पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कार्रवाई:अवैध कॉलोनियों में तोड़फोड़ के विरोध में पार्षदों ने हंगामा किया, नगर निगम कार्यालय में डीटीपी को घेरा

करनाल10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नगर निगम कार्यालय में डीटीपी से सवाल जवाब करते पार्षद। - Dainik Bhaskar
नगर निगम कार्यालय में डीटीपी से सवाल जवाब करते पार्षद।
  • नगर निगम और जिला योजनाकार की टीम ने चार कॉलोनियों में 7 शोरूम, दो निर्माणाधीन मकान, चारदीवारी गिराए
  • पार्षदों ने कहा - डीसी की बैठक में कोई हल नहीं निकला तो चुप नहीं बैठेंगे

नगर निगम और जिला योजनाकार की संयुक्त टीम ने अवैध कॉलोनियों में सुबह 8 बजे तोड़फोड़ की कार्रवाई को अंजाम दिया। टीम ने चार कॉलोनियों में 7 शोरूम, दो निर्माणाधीन मकान, चारदीवारी, डीपीसी, सीवरेज सिस्टम और कच्ची सड़कों को उखाड़ दिया। कॉलोनियों में तोड़फोड़ के विरोध में मेयर व पार्षदों का गुस्सा फूट पड़ा।

मेयर कार्यालय के बाहर पहले मेयर व पार्षदों ने नगर निगम कमिश्नर विक्रम पर सवालों की झड़ी लगा दी। सीएम के आदेश के बावजूद पहले से बने निर्माण को क्यों तोड़ा इसको लेकर सवाल पूछे गए, लेकिन कमिश्नर से कोई संतोषजक जवाब न मिलने पर पार्षदों ने हंगामा किया।

मेयर ने डीसी निशांत कुमार यादव से बात की और पार्षदों की तरफ से बिना नोटिस दिए ही लोगों के मकान, दुकान शाेरूम इत्यादि को तोड़ने पर आपत्ति जताई। डीसी ने मेयर को पार्षदों के साथ पांच बजे मीटिंग कर मामले में समाधान निकालने का आश्वासन दिया।

लेकिन इसी दौरान तभी डीटीपी ने नगर निगम कार्यालय में प्रवेश किया तो उसे देख पार्षद भड़क गए। पार्षदों ने डीटीपी को घेर लिया। पार्षदों ने डीटीपी की कार्रवाई का विरोध किया। पार्षदों ने कहा कि जब मुख्यमंत्री मनोहर लाल बन चुके निर्माण को न तोड़ने के आदेश दे चुके हैं तो फिर पुराने बने मकान, शोरूम को क्यों गिराया गया।

पार्षदों के सवालों और आक्रोश को देखकर डीटीपी निगम कार्यालय से बातचीत को छोड़कर निकल गए। पार्षदों ने कहा कि अगर लोगों के बनाए मकान इसी तरह तोड़े गए तो वे धरने पर बैठेंगे। तोड़फोड़ के विरोध में मेयर के आॅफिस में सीनियर डिप्टी मेयर राजेश अग्गी, डिप्टी मेयर नवीन कुमार, युद्धवीर सैनी, जोगेंद्र शर्मा, ईश गुलाटी, रजनी प्रोचा, पार्षद रामचंद्र काला, मुकेश अरोड़ा, पार्षद प्रतिनिधि राजेंद्र सिरसी, भूपेंद्र नौतना, गुरिंद्र सिंह, पार्षद सुदर्शन कालड़ा, वीर विक्रम कुमार, मोनू, जयभगवान लामबंद हुए और नगर निगम की तोड़फोड़ की कार्रवाई का विरोध किया।

बन चुके पुराने निर्माण न तोड़ने के लिखित में मंगाए जाएंगे ऑर्डर : बाद में डीसी के साथ बैठक करने के बाद मेयर रेणुबाला गुप्ता ने बताया कि बैठक में तय हुआ है कि मुख्यमंत्री को पत्र भेजकर लिखित में ऑर्डर मंगवाए जाएंगे, जिससे कि अब तक बन चुके मकान, दुकान व शोरूम नहीं तोड़े जाएंगे। अगर जरूरी हुआ तो उन्हें सील किया जा सकता है। नई कंस्ट्रक्शन पर बैन रहेगा।

पार्षदों ने की डीटीपी का ट्रांसफर करने की मांग

पार्षद जोगेंद्र शर्मा, युद्धवीर सैनी, ईश गुलाटी, राजेंद्र सिरसी, रजनी प्रोचा, भूपेंद्र नौतना ने कहा कि डीटीपी सरकार को बदनाम करने की नीयत से अवैध कॉलोनियों में कार्रवाई कर रहे हैं। सीएम की ओर से पार्षदों के साथ बैठक में पहले से बन चुके निर्माण को न तोड़ने की बात कहे जाने पर भी तोड़फोड़ की कार्रवाई की जा रही है। इसलिए डीटीपी का ट्रांसफर किया जाए और लोगों के नुकसान का हर्जाना भरवाया जाए।

