सिंघु बॉर्डर पर 2 IAS-2 IPS किसानों को मनाएंगे:एक साइड खुलवाने के लिए बनाई गई समिति में किया शामिल, सोनीपत जाकर करेंगे किसानों से चर्चा

करनालएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सिंघु बॉर्डर पर रास्ता खुलवाने के लिए चंडीगढ़ में मुख्यमंत्री मनोहर लाल के नेतृत्व में हुई बैठक के बाद एक प्रदेश स्तरीय समिति का गठन किया गया है। इसमें दो IAS और दो IPS को शामिल किया गया है। हरियाणा गृह विभाग की तरफ से समिति में चार सदस्यों को शामिल करके राज्यपाल को प्रस्ताव भेजा गया है। यह समिति किसानों से बातचीत करके रास्ता खुलवाने का प्रयास करेगी।

बता दें कि पिछले 9 महीने से सिंघु बॉर्डर पर किसानों का धरना चल रहा है। यहां से आना-जाना पूरी तरह से बंद है। मोनिका अग्रवाल ने इस विषय पर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की, जिस पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने एक साइड को खोलने के आदेश दिए। इस पर सोनीपत प्रशासन ने 14 सितंबर को किसान संगठन के प्रतिनिधियों से बातचीत की। बैठक में सकारात्मक रवैया आने के बाद 15 सितंबर को CM मनोहर लाल के नेतृत्व में बैठक का आयोजन हुआ। इसमें किसानों से बातचीत की रणनीति तैयार की गई। साथ ही बातचीत समिति का गठन किया गया।

सोनीपत में किसान प्रतिनिधियों से बातचीत करते हुए जिला उपायुक्त।
सोनीपत में किसान प्रतिनिधियों से बातचीत करते हुए जिला उपायुक्त।

ये होंगे समिति सदस्य
गृह विभाग के ACS IAS राजीव अरोड़ा को समिति का अध्यक्ष बनाया गया है। पुलिस महानिदेशक IPS पीके अग्रवाल, लॉ एंड ऑर्डर अतिरिक्त निदेशक IPS नवदीप सिंह विर्क व गृह विभाग के सचिव IAS डॉ. बलकार सिंह को सदस्य नियुक्त किया गया है। इसके अलावा संबंधित मंडल आयुक्त, पुलिस आयुक्त, पुलिस महानिरीक्षक, जिला मजिस्ट्रेट और पुलिस अधीक्षक भी उक्त उद्देश्य के लिए समिति से जुड़े रहेंगे।

NH खुलवाने के लिए किसानों से चर्चा करेगी समिति
समिति आम जनता को किसी भी तरह की असुविधा से बचाने के लिए अंतरराज्यीय सड़कों और राष्ट्रीय राजमार्गों की नाकेबंदी के मुद्दे को हल करने के लिए किसान/किसान संगठनों के साथ विचार विमर्श करेगी।

खबरें और भी हैं...