियों को शिक्षित होने का संदेश भी दिया, उनके हाथ में कलम पकड़ना उनका यह स्पष्ट संदेश भी है।

खबरें और भी हैं...