पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Karnal
  • De addiction Centers Of 5 To 10 Beds Will Be Set Up In Each Community Health Center Of The District, Drug Suppliers Will Be Caught

​​​​​​​नशा मुक्त भारत अभियान:जिले के प्रत्येक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में 5 से 10 बेड के नशा मुक्ति केंद्र होंगे स्थापित, नशा सप्लाई करने वाले पकड़े जाएंगे

करनाल6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • डॉ. मंगलसेन ऑडिटोरियम में अायाेजित सेमिनार में डीसी ने अधिकारियाे काे जानकारी दी

नशा मुक्त भारत अभियान के तहत जिला प्रशासन सक्रियता के साथ आगे बढ़ते हुए कुछ ओर ठोस उपाय करने जा रहा है। इसे लेकर जिले में कार्यरत नशा मुक्ति केंद्रों की संख्या बढ़ाई जाएगी, जिसमें प्रत्येक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में 5 से 10 बेड नशा पीड़ित व्यक्तियों के लिए अलग से रखे जाएंगे, ताकि नशे से पीड़ित व्यक्तियों का इलाज किया जा सके। मंगलवार को शहर के डॉ. मंगलसेन ऑडिटोरियम में आयोजित सेमीनार में बोलते हुए इस अभियान के मुख्यवाहक एवं डीसी निशांत कुमार यादव ने यह जानकारी दी। कार्यक्रम में पुलिस एसपी गंगा राम पुनिया भी मौजूद रहे।

स्कूलों में ड्रग कंट्रोल सैल गठित: डीसी ने कहा कि स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चे देश का भविष्य हैं, उन्हें नशे से दूर रखने के लिए 175 उच्च व वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालयों में नौवीं से बारहवीं के विद्यार्थियों के लिए ड्रग कंट्रोल सैल बनाए गए हैं। प्रत्येक सैल में एक अध्यापक और चैंपियन के तौर पर एक बच्चे को शामिल किया गया है। सैल अपने मकसद के लिए सुचारू रूप से कार्य करे, इसके लिए विद्यालय के प्राचार्य को जिम्मेदारी दी गई है। यह सैल ऐसे बच्चों का अर्ली डिटेक्शन यानि प्रारंभिक स्तर पर पता लगाएगा, जो किसी न किसी नशे से जुड़े हैं। ऐसे बच्चों का पता लगाकर उनकी काउंसलिंग की जाएगी और उनका इलाज करवाया जाएगा। ऐसे बच्चों का नाम गुप्त रखा जाएगा। सेमिनार में जिला नोडल अधिकारी एसडीएम मनदीप कुमार, एसडीएम गौरव कुमार, एसडीएम डॉ. पूजा भारती, एसडीएम सुमित सिहाग, डीईओ राजपाल, जिला बाल कल्याण अधिकारी विश्वास मलिक और रेडक्रॉस सचिव कुलबीर मलिक व नशा मुक्त भारत अभियान के सदस्य सचिव सत्यवान ढिलौड़।

विद्यालय के आस-पास नशे की चीजें बेचने पर है प्रतिबंध
डीसी ने बताया कि एक्ट के तहत किसी भी शिक्षण संस्था के आस-पास 100 मीटर की परिधि में नशे के पदार्थों की ब्रिकी प्रतिबंधित की गई है। इसके अमल के लिए धारा-144 भी लगाई गई है। ऐसे स्कूल जिनमें नशे से जुड़ गए विद्यार्थियों की संख्या ज्यादा है, उनमें शिविर लगाकर विद्यार्थियों को जागरूक करेंगे।

नशा सप्लाई करने वाले तथाकथित लोगों की होगी धर पकड़
डीसी ने बताया कि जो लोग नशीले पदार्थों की अवैध सप्लाई में संलिप्त होकर युवाओं का भविष्य खराब कर रहे हैं, अब पुलिस विभाग ऐसे लोगों की धर पकड़ कर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेगा। नशे से ग्रस्त व्यक्ति व बच्चों की काउंसलिंग के दौरान ऐसे लोगों और उनकी जगहों का पता लगाया जाएगा।

खबरें और भी हैं...