8 साल के बच्चे से मारपीट करने वाला डॉक्टर सस्पेंड:स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के आदेश पर DG ने जारी किए ऑर्डर; इलाज से मनाकर पर्ची फेंकी, परिजनों को धक्का देकर मारे थे थप्पड़

करनाल9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बच्चे के परिजनों को धक्का देकर केबिन से बाहर निकालता डॉक्टर। - Dainik Bhaskar
बच्चे के परिजनों को धक्का देकर केबिन से बाहर निकालता डॉक्टर।

हरियाणा के कैथल जिले के सरकारी अस्पताल के डॉक्टर की मनमर्जी और शर्मनाक रवैये के खिलाफ एक्शन ले लिया गया है। वायरल वीडियो पर संज्ञान लेते हुए स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने डॉक्टर को तुरंत सस्पेंड करने के आदेश दे दिए। मंत्री के आदेशों पर विभागीय डीजी ने डॉक्टर को सस्पेंड कर दिया है। आज ऑर्डर सामान्य अस्पताल कैथल में पहुंच जाएंगे। इसकी जानकारी स्वास्थ्य विभाग की डीजी वीना सिंह ने ही दी है।

आज पहुंच जाएगा ऑर्डर
डीजी वीना सिंह ने बताया कि अस्पताल से रिपोर्ट मंगवा ली गई है। जिसके आधार पर मारपीट करने वाले डॉक्टर को सस्पेंड किया गया है। आज अस्पताल में सस्पेंशन ऑर्डर पहुंच जाएगा।

बच्चे और उसके परिजनों के साथ मारपीट करता डॉक्टर व सुरक्षाकर्मी।
बच्चे और उसके परिजनों के साथ मारपीट करता डॉक्टर व सुरक्षाकर्मी।

क्या था पूरा मामला
रजनी कॉलोनी निवासी रोहताश कुमार का 8 वर्षीय बच्चा स्कूल की सीढिय़ों में गिरकर चोटिल हो गया था। वे बच्चे को लेकर उपचार के लिए सिविल अस्पताल की इमरजेंसी में पहुंचे। इमरजेंसी में स्टाफ ने पट्टी कर दी थी, लेकिन खून बहता रहा। बच्चा बचपन से हीमोफीलिया बीमारी से पीडि़त है। अक्सर ये दिक्कत आती रहती है और ऐसी स्थिति में बच्चे को फैक्टर 8 का इंजेक्शन दिया जाना जरूरी है।

इसी इंजेक्शन को लगवाने के लिए वे इमरजेंसी में तैनात एनटी विशेषज्ञ डॉ.. राकेश मित्तल के पास पहुंचे। उन्होंने इंजेक्शन लगाने से इनकार कर दिया। जब उन्होंने ने डायल 112 पर फोन मिलाया तो उन्होंने फोन छीन लिया और धरती पर दे मारा। साथ ही बच्चे व उनके साथ अभद्र व्यवहार किया और गालियां दीं। इस दौरान डाक्टर ने बच्चे को भी फेंक दिया। पर्ची को फेंककर मारा, इसके बाद उनको धक्का मारकर कैबिन से बाहर निकाल दिया। बाहर निकालने के बाद उन पर हाथ भी उठाया था। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ था।

खबरें और भी हैं...