20 साल पुरानी कॉलोनी, दो बार हो चुका सर्वे

नगर निगम की ओर से जिस मंगल कॉलोनी पार्ट-2 में तोड़फोड़ की कार्रवाई की गई है वह 20 साल पुरानी है। अप्रूव्ड के लिए दो बार सर्वे हो चुका है। लेकिन फिर भी उनमें मकानों को तोड़ा जा रहा है। मंगल कॉलोनी वासी सुरजीत, प्रवीन कुमार, रामप्रकाश, मनोज कुमार, प्रवीन त्यागी ने कहा कि एक माह में यह तीसरी कार्रवाई है। वे लोग जायज डेवलपमेंट चार्ज देने काे तैयार हैं, उनकी कॉलोनी में तोड़फोड़ नहीं होनी चाहिए।

लोग बोले- जो रिश्वत दे उनको छोड़ देते हैं जो न दे, चलाते हैं पीला पंजा

नगर निगम कार्यालय में एकत्र लोगों ने कहा कि जो लोग रिश्वत दे देते हैं, उनके मकानों व शोरूम को डीटीपी छोड़ देते हैं, लेकिन जो न दें तो उनके मकान-शोरूमों पर पीला पंजा चला देते हैं। पूर्व पार्षद सतीश कुमार ने तो डीटीपी के उस बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया की, जिसमें उन्होंने कहा कि वे रिश्वत नहीं लेते हैं।

पूर्व पार्षद ने कहा कि डीटीपी अपने बच्चों के साथ मंदिर में आएं और मैं भी अपने बच्चों को लेकर मंदिर में आता हूं। वे मंदिर में कसम खाकर कहें कि वे रिश्वत नहीं लेते हैं। उन्होंने कहा कि डीटीपी द्वारा रिश्वत ली जाती है जो रिश्वत नहीं देते उनके मकान व शोरूमों काे तोड़ दिया जाता है। इस दाैरान लोगों ने तो यह भी कह दिया कि जो एक लाख रुपए दे देगा उसका शोरूम बचेगा, नहीं तो तोड़ दिया जाएगा।

पार्षद बोले-सीएम की भी नहीं सुनते अधिकारी

  • पार्षद रामचंद्र काला ने कहा कि जो अधिकारी सीएम की भी नहीं सुनते हैं वह पार्षदों की कैसे सुनेंगे। अधिकारी मनमानी कर रहे हैं।
  • रजनी प्रोचा ने कहा कि सरकार कहती है कि जो कॉलोनी बन गई है वह 60-70 प्रतिशत डेवलप हो जाती है उसे अप्रूव्ड किया जाएगा, लेकिन जब मकान ही नहीं बनेंगे तो डेवलप कैसे होगी।
  • पार्षद जोगेंद्र शर्मा व युद्धवीर सैनी ने कहा कि सीएम के कहने के बावजूद बन चुके मकानों व शोरूम को तोड़ा जा रहा है। डीसी की बैठक में बाद में कोई हल नहीं निकला तो पार्षद चुप नहीं बैठेंगे।

सीनियर व डिप्टी मेयर बोले

  • सीनियर डिप्टी मेयर राजेश अग्गी ने कहा कि सीएम के आदेश अनुसार कोई भी पहले से बन चुका भवन नहीं तोड़ने दिया जाएगा। डीसी से बातचीत कर इसे रोका जाएगा। इस तरह से तोड़फोड़ की कार्रवाई गलत है।
  • डिप्टी मेयर नवीन कुमार ने कहा कि नगर निगम प्रशासन बन चुके मकानों व शोरूम को न तोड़े। लोग अपनी जिंदगीभर की कमाई लगाकर निर्माण कराते हैं। इस तरह से तोडफोड़ की कार्रवाई गलत हैं।

डीटीपी का पक्ष

जिला नगर योजनाकार विक्रम कुमार ने कहा कि जिन व्यक्तियों के निर्माणों को गिराया गया है, वे सभी अवैध रूप से बनाए गए थे। इसे रोकने के लिए नगर निगम की ओर से पहले हरियाणा म्यूनिसिपल कॉर्पोरेशन एक्ट 1994 के तहत बीती 19 जनवरी को पूर्व नगर पार्षद सतीश, हरीश छाबड़ा, विवेक और राजेश को कारण बताओ नोटिस देकर एक सप्ताह का समय दिया गया।

संबंधित व्यक्तियों द्वारा उसका समय पर उचित उत्तर न देने व किसी तरह का प्रमाण प्रस्तुत न करने पर 10 फरवरी को डैमोलिशएन ऑर्डर भेजे गए और नियत समय पर अवैध निर्माण गिराने की कार्रवाई की गई।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज जीवन में कोई अप्रत्याशित बदलाव आएगा। उसे स्वीकारना आपके लिए भाग्योदय दायक रहेगा। परिवार से संबंधित किसी महत्वपूर्ण मुद्दे पर विचार विमर्श में आपकी सलाह को विशेष सहमति दी जाएगी। नेगेटिव-...

    और पढ़ें