युवक से 22 लाख की ठगी:रोजगार अधिकारी ने पहले नौकरी दिलाने के नाम पर 16 लाख रुपए लिए, नहीं मिली तो प्लाट दिलाने का कहकर 6 लाख रुपए और ठग लिए

करनाल3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक तस्वीर - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक तस्वीर

हरियाणा के करनाल जिले में डबल धोखा करने का मामला सामने आया है। रोहतक के एक व्यक्ति से रोजगार अधिकारी ने पहले नौकरी और फिर प्लॉट के नाम पर धोखा किया। इसके बाद गृह मंत्री के आदेश पर पुलिस ने दो के खिलाफ केस दर्ज किया है। गांव डेहरी जिला रोहतक निवासी सुरेंद्र कुमार ने मामले के शिकायतकर्ता हैं।

सुरेंद्र कुमार ने बताया कि रोजगार अधिकारी शमशेर सिंह कलिंगा करनाल ने अपने ससुर के साथ मिलकर उसके लड़के को नौकरी दिलाने के नाम पर 16 लाख रुपए लिए। जब लड़के की नौकरी नहीं लगी तो उन्होंने शमशेर सिंह कलिंगा से अपने पैसे वापस मांगे। जवाब में उसने एक प्लॉट रकबा 2000 वर्ग गज करनाल घोघड़ीपुर फाटक के साथ लगता बताया। इस प्लॉट की 1000 वर्ग गज की रजिस्ट्री हमारे नाम करवाने की बात कही।

साथ ही कहा कि बदले में 6 लाख रुपए और देने होंगे। इससे 1000 वर्ग गज के प्लॉट की कीमत पूरी हो जाएगी। इसका लिखित इकरारनामा शमशेर सिंह ने इलियास से कहकर लड़के पुनीत के नाम करवाया हुआ है। जब उन्होंने 1000 वर्ग गज की रजिस्ट्री करवानी चाही तो सच सामने आया। उक्त प्लॉट की रजिस्ट्री असल मालिक ने पहले ही किसी अन्य के नाम करवाई हुई थी। इस प्रकार अधिकारी ने पूरी प्लानिंग के तहत धोखाधड़ी की और 22 लाख रुपए हड़प लिए हैं।

बीमारी का इलाज कराने को पैसों की सख्त जरूरत

सुरेंद्र ने बताया कि पिछले 2 वर्ष से वह किडनी की बीमारी से ग्रस्त हैं। उसकी सप्ताह में दो बार डायलिसिस होती है। किडनी बदलवाने के बाद भी वे चलने-फिरने में असमर्थ हैं। ऐसे में उसे पैसे की सख्त जरूरत है। लेकिन शमशेर सिंह व उसके साथी पैसे देने का नाम नहीं ले रहे हैं। इस कारण वे और उसके परिवार के सदस्य मानसिक रूप से परेशान रहते हैं।

कब-कब दिए पैसे

शमशेर ने अपने आदमी विष्णु के माध्यम से 1 लाख रुपए मंगवाए। 5 लाख रुपए शमेशर सिंह व उसका ससुर घर आकर परिवार के सदस्यों के सामने ले गए। 8 लाख रुपए चैकों के माध्यम से ले लिए। 2 लाख रुपए इलियास नामक व्यक्ति आकर ले गया। एएसआई ने बताया कि पुलिस ने शिकायत के आधार पर शमशेर सिंह व इलियास के खिलाफ केस दर्ज करके जांच शुरू कर दी है।

खबरें और भी हैं...